सरकार की नीयत में नहीं है नौजवानों को नौकरी देना: अखिलेश

akhilesh yadav

लखनऊ: पूर्व मुख्यमंत्री और समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने गुरुवार को बातचीत के दौरान यूपी सरकार पर जमकर हमला बोला। अखिलेश यादव ने कहा कि सरकार की नीयत में नहीं है नौजवानों को नौकरी देना। अखिलेश ने कहा कि पशुधन विभाग का बहुत बड़ा मामला यूपी सचिवालय में चल रहा था। फर्जीवाड़ा वह भी सचिवालय में? सरकार इस बात को नहीं जानेगी तो कौन जानेगा।

It Is Not In The Governments Intention To Give Jobs To The Youth Akhilesh Yadav :

अखिलेश ने कहा कि 69 हजार शिक्षक, सचिवालय का मामला पहले का है? किसी को फंसना है तो आजम खान उदाहरण हैं। उन पर कैसे कैसे मुकदमे लगा दिए और अपने ऊपर लगे मुकदमे वापस ले लिए। कौन नहीं जानता है। पत्रकारों पर झूठे मुकदमे लगे। किसी ने दाल में पानी बता दिए तो जेल भेज दिया। कई पत्रकार जेल भेज दिए गए।

अध्यापकों के मामले में तो आदेश हुआ है। उनका कहना है कि हमें लोकसेवा आयोगा का बैकलॉग खत्म किया है, पारदर्शिता लाई है। आप क्या कहेंगे?
अखिलेश ने कहा कि 69 हजार शिक्षकों वाले मामले में बहुत उलझने हैं, कोर्ट के आदेश, जांच चल रही है,पेपर आउट हुए हैं, आरक्षण को लेकर सवाल है। इसे इतना उलझा दिया है कि लोगों को आसानी से नौकरी नहीं मिलेगी। एसटीएफ पेपर आउट की जांच कर रही है।

एसटीएफ सरकार की है, हाईकोर्ट, सुप्रीम कोर्ट इन बातों को भी देखेगा। कई जगह एक परिवार के तीन लोग टॉपर हैं। ये जांचकर्ता बता रहे हैं। बहुत सारी और नौकरियां फंसी हुई हैं। सरकार ने कहा है कि हम मेरिट के आधार पर नियुक्ति करेंगे। अभी बहुत सारी चीजें होंगी। पेपर आउट, पेपर सॉल्व करने की बात हुई थी, कोर्ट इन्हें भी तो देखेगी।

लखनऊ: पूर्व मुख्यमंत्री और समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने गुरुवार को बातचीत के दौरान यूपी सरकार पर जमकर हमला बोला। अखिलेश यादव ने कहा कि सरकार की नीयत में नहीं है नौजवानों को नौकरी देना। अखिलेश ने कहा कि पशुधन विभाग का बहुत बड़ा मामला यूपी सचिवालय में चल रहा था। फर्जीवाड़ा वह भी सचिवालय में? सरकार इस बात को नहीं जानेगी तो कौन जानेगा।

अखिलेश ने कहा कि 69 हजार शिक्षक, सचिवालय का मामला पहले का है? किसी को फंसना है तो आजम खान उदाहरण हैं। उन पर कैसे कैसे मुकदमे लगा दिए और अपने ऊपर लगे मुकदमे वापस ले लिए। कौन नहीं जानता है। पत्रकारों पर झूठे मुकदमे लगे। किसी ने दाल में पानी बता दिए तो जेल भेज दिया। कई पत्रकार जेल भेज दिए गए।

अध्यापकों के मामले में तो आदेश हुआ है। उनका कहना है कि हमें लोकसेवा आयोगा का बैकलॉग खत्म किया है, पारदर्शिता लाई है। आप क्या कहेंगे? अखिलेश ने कहा कि 69 हजार शिक्षकों वाले मामले में बहुत उलझने हैं, कोर्ट के आदेश, जांच चल रही है,पेपर आउट हुए हैं, आरक्षण को लेकर सवाल है। इसे इतना उलझा दिया है कि लोगों को आसानी से नौकरी नहीं मिलेगी। एसटीएफ पेपर आउट की जांच कर रही है।

एसटीएफ सरकार की है, हाईकोर्ट, सुप्रीम कोर्ट इन बातों को भी देखेगा। कई जगह एक परिवार के तीन लोग टॉपर हैं। ये जांचकर्ता बता रहे हैं। बहुत सारी और नौकरियां फंसी हुई हैं। सरकार ने कहा है कि हम मेरिट के आधार पर नियुक्ति करेंगे। अभी बहुत सारी चीजें होंगी। पेपर आउट, पेपर सॉल्व करने की बात हुई थी, कोर्ट इन्हें भी तो देखेगी।