अपने हक व अधिकार के लिये आगे आये क्षत्रिय समाजः अंशुमान सिंह सेंगर

जालौन। क्षत्रिय समाज के द्वारा आयोजित दशहरा मिलन समारोह में क्षत्रिय समाज में राजनैतिक दलों की स्वार्थपरता को आड़े हाथों लेते हुए जमकर खरी खोटी सुनाई और समाज के लोगों से एकजुट होकर अपने हक एवं अधिकार के लिए आगे आने का आवाहन किया।

यहां समर सिंह इंटर कालेज रामपुरा परिसर में आयोजित दहशरा मिलन समारोह की अध्यक्षता हरपाल सिंह ने और संचालन महेश सिंह सेंगर ने किया। समारोह में मुख्य अतिथि के रूप में पूर्व मंत्री ब्रजेन्द्र प्रताप सिंह, विशिष्ट अतिथि के रूप में जिला पंचायत सदस्य पुष्पेन्द्र सिंह, राजा सरावन प्रद्युम्न सिंह, प्रबंधक सुरेन्द्र सिंह चितौरा, हाकिम सिंह पचोखरा, गजेन्द्र सिंह सेंगर ऊमरी मौजूद रहे। सर्वप्रथम पूर्वमंत्री ब्रजेेन्द्र प्रताप सिंह, पुष्पेन्द्र सिंह सेंगर, सुरेन्द्र सिंह प्रबंधक समर सिंह इंटर कालेज रामपुरा ने भूरे सिंह की प्रतिमा पर माल्यार्पण किया। उनके साथ कल्याण सिंह सेंगर, मुन्ना ठेकेदार ऊमरी, क्षत्रिय महासभा उरई के अध्यक्ष राघवेन्द्र सिंह तथा अंशुमान सिंह सेंगर, तेजबहादुर सिंह मिहौनी ने भी माल्यार्पण किया। सम्मेलन में समाज की एकता एवं अखंडता को बनाए रखनेके साथ ही अकबरपुरा में नरेश बीरू के ऊपर हुए हमले का मामला उठाया गया। समाज के लोगों से शराब कर सेवन छोड़कर समाज के नवनिर्माण में भागीदार होने पर बल दिया गया। क्षत्रिय समाज के युवा नेता अंशुमान सिंह सेंगर ने समाज के लोगों से सकारात्मक सोच के साथ आगे बढने का आवाहन किया। श्री सेंगर ने कहा कि हमें किसी भी राजनैतिक दल का पिछलग्गू नही बनना चाहिए क्योंकि सत्ता में पहुंचने के बाद कोई भी राजनैतिक दल क्षत्रिय समाज के लिए कुछ नही करता है।




समारोह को मुख्य अतिथि के रूप में संबोधित करते हुए पूर्वमंत्री ब्रजेन्द्र प्रताप सिंह ने कहा कि समाज में व्याप्त कुरीतियों, शराब का सेवन तथा मृत्युभोज को खत्म करना होगा। माता पिता की बात मानने सही बात कहने की साहस पैदा करने का जज्बा करना होगा। क्योंकि आज क्षत्रिय समाज के साथ खिलवाड़ हो रहा है। जिन दयाशंकर सिंह को भाजपा ने पार्टी से बाहर का रास्ता दिखा दिया वह आज भी भाजपा में बने हुए है। भाजपा ने आज दिन तक यह नही कहां कि दयाशंकर केसाथ गलत हुआ इसके बाद भी स्वाति सिंह भाजपा महिला मोर्चा की प्रदेेश बन बैठी जबकि इसी पार्टी ने उनके पति को लात मारकर बाहर का रास्ता दिखा दिया। राजा भईया पर मायावती का कोड़ा चला लेकिन अपने को क्षत्रिय समाज को सिरमोर मानने वाले भाजपा नेता राजनाथ सिंह के मुंह से एक शब्द नही फूटा।

उन्होंने कहा कि आज राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ एवं भाजपा देश को गलत रास्ते पर ले जाने का काम कर रही है। मंदिर मुद्दे को लेकर प्रदेश एवं केन्द्र की सत्ता तक पहुंची भाजपा ने आज तक मंदिर तो नही बनाया मंदिर की दीवारें जरूर तोड़ डाली और इसके नाम पर लोगों को खून बहाया जबकि जिन स्वतंत्रता सेनानियों ने देश के लिए खून बहाया वे ऐसे लोगों की संतान है भाजपा आरएसएस ने सामान्य वर्ग के आरक्षण को खत्म कर दिया आज क्षत्रिय समाज दर-दर की ठोकरें खाने को मजबूर है। उन्होंने भाजपा को क्षत्रिय समाज का दुश्मन बताते हुए मौजूद लोगों से पूछा कि भाजपा ने समाज के लोगों को कितना सम्मान दिया। इस देश में अखिलेश नीतेश छाये हुए है तो कांग्रेस ने बीरभद्रसिंह और हरीश रावत कोे मुख्यमंत्री बनाने का काम किया है। उन्होंने समाज के लोगों से कुएं का मैढक न बनकर भाजपा का चश्मा उतारकर दूसरे दलों में मिल रहे सम्मान के बारे में भी जानकारी करने का आवाहन किया। उन्होंने भाजपा को सांप्रदायिक एवं झूठ का पुलंदा बताते हुए कहा कि केन्द्र में सरकार बनानेके बाद भी भाजपा अपने वादे पूरे नही कर पाई। उन्होेंने क्षत्रिय समाज को सामूहिक शादियां करने पर फिजूल खर्चे रोकने और शिक्षित होने की सलाह दी।

जालौन से सौरभ पांडेय की रिपोर्ट