IPL: नो बॉल न देने पर अंपायर से भिड़े कैप्टन कूल, BCCI ने ठोका जुर्माना

dhoni
IPL: नो बॉल न देने पर अंपायर से भिड़े कैप्टन कूल, BCCI ने ठोका जुर्माना

नई दिल्ली। मैदान में तमाम विपरित परिस्थितयों के बाद भी शांत रहने वाले कैप्टन कूल के नाम से मशहूर महेंद्र सिंह धोनीगुरुवार को राजस्थान रॉयल्स मैच में काफी गुस्से में नजर आए। दरअसल, राजस्थान के खिलाफ चेन्नई की बल्लेबाजी के दौरान 19वें ओवर में एक मौका ऐसा था जब स्टोक्स की गेंद पर अंपायर ने नो बॉल देने के बाद अपना फैसला बदल लिया था।

Ipl 2019 Ms Dhoni Fined After Fierce On Field Argument With Umpires :

इस पर धोनी आउट होने के बावजूद गुस्से में मैदान में उतर आए और अंपायर को दलीलें देने लगे। हालांकि, फैसला नहीं बदलने पर वे गुस्से में ही लौटे। धोनी की इस हरकत के लिए उनपर 50 प्रतिशत का जुर्माना ठोक दिया गया है। उन्हें नियमों आईपीएल के नियमों के उल्लंघन करने का दोषी पाया गया।

बीसीसीआई ने कहा,‘चेन्नई सुपर किंग्स के कप्तान एमएस धोनी पर मैच फीस का 50 प्रतिशत जुर्माना लगाया गया। उन्होंने जयपुर में राजस्थान रॉयल्स के खिलाफ मैच के दौरान आईपीएल आचार संहिता का उल्लंघन किया।’ उल्हास गांधे ने रॉयल्स के गेंदबाज बेन स्टोक्स की एक गेंद नो बॉल दी, लेकिन स्क्वेयर लेग अंपायर ब्रूस ओक्सेनफोर्ड से मशविरे के बाद फैसला वापस ले लिया।

यह मामला चेन्नै सुपर किंग्स की पारी के आखिरी ओवर से जुड़ा है। यहां एक नो-बॉल विवाद के चलते धोनी भी मैदान पर उतर आए। चेन्नै सुपर किंग्स को आखिरी ओवर में 18 रनों की जरूरत थी। ओवर की तीसरी गेंद पर धोनी बोल्ड हो गए।

आखिरी तीन गेंदों पर चेन्नै को जीतने के लिए 8 रन चाहिए थे और मिशेल सैंटनर स्ट्राइक पर थे। स्ट्रोक्स ने एक फुल टॉस फेंकी। अंपायर उल्हास गांधे ने उसे नो-बॉल करार दिया लेकिन स्क्वेअर लेग पर खड़े अंपायर ब्रूस ऑक्सनफर्ड ने इस फैसले को पलट दिया।

इसके बाद मैदान के बीच बहस शुरू हो गई। बल्लेबाज रविंद्र जडेजा और मिशेल सैंटनर भी इसमें शामिल हो गए। धोनी भी फील्ड में आ गए और वह अंपायर से बहस करने लगे। इसके बाद गेंद को सही पाया गया। हालांकि मिशेल सैंटनर के आखिरी बॉल पर लगाए गए छक्के ने चेन्नै सुपर किंग्स को जीत दिला दी।

नई दिल्ली। मैदान में तमाम विपरित परिस्थितयों के बाद भी शांत रहने वाले कैप्टन कूल के नाम से मशहूर महेंद्र सिंह धोनीगुरुवार को राजस्थान रॉयल्स मैच में काफी गुस्से में नजर आए। दरअसल, राजस्थान के खिलाफ चेन्नई की बल्लेबाजी के दौरान 19वें ओवर में एक मौका ऐसा था जब स्टोक्स की गेंद पर अंपायर ने नो बॉल देने के बाद अपना फैसला बदल लिया था।

इस पर धोनी आउट होने के बावजूद गुस्से में मैदान में उतर आए और अंपायर को दलीलें देने लगे। हालांकि, फैसला नहीं बदलने पर वे गुस्से में ही लौटे। धोनी की इस हरकत के लिए उनपर 50 प्रतिशत का जुर्माना ठोक दिया गया है। उन्हें नियमों आईपीएल के नियमों के उल्लंघन करने का दोषी पाया गया।

बीसीसीआई ने कहा,‘चेन्नई सुपर किंग्स के कप्तान एमएस धोनी पर मैच फीस का 50 प्रतिशत जुर्माना लगाया गया। उन्होंने जयपुर में राजस्थान रॉयल्स के खिलाफ मैच के दौरान आईपीएल आचार संहिता का उल्लंघन किया।’ उल्हास गांधे ने रॉयल्स के गेंदबाज बेन स्टोक्स की एक गेंद नो बॉल दी, लेकिन स्क्वेयर लेग अंपायर ब्रूस ओक्सेनफोर्ड से मशविरे के बाद फैसला वापस ले लिया।

यह मामला चेन्नै सुपर किंग्स की पारी के आखिरी ओवर से जुड़ा है। यहां एक नो-बॉल विवाद के चलते धोनी भी मैदान पर उतर आए। चेन्नै सुपर किंग्स को आखिरी ओवर में 18 रनों की जरूरत थी। ओवर की तीसरी गेंद पर धोनी बोल्ड हो गए।

आखिरी तीन गेंदों पर चेन्नै को जीतने के लिए 8 रन चाहिए थे और मिशेल सैंटनर स्ट्राइक पर थे। स्ट्रोक्स ने एक फुल टॉस फेंकी। अंपायर उल्हास गांधे ने उसे नो-बॉल करार दिया लेकिन स्क्वेअर लेग पर खड़े अंपायर ब्रूस ऑक्सनफर्ड ने इस फैसले को पलट दिया।

इसके बाद मैदान के बीच बहस शुरू हो गई। बल्लेबाज रविंद्र जडेजा और मिशेल सैंटनर भी इसमें शामिल हो गए। धोनी भी फील्ड में आ गए और वह अंपायर से बहस करने लगे। इसके बाद गेंद को सही पाया गया। हालांकि मिशेल सैंटनर के आखिरी बॉल पर लगाए गए छक्के ने चेन्नै सुपर किंग्स को जीत दिला दी।