1. हिन्दी समाचार
  2. इरफान खान हुए सुपुर्द-ए-खाक पर अपने इन डायलॉग्स और फिल्मो से हमेशा किये जाएंगे याद

इरफान खान हुए सुपुर्द-ए-खाक पर अपने इन डायलॉग्स और फिल्मो से हमेशा किये जाएंगे याद

Irfan Khans Last Rites Will Always Be Remembered With Our Dialogues And Films

मुंबई। बॉलीवुड एक्टर इरफान खान का बुधवार को निधन हो गया। उनकी मौत की खबर सुनकर पूरा देश सदमे में हैं। बता दें कि वो काफी लंबे अरसे से कैंसर से पीड़ित थे, उनका लंदन में काफी दिनो तक इलाज चला था और जब हालत में थोड़ा सुधार हुआ था तो घर आ गये थे। मंगलवार को उनकी अचानक तबीयत खराब हुई थी जिसके बाद उन्हें कोकिलाबेन अस्पताल में एडमिट कराया गया था लेकिन मौत के साथ जंग में वह हार गए। इरफान को उनकी बेहतरीन एक्टिंग के लिए जाना जाता है। हीरो का रोल हो या फिर विलेन की भूमिका, उन्होंने अपनी सहजता भरी एक्टिंग से लोगों के दिल में खास जगह बनाई है। फिल्मों में उनके डायलॉग्स आज भी लोगों के दिलो दिमाग में हैं। इरफान ने बॉलीवुड को कई बेहतरीन फिल्में दी हैं। कई फिल्मों में उन्होंने अपनी परफॉर्मेंस से लोगों के दिल में खास जगह बनाई है। आइये आज उनके कुछ दमदार डायलॉग्स और फिल्मों को याद करते हैं।

पढ़ें :- नया घर खरीदनें जा रहे है ऋषभ पंत, आपके आस-पास हो अच्छी लोकेशन तो उन्हें जरूर बताएं

टॉप 10 फिल्में

पान सिंह तोमर
इरफान खान की इस फिल्म का निर्देशन डायेरक्टर तिग्मांशु धूलिया ने किया था। इस फिल्म में इरफान ने मशहूर एथलीट से डकैत बने पान सिंह तोमर का किरदार निभाया था। फिल्म में शानदार एक्टिंग के लिए इरफान को बेस्ट एक्टर के नेशनल फिल्म अवॉर्ड नवाजा गया था।

हिंदी मीडियम
इस फिल्म के लिए इरफान इरफान को बेस्ट एक्टर का फिल्मफेयर अवॉर्ड मिला था। इसमे अपनी बेहतरीन अदाकारी से इरफान ने सभी का दिल जीत लिया था। देश की शिक्षा व्यवस्था पर बनी इस फिल्म में इरफान के साथ दीपक डोबरियाल अहम भूमिका निभाई थी। यह फिल्म साल 2017 में रिलीज हुई थी।

हासिल
इस फिल्म में इरफान खान ने निगेटिव रोल प्ले किया था। फिल्म में रणविजय सिंह के किरदार के लिए इरफान को नेगेटिव रोल के लिए फिल्मफेयर अवॉर्ड मिला था। फिल्म का डायरेक्शन तिग्मांशु धूलिया ने किया था।

पढ़ें :- खुफिया विभाग को 20 दिन पहले ही मिली थी ये महत्वपूर्ण जानकारी, अधिकारियों के साथ हुई थी बैठक!

मकबूल
साल 2003 में रिलीज इरफान की इस फिल्म का डायरेक्शन विशाल भारद्वाज ने किया था। यह फिल्म शेक्सपीयर के मशहूर नाटक मैकबेथ का अडॉप्शन थी। फिल्म में इरफान ने लीड किरदार निभाया था। फिल्म में पंकज कपूर, ओम पुरी, नसीरुद्दीन शाह, तब्बू और पीयूष मिश्रा जैसे मशहूर कलाकार थे, लेकिन इस फिल्म में जो काम इरफान ने किया है उसे आज तक याद किया जाता है।

पीकू
इस फिल्म में इरफान खान ने अमिताभ बच्चन और दीपिका पादुकोण के साथ काम किया था। यह फिल्म 2014 में रिलीज हुई थी। शूजीत सरकार के डायरेक्शन में बनी इस फिल्म में इरफान ने राणा चौधरी का किरदार निभाया था जो पीकू से प्यार करता है। फिल्म की कहानी को बहुत सराहा गया।

बिल्लू
2009 में रिलीज हुई फिल्म बिल्लू मे इरफान खान ने एक बारबर का रोल प्ले किया था। फिल्म में शाहरुख खान ने भी अहम भूमिका निभाई थी। फिल्म का निर्देशन प्रियदर्शन ने किया था। फिल्म में इरफान के काम को बहुत पसंद किया गया।

लाइफ ऑफ पाई
इरफान बॉलीवुड ही नहीं बल्कि हॉलीवुड फिल्मों में भी अपनी एक्टिंग का जलवा दिखा चुके हैं। 2012 में रिलीज हुई इस हॉलीवुड फिल्म में इरफान ने पाई का लीड कैरेक्टर निभाया गया था। इस फिल्म में इरफान ने अपनी एक्टिंग से पूरी दुनिया कायल को कायल बना लिया था। इस फिल्म को दुनियाभर के कई अवॉर्ड्स से नवाजा गया था।

नेमसेक
झुंपा लाहिड़ी के मशहूर नॉवेल द नेमसेक पर आधारित इस फिल्म ने इरफान को इंटरनेशनल स्तर पर जबरदस्त पहचान दिलाई थी। फिल्म को कई इंटरनेशनल अवॉर्ड मिले थे। फिल्म में इरफान के साथ तब्बू ने काम किया था।

पढ़ें :- ट्रैक्टर रैली में बवालः दिल्ली पुलिस ने 20 किसान नेताओं को भेजा नोटिस, तीन दिन में मांगा जवाब

लंच बॉक्स
इरफान खान की इस फिल्म को देश-विदेश में काफी तारीफ मिली थी और इसे कई अवॉर्ड्स से भी नवाजा गया था। फिल्म में इरफान के साथ नवाजुद्दीन सिद्दीकी और निमरत कौर ने मुख्य भूमिकाएं निभाई थीं। मानवीय रिश्तों पर बनी इस फिल्म में इरफान ने अकेले रहने वाले एक अधेड़ आदमी का किरदार निभाया था।

अंग्रेजी मीडियम
यह इरफान खान की आखिरी फिल्म थी। यह 2017 में रिलीज हुई फिल्म हिंदी मीडियम का सीक्वल थी। विदेश में कैंसर का इलाज कराकर लौटने के बाद उन्होंने इस फिल्म में काम किया था। फिल्म को काफी तारीफ मिली और इसमें इरफान के साथ करीना कपूर, राधिका मदान और दीपक डोबरियाल जैसे सितारों ने काम किया था।

 

 

इरफान के फेमस डायलॉग्स

हैदर
दरिया भी मैं, दरख्त भी मैं, झेलम भी मैं चिनार भी मैं, दैर हूं हरम भी हूं, शिया भी हूं सुन्नी भी हूं, मैं हूं पंडित, मैं था मैं हूं और मैं ही रहू्ंगा।

पढ़ें :- हेल्ली दारूवाला का वीडियो वायरल, चोली के पीछे गाने की धून पर कर रहीं हैं बेली डांस

गुंडे
‘पिस्तौल की गोली और लौंडिया की बोली जब चलती है, तो जान दोनों में ही खतरे में होती है।’

हासिल
और जान से मार देना बेटा, हम रह गये ना, मारने में देर नहीं लगाएंगे, भगवान कसम।

पीकू
डेथ और शिट, किसी को, कहीं भी, कभी भी, आ सकती है।

मदारी
तुम मेरी दुनिया छीनोगे, मैं तुम्हारी दुनिया में घुस जाउंगा।

हिंदी मीडियम
एक फ्रांस बंदा, जर्मन बंदा स्‍पीक रॉन्‍ग इंग्‍लिश, वी नो प्रॉब्‍लम, एक इंडियन बंदा से रॉन्‍ग इंग्‍लिश, बंदा ही बेकार हो जाता है जी।

डीडे
गलतियां भी रिश्‍तों की तरह होती हैं, करनी नहीं पड़ती, हो जाती है।

जज़्बा
शराफत की दुनिया का किस्‍सा ही खतम, अब जैसी दुनिया वैसे हम।

पढ़ें :- बॉलीवुड अभिनेत्री श्रद्धा कपूर करने जा रहीं हैं शादी, इस नाम को लेकर चर्चा!

पान सिंह तोमर
बीहड़ में बागी होते हैं, डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में।

साहेब बीवी और गैंगस्टर
हमारी तो गाली पर भी ताली पड़ती है।

तलवार
किसी भी बेगुनाह को सजा मिलने से अच्छा है दस गुनहगार छूट जाए।

कसूर
आदमी जितना बड़ा होता है, उसके छुपने की जगह उतनी ही कम होती है।

लाइफ इन मेट्रो
ये शहर हमें जितना देता है, बदले में कहीं ज्‍यादा हम से ले लेता है।

करीब करीब सिंगल
टोटल तीन बार इश्‍क किया, और तीनों बार ऐसा इश्‍क मतलब जानलेवा इश्‍क, मतलब घनघोर हद पार।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...