तो क्या जालसाज रोहतास बिल्डर्स के मालिक को बचाना चाह रही है यूपी पुलिस और नौकरशाह

rohtas-builder
तो क्या जालसाज रोहतास बिल्डर्स के मालिक को बचाना चाह रही है यूपी पुलिस और नौकरशाह

लखनऊ। जिस रोहतास बिल्डर्स ने लखनऊ समेत तमाम जिलों में प्लाट और मकान के नाम पर लोगों से करोड़ों रुपर की ठगी कर ली, उसके खिलाफ पुलिस ने जालसाजी व धोखाधड़ी समेत दर्जनों धाराओं में मुकदमे तो दर्ज कर लिए, यहां तक कि इस जालसाज के खिलाफ गैंगस्टर एक्ट की कार्रवाई भी हो चुकी है, लेकिन इस जालसाज को पुलिस अभी तक दबोच नहीं सकी है। सूत्रों का कहना है कि ये इस जालसाज कंपनी का मालिक दिल्ली के पांच सितारा होटल में आराम फरमा रहा है, यहीं नहीं वो लगातार उत्तर प्रदेश के कई ऐसे लोगों से मीटिंग भी कर रहा है, जो उसे बचाना चाहते हैं।

Is The Up Police And Bureaucracy Saving The Owner Of The Fraudster Rohtas Builders :

विश्वस्त सूत्रों की मानें तो रोहतास बिल्डर के मालिको ने कई ब्यूरोक्रेट और सफेदपोशों का पैसा भी अपने प्रोजेक्ट में लगा रखा हैए जिसकी वजह से उसे राजनीतिक और प्रशासनिक संरक्षण भी प्राप्त है। इसी रुतबे के चलते पुलिस भी बिल्डर के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने से परहेज करती है। बताया यह भी जाता है कि ब्लैक मनी को व्हाइट करने के लिए रोहतास बिल्डर ने हजारों करोड़ ले रखे हैंए जिसके एवज में अब उन लोगों को पैसे के बदले जमीन और फ्लैट दिये जा रहे हैं।

सूत्रों की मानें तो जिन बड़े नौकरशाहों ने प्रोजेक्ट में अपना पैसा लगाया था, अब उसके बदले में उन्हे उत्तराखंड, देहरादून, नोयडा, मुंबई और लखनऊ में ज़मीनें दी जा रही हैं। इस पूरे खेल में फंसे वो मध्यमवर्गी परिवार जिन्होने अपनी मेहनत की कमाई इस प्रोजेक्ट में लगाई। इस मामले में 200 से ज्यादा आवंटियों के द्वारा हजरतगंज कोतवाली मे मुकदमा दर्ज कराया भी जा चुका है। लेकिन इस पूरे खेल का मास्टरमाइंड पुलिस की गिरफ्त से दूर है।

बता दें कि इस जालसाज के खिलाफ गैंगेस्टर एक्ट का मुकदमा दर्ज होने के बाद अब बाहर से ही जमानत नहीं हो सकती है, लिहाजा जालसाज दिल्ली पहुंच गया, इधर उत्तर प्रदेश पुलिस उसे खोजने का झूठा नाटक कर रही है। सूत्रों का तो ये भी कहना है कि ये जालसाज बहुत यहां से नेपाल भागने की फिराक में है।

लखनऊ। जिस रोहतास बिल्डर्स ने लखनऊ समेत तमाम जिलों में प्लाट और मकान के नाम पर लोगों से करोड़ों रुपर की ठगी कर ली, उसके खिलाफ पुलिस ने जालसाजी व धोखाधड़ी समेत दर्जनों धाराओं में मुकदमे तो दर्ज कर लिए, यहां तक कि इस जालसाज के खिलाफ गैंगस्टर एक्ट की कार्रवाई भी हो चुकी है, लेकिन इस जालसाज को पुलिस अभी तक दबोच नहीं सकी है। सूत्रों का कहना है कि ये इस जालसाज कंपनी का मालिक दिल्ली के पांच सितारा होटल में आराम फरमा रहा है, यहीं नहीं वो लगातार उत्तर प्रदेश के कई ऐसे लोगों से मीटिंग भी कर रहा है, जो उसे बचाना चाहते हैं। विश्वस्त सूत्रों की मानें तो रोहतास बिल्डर के मालिको ने कई ब्यूरोक्रेट और सफेदपोशों का पैसा भी अपने प्रोजेक्ट में लगा रखा हैए जिसकी वजह से उसे राजनीतिक और प्रशासनिक संरक्षण भी प्राप्त है। इसी रुतबे के चलते पुलिस भी बिल्डर के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने से परहेज करती है। बताया यह भी जाता है कि ब्लैक मनी को व्हाइट करने के लिए रोहतास बिल्डर ने हजारों करोड़ ले रखे हैंए जिसके एवज में अब उन लोगों को पैसे के बदले जमीन और फ्लैट दिये जा रहे हैं। सूत्रों की मानें तो जिन बड़े नौकरशाहों ने प्रोजेक्ट में अपना पैसा लगाया था, अब उसके बदले में उन्हे उत्तराखंड, देहरादून, नोयडा, मुंबई और लखनऊ में ज़मीनें दी जा रही हैं। इस पूरे खेल में फंसे वो मध्यमवर्गी परिवार जिन्होने अपनी मेहनत की कमाई इस प्रोजेक्ट में लगाई। इस मामले में 200 से ज्यादा आवंटियों के द्वारा हजरतगंज कोतवाली मे मुकदमा दर्ज कराया भी जा चुका है। लेकिन इस पूरे खेल का मास्टरमाइंड पुलिस की गिरफ्त से दूर है। बता दें कि इस जालसाज के खिलाफ गैंगेस्टर एक्ट का मुकदमा दर्ज होने के बाद अब बाहर से ही जमानत नहीं हो सकती है, लिहाजा जालसाज दिल्ली पहुंच गया, इधर उत्तर प्रदेश पुलिस उसे खोजने का झूठा नाटक कर रही है। सूत्रों का तो ये भी कहना है कि ये जालसाज बहुत यहां से नेपाल भागने की फिराक में है।