क्या जाएगी योगी की कुर्सी, यूपी में अफवाहों का दौर जारी

CM Yogi, योगी की कुर्सी, योगी
क्या जाएगी योगी की कुर्सी, यूपी में अफवाहों का दौर जारी

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के सियासी गलियारे मुख्यमंत्री के बदलाव की खबर से गरम हैं। सोशल मीडिया पर दिल्ली के सूत्रों के हवाले से खबर चल रही है कि ​भाजपा के राष्ट्रीय मुख्यालय पर सीएम योगी आदित्यनाथ और राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह के बीच शनिवार को हुई बैठक का हवाला देकर यूपी को नया मुख्यमंत्री मिलने के दावे हो रहे हैं। ऐसी खबरों में दावा किया जा रहा है कि सीएम योगी के विकल्प के रूप में गाजीपुर से सांसद और केन्द्रीय राज्यमंत्री मनोज सिन्हा को यूपी का नया मुख्यमंत्री बनाया जाएगा।

ये खबर कितनी सही है यह अभी तक स्पष्ट नहीं है, लेकिन इतना जरूर कहा जा सकता है कि मनोज सिन्हा का नाम उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री के रूप में उस समय भी सुर्खियां बटोर रहा था, जब भाजपा ने पूर्ण बहुमत के साथ यूपी में सत्ता हासिल की थी।

{ यह भी पढ़ें:- गैंगरेप व आत्महत्या की घटना के बाद सीएम ने संभल व प्रतापगढ़ एसपी को ​किया निलंबित }

सीएम योगी की कुर्सी जाने के पीछे की वजह गोरखपुर उपचुनाव में पार्टी को मिली हार को कारण बताया जा रहा है। सीएम योगी के साथ उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य की छुट्टी होने की संभावना व्यक्त की जा रही है।

हमने इस विषय पर भाजपा को कई सालों से कवर कर रहे एक वरिष्ठ पत्रकार से बात की। उन्होंने बताया सीएम योगी जिस और यूपी भाजपा निराशा के जिस दौर से गुजर रही है, उसमें इस तरह की खबरें आना आम बात है। उपचुनाव में हार जैसी वजह एक आधारहीन तर्क है। अगर भाजपा का शीर्ष नेतृत्व दो सीटों के उपचुनावों की हार के लिए उत्तर प्रदेश जैसे अहम सूबे का मुख्यमंत्री बदलने लग गया तो सबसे बड़ा सवाल शीर्ष नेतृत्व पर ही उठेगा। आखिर योगी आदित्यनाथ के नाम को मुख्यमंत्री के रूप में शीर्ष नेतृत्व ने ही आगे बढ़ाया था। राजनीतिक दल अपनी हार की समीक्षा करते हैं, शीर्ष नेतृत्व भी ​मुख्यमंत्री के रूप में योगी आदित्यनाथ से जवाब मांगेगा। यह पार्टी की आंतरिक प्रक्रिया का हिस्सा है। योगी आदित्यनाथ के कद को विपक्ष की एकता से एकाएक तैयार हुए राजनीतिक ​परिदृश्य में लड़े गए उपचुनाव के नतीजे से जोड़कर कमतर आंकने की जरूरत नहीं है। इस समय भाजपा शीर्ष नेतृत्व की सबसे बड़ी चिंता विपक्ष की उस रणनीति का विकल्प निकालना होगा, जिसके चलते उसे फूलपुर के साथ—साथ गोरखुपर जैसी सुरक्षित सीट तक गंवानी पड़ गई।

{ यह भी पढ़ें:- 2019 से पहले शुरु होगा राम मंदिर निर्माण : अमित शाह }

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के सियासी गलियारे मुख्यमंत्री के बदलाव की खबर से गरम हैं। सोशल मीडिया पर दिल्ली के सूत्रों के हवाले से खबर चल रही है कि ​भाजपा के राष्ट्रीय मुख्यालय पर सीएम योगी आदित्यनाथ और राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह के बीच शनिवार को हुई बैठक का हवाला देकर यूपी को नया मुख्यमंत्री मिलने के दावे हो रहे हैं। ऐसी खबरों में दावा किया जा रहा है कि सीएम योगी के विकल्प के रूप में गाजीपुर से सांसद और…
Loading...