जल निगम मामला : अचानक बर्खास्त किए गए 1188 कर्मचारी, ठप हो रहे सारे कामकाज

jal nigam bharti
जल निगम भर्ती: चेहतों के लिए अफसरों ने उड़ाईं नियमों की धज्जियां, हजारों अभ्यर्थियों का भविष्य अधर में

लखनऊ। सपा शासनकाल में जल निगम में इंजीनियरों व लिपिक वर्ग की भर्तियों में धांधली का आरोप लगाकर हाल ही में करीब 12 सौ कर्मचारियों को बर्खास्त कर दिया गया। सरकार के इस फैसले का नतीजा ये हुआ कि अब विभाग के सारे जरूरी काम रूक गए हैं।

Jal Nigam Case 1188 Employees Suddenly Sacked All Work Stopped :

बता दें कि बर्खास्त किए गए लोगों में इंजीनियर और लिपिक संवर्ग के लोग ही हैं। जल निगम के ​सूत्रों की मानें तो कार्यालय में लेटर टाइप होने से लेकर अन्य जरूरी काम रूके पड़े हैं। वहीं फील्ड के कामों पर पर भी काफी असर पड़ रहा है।

बता दें कि सपा शासनकाल में जल निगम की भर्ती में धांधली उजागर होने के बाद नियुक्तियों को रद्द कर दिया गया है। अब उन अभ्यर्थियों पर शिकंजा कसने की तैयारी की जा रही है जिनके अंकों में गड़बड़ी पाई गयी है। जांच में पता चला है कि इस पूरी भर्ती प्रक्रिया में कुल 175 अभ्यर्थी हैं, जिनके खिलाफ एफआइआर दर्ज कराई जाएगी। अब ऐसे में सवाल ये उठता है कि जब 175 लोगों के ही भर्ती तरीके से भर्ती होने का शक है तो सभी लोगों को क्यों बर्खास्त कर दिया गया है।

लखनऊ। सपा शासनकाल में जल निगम में इंजीनियरों व लिपिक वर्ग की भर्तियों में धांधली का आरोप लगाकर हाल ही में करीब 12 सौ कर्मचारियों को बर्खास्त कर दिया गया। सरकार के इस फैसले का नतीजा ये हुआ कि अब विभाग के सारे जरूरी काम रूक गए हैं। बता दें कि बर्खास्त किए गए लोगों में इंजीनियर और लिपिक संवर्ग के लोग ही हैं। जल निगम के ​सूत्रों की मानें तो कार्यालय में लेटर टाइप होने से लेकर अन्य जरूरी काम रूके पड़े हैं। वहीं फील्ड के कामों पर पर भी काफी असर पड़ रहा है। बता दें कि सपा शासनकाल में जल निगम की भर्ती में धांधली उजागर होने के बाद नियुक्तियों को रद्द कर दिया गया है। अब उन अभ्यर्थियों पर शिकंजा कसने की तैयारी की जा रही है जिनके अंकों में गड़बड़ी पाई गयी है। जांच में पता चला है कि इस पूरी भर्ती प्रक्रिया में कुल 175 अभ्यर्थी हैं, जिनके खिलाफ एफआइआर दर्ज कराई जाएगी। अब ऐसे में सवाल ये उठता है कि जब 175 लोगों के ही भर्ती तरीके से भर्ती होने का शक है तो सभी लोगों को क्यों बर्खास्त कर दिया गया है।