आज लॉन्‍च होगा ISRO का सैटेलाइट GSAT-6A, जानें खूबियां

सैटेलाइट GSAT-6A , ISRO
आज लॉन्‍च होगा ISRO का सैटेलाइट GSAT-6A, जानें खूबियां

Isro Launch Gsat 6a Satellite Launch Today

चेन्नई। अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में भारत आज जीसैट-6 ए के प्रक्षेपण के साथ यह वित्तवर्ष पूरा करेगा। जीसैट-6 ए उच्च शक्ति का एस-बैंड संचार उपग्रह है। आज शाम 4:56 मिनट पर इस सैटेलाइट को लॉन्‍च किया जाएगा। जीसैट-6ए न सिर्फ इसरो के लिए बल्कि देश की सेनाओं के लिए भी काफी अहम है और इसकी सफल लॉन्चिंग इसरो के लिए एक और मील का पत्‍थर माना जाएगा। इसरो ने कहा कि गुरुवार को प्रक्षेपित होने वाले मिशन की उल्टी गिनती मिशन तैयारी समीक्षा समिति और प्रक्षेपण अधिकार बोर्ड से मंजूरी के बाद दिन में एक बजकर 56 मिनट पर शुरू हुई।

सैटेलाइट की खासियतें

जीसैट-6ए का वजन 2,140 किलोग्राम है। इसमें प्रयोग हुआ रॉकेट 49.1 मीटर लंबा है और इसका वजन 415.6 टन है। लॉन्‍च होने के 17 मिनट बाद जीसैट-6ए कक्षा में पहुंच जाएगा। इस पूरे मिशन की कीमत 270 करोड़ रुपए है और यह मिशन 10 वर्षों के लिए है। इसरो की ओर से अब तक 95 स्‍पेसक्राफ्ट मिशन लॉन्‍च हो चुके हैं। इसरो ने जनवरी में ही अपना 100वां सैटेलाइट अंतरिक्ष में भेजा था और उस लॉन्‍च में भारत के इन 3 स्वदेशी उपग्रहों के अलावा कनाडा, फिनलैंड, फ्रांस, दक्षिण कोरिया, ब्रिटेन और अमेरिका के 28 सैटेलाइट भी लॉन्‍च किए गए थे।

जीसैट-6 ए के बाद एक नेविगेशन उपग्रह का प्रक्षेपण होगा

यह उपग्रह विकसित प्रौद्योगिकियों के प्रदर्शन के लिए एक मंच प्रदान करेगा, जिसमें 6 एम एस-बैंड अनफ्लेरेबल एटीना, हैंडहेल्ड ग्राउंड टर्मिनल व नेटवर्क प्रबंधन प्रौद्योगिकी शामिल हैं. ये उपग्रह आधारित मोबाइल संचार अनुप्रयोगों में उपयोगी हैं. इसरो के चेयरमैन के सिवन ने कहा कि जीसैट-6 ए के बाद एक नेविगेशन उपग्रह का प्रक्षेपण किया जाएगा, जो अगले वित्तवर्ष में लॉन्‍च होगा.

800 करोड़ का है चंद्रयान-2

चंद्रयान-2 की कीमत 800 करोड़ रुपए है और इस मिशन से पहले विकास इंजन का सफल परीक्षण इसरो के वैज्ञानिकों की भी बड़ी परीक्षा है। इसरो के एलपीएससी यानी लिक्विड प्रोपोल्‍शन सिस्‍टम सेंटर के डायरेक्‍टर वी नारायण ने न्‍यू इंडियन एक्‍सप्रेस से बातचीत में कहा है कि चंद्रयान मिशन के लिए इस तरह के पांच इंजन का प्रयोग होगा और इसकी वजह से वजन सहने की क्षमता 70 किलो से बढ़कर 250 किलोग्राम हो जाएगी।

चेन्नई। अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में भारत आज जीसैट-6 ए के प्रक्षेपण के साथ यह वित्तवर्ष पूरा करेगा। जीसैट-6 ए उच्च शक्ति का एस-बैंड संचार उपग्रह है। आज शाम 4:56 मिनट पर इस सैटेलाइट को लॉन्‍च किया जाएगा। जीसैट-6ए न सिर्फ इसरो के लिए बल्कि देश की सेनाओं के लिए भी काफी अहम है और इसकी सफल लॉन्चिंग इसरो के लिए एक और मील का पत्‍थर माना जाएगा। इसरो ने कहा कि गुरुवार को प्रक्षेपित होने वाले मिशन की उल्टी…