डेंगू पीड़ित बालिका की उपचार के दौरान लखनऊ में मौत

जालौन । गुलौली मुस्तकिल गांव का हर वाशिंदा डेंगू रोग से इस कदर दहशतजदा है कि प्रभावित परिजनों की कब मौत हो जाये कुछ नहीं जा सकता। डेंगू रोड से पीड़ित 11 वर्षीय बालिका की लखनऊ में मौत हो जाने के बाद इस रोग से मरने वालों की संख्या तीन हो गयी। लेकिन ताज्जुब की बात तो यह है कि जनपद में स्वास्थ्य सेवाओं को चुस्त दुरुस्त बताने का दावा करने वाले सीएमओ अब तक गांव में चिकित्सकों की टीम तक नहीं पहुंचा पाये।

कदौरा ब्लाक क्षेत्र के ग्राम गुलौली मुस्तकिल में चिकुनगुनियां व डेंगू का प्रकोप ग्रामीणों की जान पर बन आया है। गांव के निवासी युसुफ की 13 सितंबर को मौत हो गयी थी इसी दौरान कमरुन्निशा नामक महिला भी बीमारी की वजह से असमय मौत हो गयी। इसीक्रम में गांव की ही अलफिसा 11 वर्ष पुत्री हैदर खां बिचित्र बुखार की चपेट में आयी तो उसके पिता ने उसका उपचार कराना शुरू किया लेकिन जब चिकित्सकों ने उसकी हालत गंभीर बतायी तो वह अपनी बेटी को लेकर उपचार कराने लखनऊ पहुंचा जहां उपचार के दौरान उसकी मौत हो गयी। इस तरह से कुछ ही दिनों में गांव में बिचित्र बीमारी की चपेट में आये मरने वालों की संख्या तीन हो गयी है।




बताया जाता है कि इससे पूर्व ग्राम प्रधान प्रतिनिधि अब्दुल हई ने गांव में फैली बिचित्र बीमारी के बारे में स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों के साथ-साथ उप जिलाधिकारी कालपी को तहसील दिवस में प्रार्थना पत्र देकर अवगत कराते हुये गांव में चिकित्सकों की टीम भेजे जाने की गुहार लगायी थी। लेकिन कुंभकर्णी नींद में सोये सीएमओ ने आज तक गांव में चिकित्सकों की टीम भेजने की बात तो छोड़िये समीपस्थ कालपी व कदौरा के सरकारी अस्पताल से एक चिकित्सक तक गांव के पीड़ितों की सुध लेने नहीं पहुंचा है। हद दरजे की लापरवाही को देखकर गांव के ग्रामीण अपने पैसों से अपने बीमार परिजनों का उपचार कराने को विवश देखे जा रहे हैं तो कई ऐसे भी परिवार भी है जो आर्थिक तंगी से जूझ रहे है वह कर्जा लेकर अपने घर वालों का उपचार करा रहे हैं।

ग्राम प्रधान प्रतिनिधि ने बताया कि गांव में बिचित्र बीमारी गांव में अपने पैर पसारती जा रही इसे देखते हुये अब ग्रामीणों को यह भय सताने लगा कि पता नहीं कब उनके भी परिजन बिचित्र बीमारी की चपेट में आ जायें और उनकी मौत हो जाये। फिलहाल तो बिचित्र बीमारी की गिरफ्त में आये गांव के हर व्यक्ति के चेहरे पर चिंता का भाव देखा जा रहा है।

जालौन से सौरभ पांडेय की रिपोर्ट