मांगे पूरी होने तक जारी रहेगा इंजीनियर्स संघ का आंदोलन

जालौन। उप्र डिप्लोमा इंजीनियर्स महासंघ के प्रांतीय आवाहन पर कार्य बहिष्कार के चैथे दिन आज जिले के सभी 24 घटक संघों के जूनियर इंजीनियर्स लोक निर्माण विभाग के परिसर में कार्य बहिष्कार पर डटे रहे। कार्य बहिष्कार आंदोलन की अध्यक्षता इंजीनियर वीर सिंह यादव ने की एवं संचालन सुनील कुमार कटियार ने किया।




कार्य बहिष्कार आंदोलन को संबोधित करते हुये राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद के जिलाध्यक्ष इंजीनियर रामप्रसाद श्रीवास्तव ने कहा कि 4800 ग्रेड पे की मांग प्रदेश सरकार द्वारा स्वीकार नहीं की जाती तो परिषद अपने सभी संगठनों का सहयोग लेना सुनिश्चित करेगी। इंजीनियर राधेश्याम सिंह ने कहा कि 4800 ग्रेड पे जब तक नहीं मिल जाता तब तक संघर्ष जारी रहेगा। पीएस निरंजन ने कहा कि तीन प्रोन्नतियां लेकर रहेंगे चाहे इसके लिये जेल ही क्यों न जाना पड़े। इंजीनियर जर्नादन राजपूत ने संघ के संघटनात्मक संरचना पर जोर देते हुये कहा कि प्रांतीय नेतृत्व के आवाहन पर 4800 ग्रेड पे लिये बगैर आंदोलन समाप्त नहीं किया जायेगा।

इस दौरान मंडल उपाध्यक्ष शफी उल्ला ने हड़ताल की समीक्षा करते हुये बताया कि प्रदेश में हड़ताल से व्यवस्था चरमरा गयी और विकास कार्य प्रभावित हो रहे हैं। प्रांतीय खंड लोक निर्माण विभाग परिसर में चल रहे धरना प्रदर्शन को संबोधित करते हुये संघर्ष समिति के चेयरमैन केसी त्रिपाठी ने कहा कि संवर्ग की न्यायोचित मांगें मुख्यतः ग्रेड पे 4800 रुपये के साथ 7, 14, 20 वर्ष सेवा पर प्रोन्नत वेतनमान पर जोर दिया एवं हड़ताल में शत प्रतिशत भागीदारी का आवाहन किया। धरना सभा में इंजीनियर पीके मोहना, देवीदयाल, आरके द्विवेदी, बृजेंद्र शाक्यवार, एमपी पस्तोर, तोताराम, रामकुमार पटैरिया, संतोष अग्रवाल, विजय बहादुर, राजेंद्र बाबू, रामदास, रामप्रकाश, प्रेमशंकर, राहुल माली आदि उपस्थित रहे।

जालौन से सौरभ पाण्डेय की रिपोर्ट