तो क्या सच में इरफान को है ब्रेन कैंसर? जानिए क्या है डेथ ऑफ डायग्‍नोसिस

तो क्या सच में इरफान को है ब्रेन कैंसर? जानिए क्या है डेथ ऑफ डायग्‍नोसिस
तो क्या सच में इरफान को है ब्रेन कैंसर? जानिए क्या है डेथ ऑफ डायग्‍नोसिस

नई दिल्ली। 51 वर्षीय बॉलीवुड अभिनेता इरफान खान ने सोमवार 5 मार्च को अपने ट्विटर अकाउंट पर खुद से जुड़ी एक गंभीर बीमारी की खबर शेयर की थी। इरफान ने अपने ट्विटर अकाउंट पर पोस्ट करते लिखा कि उन्हें एक गंभीर बीमारी ने घेर लिया है, जिसके बारे में वह जल्द ही जानकारी देंगे। वहीं अब खबरें आ रही हैं कि इरफान खान को ब्रेन कैंसर है और वो इस वक्त मुंबई के कोकीला बेन अस्पताल में भर्ती हैं।

Irrfan Khan Admitted In Kokilaben Hospital Has Brain Cancer :

अपनी बीमारी के बारे में जानने के बाद एक्टर इरफान खान ने सबसे फैंस और मीडिया से दरख्वास्त की है कि उन्हें थोड़ा खुद के साथ वक्त बिताने का मौका दिया जाए। वह 10 दिन के लिए खुद के साथ समय बिताना चाहते हैं। बताया जा रहा है कि इरफान खान Glioblastoma Multiforme (GBM) Grade IV से पीड़ित हैं। डेडली ब्रेन कैंसर जिसे डेथ ऑन डायगनॉसेस के नाम से भी जाना जाता है।

वहीं दूसरी तरफ खबरें आ रही हैं कि इरफान अभी दिल्ली में हैं और अपनी बीमारी के कारणों का पता लगा रहे हैं। स्टेटमेंट जारी करते हुए उन्होंने कहा है कि वह अपने स्वास्थ्य से जुड़ी हर संभव जानकारी देंगे। तब तक के लिए इस तरह की अफवाहों को नजरअंदाज करें।

इरफान खान ने अपने ट्विटर से पोस्ट कर कहा था, ‘दोस्तों, कभी-कभी आप एक झटके के साथ उठते हैं, उस वक्त जिंदगी आपको हिला कर रख देती है। मेरी जिंदगी के पिछले 15 दिन एक सस्पेंस स्टोरी की तरह बीते हैं। मुझे नहीं पता था कि दुर्लभ कहानियों की मेरी खोज मुझे एक दुर्लभ बीमारी तक पहुंचा देगी। मैंने अपनी जिंदगी में कभी हार नहीं मानी, मैं हमेशा लड़ा हूं। और हमेशा लड़ता ही रहूंगा। मेरी इस जंग में मेरा परिवार और मेरे दोस्त मेरे साथ हैं। इस घड़ी में अच्छे से निपटने की कोशिश जारी है। तब तक के लिए अपने आप से कोई अंदाजा न लगाएं। 10 दिन के अंदर सारी रिपोर्ट्स आ जाएंगी तो मैं खुद ही आपके सामने सब कुछ रख दूंगा।’

क्या होता है डेथ ऑफ डायग्‍नोसिस

जीबीएम को ‘डेथ ऑफ डायग्‍नोसिस’ भी कहा जाता है। ऐसा इसलिए क्‍योंकि इसके बारे में काफी देर से पता चलता है। इस कैंसर के कारणों के बारे में भी कोई स्‍पष्‍ट जानकारी नहीं है। जैनेटिक डिसऑर्डर भी इसके होने की एक बड़ी वजह मानी जाती है। इसके शुरुआती लक्षण पता नहीं चलते। लेकिन सिरदर्द, व्‍यवहार में बदलाव, उलटी, याददाश्‍त जाना, न्‍यूरोलॉजिकल समस्‍याओं का होना मोटेतौर पर इसके लक्षणों में शुमार किया जा सकता है। सीटी स्‍कैन, एमआरआई स्‍कैन और टिश्‍यू बॉयोप्‍सी के बाद ही इसके बारे में स्‍पष्‍ट रूप से पता चलता है।

नई दिल्ली। 51 वर्षीय बॉलीवुड अभिनेता इरफान खान ने सोमवार 5 मार्च को अपने ट्विटर अकाउंट पर खुद से जुड़ी एक गंभीर बीमारी की खबर शेयर की थी। इरफान ने अपने ट्विटर अकाउंट पर पोस्ट करते लिखा कि उन्हें एक गंभीर बीमारी ने घेर लिया है, जिसके बारे में वह जल्द ही जानकारी देंगे। वहीं अब खबरें आ रही हैं कि इरफान खान को ब्रेन कैंसर है और वो इस वक्त मुंबई के कोकीला बेन अस्पताल में भर्ती हैं।अपनी बीमारी के बारे में जानने के बाद एक्टर इरफान खान ने सबसे फैंस और मीडिया से दरख्वास्त की है कि उन्हें थोड़ा खुद के साथ वक्त बिताने का मौका दिया जाए। वह 10 दिन के लिए खुद के साथ समय बिताना चाहते हैं। बताया जा रहा है कि इरफान खान Glioblastoma Multiforme (GBM) Grade IV से पीड़ित हैं। डेडली ब्रेन कैंसर जिसे डेथ ऑन डायगनॉसेस के नाम से भी जाना जाता है। वहीं दूसरी तरफ खबरें आ रही हैं कि इरफान अभी दिल्ली में हैं और अपनी बीमारी के कारणों का पता लगा रहे हैं। स्टेटमेंट जारी करते हुए उन्होंने कहा है कि वह अपने स्वास्थ्य से जुड़ी हर संभव जानकारी देंगे। तब तक के लिए इस तरह की अफवाहों को नजरअंदाज करें।इरफान खान ने अपने ट्विटर से पोस्ट कर कहा था, ‘दोस्तों, कभी-कभी आप एक झटके के साथ उठते हैं, उस वक्त जिंदगी आपको हिला कर रख देती है। मेरी जिंदगी के पिछले 15 दिन एक सस्पेंस स्टोरी की तरह बीते हैं। मुझे नहीं पता था कि दुर्लभ कहानियों की मेरी खोज मुझे एक दुर्लभ बीमारी तक पहुंचा देगी। मैंने अपनी जिंदगी में कभी हार नहीं मानी, मैं हमेशा लड़ा हूं। और हमेशा लड़ता ही रहूंगा। मेरी इस जंग में मेरा परिवार और मेरे दोस्त मेरे साथ हैं। इस घड़ी में अच्छे से निपटने की कोशिश जारी है। तब तक के लिए अपने आप से कोई अंदाजा न लगाएं। 10 दिन के अंदर सारी रिपोर्ट्स आ जाएंगी तो मैं खुद ही आपके सामने सब कुछ रख दूंगा।’क्या होता है डेथ ऑफ डायग्‍नोसिसजीबीएम को 'डेथ ऑफ डायग्‍नोसिस' भी कहा जाता है। ऐसा इसलिए क्‍योंकि इसके बारे में काफी देर से पता चलता है। इस कैंसर के कारणों के बारे में भी कोई स्‍पष्‍ट जानकारी नहीं है। जैनेटिक डिसऑर्डर भी इसके होने की एक बड़ी वजह मानी जाती है। इसके शुरुआती लक्षण पता नहीं चलते। लेकिन सिरदर्द, व्‍यवहार में बदलाव, उलटी, याददाश्‍त जाना, न्‍यूरोलॉजिकल समस्‍याओं का होना मोटेतौर पर इसके लक्षणों में शुमार किया जा सकता है। सीटी स्‍कैन, एमआरआई स्‍कैन और टिश्‍यू बॉयोप्‍सी के बाद ही इसके बारे में स्‍पष्‍ट रूप से पता चलता है।