इकबाल कास्कर का खुलासा: इकलौते बेटे के कारण डॉन दाऊद इब्राहिम डिप्रेशन में

Dawood
इकबाल कास्कर का खुलासा: इकलौते बेटे के कारण डॉन दाऊद इब्राहिम डिप्रेशन में
मुंबई। लोगों को धमकी देकर उगाही करने के मामले में मुंबई पुलिस द्वारा गिरफ्तार किए गए अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम के भाई इकबाल कास्कर ने बड़ा खुलासा किया है। इकबाल के मुताबिक दाऊद इब्राहिम इन दिनों डिप्रेशन के दौर से गुजर रहा है। उसने अपने करीबी और विश्वासपात्र लोगों से भी दूरी बना रखी है। उसकी इस हालत की वजह उसका इकलौता बेटा मोइन है, जिसने मौलना बनकर दाऊद की योजनाओं पर पानी फेर दिया है। कास्कर के मुताबिक दाऊद…

मुंबई। लोगों को धमकी देकर उगाही करने के मामले में मुंबई पुलिस द्वारा गिरफ्तार किए गए अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम के भाई इकबाल कास्कर ने बड़ा खुलासा किया है। इकबाल के मुताबिक दाऊद इब्राहिम इन दिनों डिप्रेशन के दौर से गुजर रहा है। उसने अपने करीबी और विश्वासपात्र लोगों से भी दूरी बना रखी है। उसकी इस हालत की वजह उसका इकलौता बेटा मोइन है, जिसने मौलना बनकर दाऊद की योजनाओं पर पानी फेर दिया है।

कास्कर के मुताबिक दाऊद के बेटे मोइन ने अपने पिता से बगावत कर धर्मगुरु बनने का फैसला लिया है बल्कि वह किसी धार्मिक स्थल पर बतौर मौलाना रखने लगा है। उसने करांची के पॉश इलाके में बने अपने पिता के बंगले को छोड़ दिया है।

{ यह भी पढ़ें:- 'चरणस्पर्श' न कहने पर एसपी हुए नाराज, दर्जनों असलहाधारी साथ लेकर चल रहे भाजपा विधायक }

सूत्रों की माने तो इकबाल कास्कर ने मुंबई पुलिस के सामने बताया है कि दाऊद इब्राहिम के घर के अंदरूनी हालात इतने खराब हैं कि डॉन किसी से बात तक नहीं कर रहा है। उसका छोटा भाई भी बीमार है, जिस वजह से दुनिया भर में फैले डॉन के अवैध कारोबारों की देखभाल करने वाला कोई नहीं है। जिस बेटे मोइन पर डॉन की उम्मीदें टिकीं थी, उसने अपने बाप के गैरकानूनी धंधों की जिम्मेदारी लेने के बजाय धर्म की राह पर चलने का फैसला कर लिया। जिसके बाद पहले से बीमार चल रहे दाऊद का शरीर दिन ब दिन कमजोर होता जा रहा है। दाऊद मानसिक और शारीरिक रूप से टूट चुका है। उसके परिवार के लोग आपस में बात तक नहीं करते हैं।

कास्कर के बयान के मुताबिक मोइन नहीं चाहता था कि वह अपने पिता की तरह ही एक भगोड़े की जिन्दगी जीने के लिए एक देश से दूसरे देश में छिपता घूमे। अपराध और गैर कानूनी धंधों से दूर वह सुकून भरी जिन्दगी की तलाश में था। जिस वजह से उसने अपने पिता के विरुद्ध जाकर मौलाना बनने का फैसला किया।

{ यह भी पढ़ें:- 'डी कंपनी' पर 'सुप्रीम' फैसला, जानें क्या है मामला }

 

Loading...