मसला एक मस्जिद देने का नहीं, बल्कि उसूल का है : मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड

मसला एक मस्जिद देने का नहीं, बल्कि उसूल का है : मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड
मसला एक मस्जिद देने का नहीं, बल्कि उसूल का है : मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड

लखनऊ। राम मंदिर निर्माण को लेकर अयोध्या में धर्म सभा के नाम पर विश्व हिंदू परिषद (विहिप) के शक्ति परीक्षण और शिवसेना की आक्रामक गतिविधियों के बीच आॅल इंडिया मुस्लिम पर्सनल ला बोर्ड (एआईएमपीएलबी) ने इन कवायद को सुप्रीम कोर्ट के लिए खुली चुनौती करार दिया है। लॉ बोर्ड ने रविवार को कहा कि मसला एक मस्जिद को देने का नहीं है, बल्कि उसूल का है। मुस्लिम इस मुल्क में धीरे-धीरे और कितनी मस्जिदें कुर्बान करेंगे।

Issue Is Not The Mosque But The Principle Aimplb :

मौलाना ने यहां जारी बयान में कहा, हमसे कहा जाता है कि आप अयोध्या से बाहर मस्जिद बनाएं, यह तो हुक्म देने वाली बात हुई। मसला एक मस्जिद देने का भी नहीं है, बल्कि उसूल का है। हमलोग इस मुल्क में धीरे-धीरे और कितनी मस्जिदें कुर्बान करेंगे। अगर हम किसी एक पक्ष से बातचीत करें तो कल उसे हटा दिया जाएगा और दूसरे लोग खड़े हो जाएंगे।

अयोध्या के राम मंदिर विवाद में काशी-मथुरा की भी एंट्री

उन्होंने कहा, अगर हम किसी एक पक्ष से बातचीत करें तो कल उसे हटा दिया जाएगा, और दूसरे लोग खड़े हो जाएंगे। श्रीश्री रविशंकर ने कहा था कि आप अयोध्या से बाहर बहुत बड़ी मस्जिद बना लीजिये। मगर बाद में श्रीश्री किनारे हो गये। सोचिये, अगर उनसे कोई समझौता कर लिया गया होता तो क्या होता। मौलाना रहमानी ने कहा कि आगामी 16 दिसम्बर को लखनऊ में होने वाली बोर्ड की वर्किंग कमेटी की बैठक के एजेंडे में अयोध्या के ताजा हालात का मुद्दा शामिल नहीं है लेकिन इस पर बातचीत जरूर की जाएगी।

लखनऊ। राम मंदिर निर्माण को लेकर अयोध्या में धर्म सभा के नाम पर विश्व हिंदू परिषद (विहिप) के शक्ति परीक्षण और शिवसेना की आक्रामक गतिविधियों के बीच आॅल इंडिया मुस्लिम पर्सनल ला बोर्ड (एआईएमपीएलबी) ने इन कवायद को सुप्रीम कोर्ट के लिए खुली चुनौती करार दिया है। लॉ बोर्ड ने रविवार को कहा कि मसला एक मस्जिद को देने का नहीं है, बल्कि उसूल का है। मुस्लिम इस मुल्क में धीरे-धीरे और कितनी मस्जिदें कुर्बान करेंगे। मौलाना ने यहां जारी बयान में कहा, हमसे कहा जाता है कि आप अयोध्या से बाहर मस्जिद बनाएं, यह तो हुक्म देने वाली बात हुई। मसला एक मस्जिद देने का भी नहीं है, बल्कि उसूल का है। हमलोग इस मुल्क में धीरे-धीरे और कितनी मस्जिदें कुर्बान करेंगे। अगर हम किसी एक पक्ष से बातचीत करें तो कल उसे हटा दिया जाएगा और दूसरे लोग खड़े हो जाएंगे।

अयोध्या के राम मंदिर विवाद में काशी-मथुरा की भी एंट्री

उन्होंने कहा, अगर हम किसी एक पक्ष से बातचीत करें तो कल उसे हटा दिया जाएगा, और दूसरे लोग खड़े हो जाएंगे। श्रीश्री रविशंकर ने कहा था कि आप अयोध्या से बाहर बहुत बड़ी मस्जिद बना लीजिये। मगर बाद में श्रीश्री किनारे हो गये। सोचिये, अगर उनसे कोई समझौता कर लिया गया होता तो क्या होता। मौलाना रहमानी ने कहा कि आगामी 16 दिसम्बर को लखनऊ में होने वाली बोर्ड की वर्किंग कमेटी की बैठक के एजेंडे में अयोध्या के ताजा हालात का मुद्दा शामिल नहीं है लेकिन इस पर बातचीत जरूर की जाएगी।