इशरत जहां एनकाउंटर मामलाः वंज़ारा और अमीन की आरोपमुक्त करने की याचिका ख़ारिज

इशरत जहां एनकाउंटर मामलाः वंज़ारा और अमीन की आरोपमुक्त करने की याचिका ख़ारिज
इशरत जहां एनकाउंटर मामलाः वंज़ारा और अमीन की आरोपमुक्त करने की याचिका ख़ारिज

Ishrat Jahan Fake Encounter Case Cbi Court Rejects Discharge Pleas Dg Vanzara Nk Amin

नई दिल्ली। गुजरात में एक विशेष सीबीआई अदालत ने आज यहां पूर्व पुलिस अधिकारी डी जी वंजारा और एन के अमीन की उस याचिका को खारिज कर दिया सीबीआई ने इन अधिकारियों की याचिका का विरोध करते हुए बताया कि वंजारा व अमीन इस साजिश में शामिल रहे हैं। इस मामले में अगली सुनवाई 7 सितंबर को होगी।

विशेष न्यायाधीश जे के पांडया ने वंजारा और अमीन की याचिका खारिज कर दी। अदालत ने पिछले महीने दोनों आरोपी सेवानिवृत्त पुलिस अधिकारियों, सीबीआई और इशरत जहां की मां शमीमा कौसर की दलीलों पर सुनवाई पूरी की थी। कौसर ने वंजारा की आरोप मुक्त किये जाने की याचिका को चुनौती दी थी।

वंजारा गुजरात के पूर्व पुलिस उपमहानिरीक्षक रह चुके हैं। उन्होंने इस मामले में राज्य के पूर्व पुलिस महानिदेशक पी पी पांडेय की तर्ज पर समानता के आधार का हवाला देते हुए आरोप मुक्त करने का अनुरोध किया था। पांडेय को साक्ष्यों के अभाव में इस साल फरवरी में मामले में आरोप मुक्त कर दिया गया था।

क्या है मामला?

15 जून 2004 को अहमदाबाद के एक बाहरी इलाके में इशरत जहां और तीन अन्य लोगों का एनकाउंटर कर दिया गया था। इनके नाम जावेद शेख उर्फ प्रणेश पिल्लई, अमजदअली अकबरअली और जीशान जोहर थे। पुलिस के मुताबिक ये सभी लश्कर के आतंकी थे जो उस समय गुजरात के मुख्यमंत्री रहे नरेंद्र मोदी को मारने आए थे। सितंबर 2009 में अहमदाबाद मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट एसपी तमांग ने इस मुठभेड़ को फर्जी करार दिया था।

नई दिल्ली। गुजरात में एक विशेष सीबीआई अदालत ने आज यहां पूर्व पुलिस अधिकारी डी जी वंजारा और एन के अमीन की उस याचिका को खारिज कर दिया सीबीआई ने इन अधिकारियों की याचिका का विरोध करते हुए बताया कि वंजारा व अमीन इस साजिश में शामिल रहे हैं। इस मामले में अगली सुनवाई 7 सितंबर को होगी। विशेष न्यायाधीश जे के पांडया ने वंजारा और अमीन की याचिका खारिज कर दी। अदालत ने पिछले महीने दोनों आरोपी सेवानिवृत्त पुलिस…