शासन की योजनाओं का लाभ उठा किसान भाई स्वावलंबी बनेंः डीएम

जालौन। किसान भाई कृषि विभाग द्वारा संचालित योजनाओं में किसानों को प्रदेश सरकार द्वारा जो सुविधायें दी जा रही उनका वह लाभ उठायें और उन्नतिशील तरीके से खेती कर अधिक से अधिक उत्पादन कर देश में जनपद का नाम रोशन करें। उक्त बात कृषि तकनीकी प्रबंध अभिकरण के अंतर्गत जनपद स्तरीय रबी गोष्ठी एवं किसान मेला को संबोधित करते हुये जिलाधिकारी संदीप कौर ने कही।

उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार द्वारा किसानों के हित में अनेकों योजनायें संचालित की जा रही है ऐसी योजनाओं का किसान भाई अधिक से अधिक लाभ उठायें। प्रदेश में राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा मिशन योजना, नेशनल मिशन आज एग्रीकल्चरल एक्सटेंशन एवं टैक्नोलॉजी, नेशनल मिशन ऑन ऑयल एण्ड ऑयल पॉम तिलहन कार्यक्रम में किसानों को दी जाने वाली अनुदान सुविधायें भी शामिल है। इसी प्रकार से नेशनल मिशन फॉर सस्टेनेबल एग्रीकल्चरल, शोध एवं मृदा सर्वेक्षण अनुभाग द्वारा संचालित अनेकों योजनाओं का किसान समय-समय पर लाभ उठायें।

इसके अलावा भी राज्य सरकार की योजनायें मृदा स्वास्थ्य का सुदृढ़ीकरण, जैव कल्चर उत्पादन प्रयोगशालाओं के सुदृढ़ीकरण/जैव उर्वरकों के प्रयोग को प्रोत्साहित करने की कार्य योजना भी संचालित की जा रही है। बीज एवं प्रक्षेत्र अनुभाग की योजनाओं में प्रमाणित बीज वितरण पर किसानों को अनुदान दिया जा रहा है। प्रदेश में संकर बीजों को बढ़ावा देने की भी योजना संचालित है। इसीक्रम में भूमि संरक्षण अनुभाग द्वारा संचालित योजनाओं में नाबार्ड सहायतित आरआईडीएफ योजना, जिप्सम वितरण योजना, भूमि सेना योजना, खेत तालाब योजना, प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना, प्रशिक्षित कृषि उद्यमी स्वावलंबन योजनायें ऐसी है जिनका हर किसान को लाभ उठाना चाहिये।



जिलाधिकारी कौर ने किसानों को ऐसी लाभकारी योजनाओं का लाभ उठाने के लिये समय-समय पर कृषि विभाग के कार्यालयों में पहुंचकर जानकारी लें और उनका भरपूर लाभ उठायें। गोष्ठी में भाकियू के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष किसान नेता बलराम सिंह लंबरदार, प्रदेशाध्यक्ष राजवीर सिंह जादौन आदि ने किसानों की समस्यायें उठाते हुये विभागीय अधिकारियों का ध्यान आकृष्ट कराते हुये कहा कि वर्तमान में किसानों को खेतों का पलेवा करने के लिये पानी की जरूरत हैं ऐसी स्थिति में सभी नहरों को फुल गेज से चलाया जाये ताकि सभी माइनरों व कुलावों में पानी पहुंचना सुनिश्चित हो सके। किसान नेताओं ने इसके अलावा जनपद में आबारा पशुओं की समस्या को भी प्रमुखता से उठाते हुये मांग की है कि जिला प्रशासन द्वारा पहले से ही चिन्हित गांवों में गौशालाओं का संचालन कराया जाये साथ ही ऐसे स्थानों पर पशुओं के लिये चारा व पानी की भी व्यवस्था सुनिश्चित करायी जाये।

जालौन से सौरभ पांडेय की रिपोर्ट