चेन्नई में आयकर छापेमारी, बरामद हुई 70 करोड़ की नई करेंसी

नई दिल्ली। नोटबंदी के बाद से आम आदमी जहां नई करेंसी के लिए बैंकों और एटीएम के चक्कर लगाकर थक चुका है, वहीं दूसरी ओर कालेधन के स्वामी है जो अपने कालेधन को नई करेंसी से बदलने में रात दिन एक किए हुए हैं। लेकिन गुरुवार को आयकर विभाग ने छापा मारकर ऐसे ही कालाधन रखने वालों के हवाले से 70 करोड़ रुपए की नई करेंसी बरामद की है। इतना ही नहीं आयकर विभाग को छापेमारी के दौरान 20 करोड़ रुपए के पुराने करेंसी नोट और 100 किलोग्राम सोना भी हाथ लगा है। अंदाजा लगाया जा रहा है कि यह सोना पुराने नोटों के बदले खरीदा गया होगा। जिसकी वर्तमान बाजारू कीमत करीब 30 करोड़ रुपए है।




जानकारों की माने तो प्रवर्तन निदेशालय और आयकर विभाग की कई टीमें देशभर में नोटबंदी की प्रक्रिया पर नजर जमाए हुए हैं। अपनी निगरानी के तहत आयकर विभाग और प्रवर्तन निदेशालय के अधिकारियों की टीमें चिन्हित ​ज्वैलर्स और होटल व्यवसाइयों के ठिकानों पर छापेमारी का अभियान चला रहीं हैं। इसी अभियान के चलते गुरुवार को चेन्नई के कुछ ज्वैलर्स के ठिकानों पर पहुंची आयकर अधिकारियों के सामने जो वास्तविकता आई वह चौकाने वाली थी। आयकर विभाग को 70 करोड़ रुपए की नई करेंसी और 20 करोड़ रुपए की पुरानी करेंसी के साथ 100 किलो सोना बरामद हुआ।

एक न्यूज़ एजेंसी के मुताबिक आयकर विभाग के एक अधिकारी ने नाम जाहिर न करने की शर्त पर बताया, ‘श्रीनिवासन रेड्डी, उनके सहयोगी शेखर रेड्डी और उनके एजेंट प्रेम का नाम संदिग्धों की सूची में शामिल था। पुख्ता जानकारी के आधार पर आयकर विभाग के अधिकारियों सुबह 8 बजे इनके ठिकानों पर छापेमारी शुरू की थी। जिसमें बड़ी मात्रा में नई करेंसी नोट बरामद हुए हैं। जबकि शहर के एक होटल में छापेमारी के दौरान 100 किलोग्राम सोना बरामद हुआ है। आरोपी किसी बड़े शख्स के एजेंट लग रहे हैं।’




आयकर विभाग द्वारा दी गई जानकारी के मुताबिक छापेमारी में शामिल लोग पुरानी करेंसी को बदलने का काम में जुटे थे। शहर में नोटबंदी के दिन से ही छापेमारी चल रही थी। विभाग के एक अन्य अधिकारी ने बताया की काले धन को सफेद धन में बदलने के शक में 11 नवंबर को 11 जूलरों के ठिकानों पर छापेमारी की थी। जिसके बाद से हम लगातार ऐसी जगहों पर छापेमारी कर रहे है जहां उन्हें शक है, और अब एक बड़ी सफलता मिली है।