ईरान ने फिर अमेरिकी आर्मी बेस को बनाया निशाना, इराक में बने अड्डों पर दागी 8 मिसाइलें

us
ईरान ने फिर अमेरिकी आर्मी बेस को बनाया निशाना, इराक में बने अड्डों पर दागी 8 मिसाइलें

नई दिल्ली। ईरान (Iran) और अमेरिका (US) के बीच तनाव कम नहीं हो रहा है। रविवार को एक बार फिर अमेरिकी सैन्य बेस पर जोरदार हमला किया गया है। इराक के अल बलाद स्थित अमेरिकी एयरबेस पर 8 रॉकेट दागे गए, जिसमें चार लोग जख्मी हो गए। सूत्रों ने बताया कि पिछले दो सप्ताह में अमेरिका और ईरान के बीच बढ़े तनाव के मद्देनजर अल-बलाद एयरबेस पर तैनात ज्यादातर अमेरिकी पायलट पहले ही वहां से जा चुके हैं।

Iran Again Targets Us Army Base 8 Missiles Fired At Bases In Iraq :

अमेरिकी सेना को वापस बुलाने के ऐलान बाद हुआ हमला

यह हमला इराक के निवर्तमान प्रधानमंत्री अदेल अब्देल महदी के संयुक्त राज्य अमेरिका को बगदाद में एक प्रतिनिधिमंडल भेजकर अपनी सेना को वापस बुलाने की घोषणा के तीन दिन बाद हुआ है। महदी ने कहा था कि अमेरिका के पास अपने सैनिकों को वापस बुलाने के अलावा कोई विकल्प नहीं है। महदी ने नवंबर में सरकार विरोधी प्रदर्शनों के बाद इस्तीफा दे दिया था। उन्होंने कहा कि इराक चाहता है कि अमेरिका यहां से अपने सैनिकों को हटा ले ताकि आगे स्थिति खराब न हो क्योंकि अमेरिका और ईरान के बीच तनाव काफी बढ़ चुका है।

अमेरिका ने ईरानी जनरल को मारा था

अमेरिका के एक हवाई हमले में ईरान के एक शीर्ष जनरल कासिम सुलेमानी की मौत के कुछ दिनों के बाद उनकी यह टिप्पणी आई थी। बगदाद में अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डे पर पहुंचने के कुछ देर के बाद जनरल को निशाना बनाया गया था। इस हमले में ईरान समर्थित मिलिशिया के एक इराकी कमांडर अबु महदी-अल मुहंदिस की भी मौत हो गई थी।

अमेरिकी एयरबेस पर बढ़े हमलेहाल के महीनों में अमेरिकी सैनिकों की तैनाती वाले शिविरों पर रॉकेटों और मोर्टार से लगातार हमले हो रहे हैं। हालांकि इन हमलों में ज्यादातर इराकी सैनिक ही घायल होते हैं, लेकिन पिछले महीने एक अमेरिकी ठेकेदार भी मारा गया था।

जनरल सुलेमानी के मारे जाने के बाद अमेरिका और ईरान के बीच तनाव बढ़ा है। ईरान ने जवाबी कार्रवाई में गफलत करते हुए यूक्रेन के एक पैसेंजर विमान को गिरा दिया था। साथ ही उसने अमेरिका से परमाणु संधि को खत्‍म करने का ऐलान भी कर दिया था। सुलेमानी की मौत के बाद से ईरान ने इराक में अमेरिकी सैन्‍य ठिकानों को निशाना बनाया है।  

नई दिल्ली। ईरान (Iran) और अमेरिका (US) के बीच तनाव कम नहीं हो रहा है। रविवार को एक बार फिर अमेरिकी सैन्य बेस पर जोरदार हमला किया गया है। इराक के अल बलाद स्थित अमेरिकी एयरबेस पर 8 रॉकेट दागे गए, जिसमें चार लोग जख्मी हो गए। सूत्रों ने बताया कि पिछले दो सप्ताह में अमेरिका और ईरान के बीच बढ़े तनाव के मद्देनजर अल-बलाद एयरबेस पर तैनात ज्यादातर अमेरिकी पायलट पहले ही वहां से जा चुके हैं। अमेरिकी सेना को वापस बुलाने के ऐलान बाद हुआ हमला यह हमला इराक के निवर्तमान प्रधानमंत्री अदेल अब्देल महदी के संयुक्त राज्य अमेरिका को बगदाद में एक प्रतिनिधिमंडल भेजकर अपनी सेना को वापस बुलाने की घोषणा के तीन दिन बाद हुआ है। महदी ने कहा था कि अमेरिका के पास अपने सैनिकों को वापस बुलाने के अलावा कोई विकल्प नहीं है। महदी ने नवंबर में सरकार विरोधी प्रदर्शनों के बाद इस्तीफा दे दिया था। उन्होंने कहा कि इराक चाहता है कि अमेरिका यहां से अपने सैनिकों को हटा ले ताकि आगे स्थिति खराब न हो क्योंकि अमेरिका और ईरान के बीच तनाव काफी बढ़ चुका है। अमेरिका ने ईरानी जनरल को मारा था अमेरिका के एक हवाई हमले में ईरान के एक शीर्ष जनरल कासिम सुलेमानी की मौत के कुछ दिनों के बाद उनकी यह टिप्पणी आई थी। बगदाद में अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डे पर पहुंचने के कुछ देर के बाद जनरल को निशाना बनाया गया था। इस हमले में ईरान समर्थित मिलिशिया के एक इराकी कमांडर अबु महदी-अल मुहंदिस की भी मौत हो गई थी। अमेरिकी एयरबेस पर बढ़े हमलेहाल के महीनों में अमेरिकी सैनिकों की तैनाती वाले शिविरों पर रॉकेटों और मोर्टार से लगातार हमले हो रहे हैं। हालांकि इन हमलों में ज्यादातर इराकी सैनिक ही घायल होते हैं, लेकिन पिछले महीने एक अमेरिकी ठेकेदार भी मारा गया था। जनरल सुलेमानी के मारे जाने के बाद अमेरिका और ईरान के बीच तनाव बढ़ा है। ईरान ने जवाबी कार्रवाई में गफलत करते हुए यूक्रेन के एक पैसेंजर विमान को गिरा दिया था। साथ ही उसने अमेरिका से परमाणु संधि को खत्‍म करने का ऐलान भी कर दिया था। सुलेमानी की मौत के बाद से ईरान ने इराक में अमेरिकी सैन्‍य ठिकानों को निशाना बनाया है।