जम्मू कश्मीर और लद्दाख आज से बने दो नए केन्द्र शासित प्रदेश 

Jammu Kashmir, Ladakh
जम्मू कश्मीर और लद्दाख आज से बने दो नए केन्द्र शासित प्रदेश 

श्रीनगर। जम्मू कश्मीर और लद्दाख आज से आधिकारिक तौर पर दो केन्द्र शासित प्रदेश बन गये हैं। आज से जम्मू कश्मीर में लगे राष्ट्रपति शासन को भी हटा दिया गया है। आपको बता दें कि 5 अगस्त को जम्मू कश्मीर से आर्टिकल 370 व 35 ए हटाने का संसद में बिल पास हुआ था जिसके बाद 31 अक्टूबर से आधिकारिक तौर पर जम्मू कश्मीर को दो केन्द्र शासित प्रदेश बनाने का निर्णय लिया गया था।

Jammu And Kashmir And Ladakh Two New Union Territories Formed From Today :

आधिकारिक अधिसूचना में कहा गया कि,”संविधान के अनुच्छेद 356 की धारा 2, के तहत प्राप्त अधिकारों का इस्तेमाल करते हुए मैं, रामनाथ कोविंद, भारत का राष्ट्रपति, मेरे द्वारा 19 दिसंबर, 2018 को जम्मू-कश्मीर राज्य के संबंध में जारी की गई अपनी उद्घोषणा को रद्द करता हूं।” आपको बता दें​ कि जून 2017 में जम्मू कश्मीर की तत्कालीन मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने इस्तीफा दे दिया था तभी से वहां राष्ट्रपति शासन लगा था। आज से वहां राष्ट्रपति शासन भी हटा दिया गया। जीसी मुर्मू जम्मू कश्मीर के तो आरके माथुर लद्दाख के नये उपराज्यपाल बने।

जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल 370 और 35 ए हटाने के साथ साथ सरकार पुनर्गठन बिल भी लाई थी जिसमें जम्मू कश्मीर को दो केंद्र शासित प्रदेशों में बांटने की बात कही गयी थी। बिल पास होते ही जम्मू कश्मीर को दो केन्द्र शासित प्रदेशों में बांट दिया गया था। 30 अक्टूबर रात जैसे ही 12 बजे और 31 अक्टूबर लग गया, उसी वक्त दो केन्द्र शासित प्रदेश बन गये। आपको बता दें कि जम्मू-कश्मीर में विधानसभा होगी, जबकि लद्दाख बिना विधानसभा या विधान परिषद के केंद्र शासित प्रदेश बना। जम्मू-कश्मीर में 20 और लद्दाख में 2 जिले होंगे। दोनो राज्यों का हाईकोर्ट एक ही होगा।

श्रीनगर। जम्मू कश्मीर और लद्दाख आज से आधिकारिक तौर पर दो केन्द्र शासित प्रदेश बन गये हैं। आज से जम्मू कश्मीर में लगे राष्ट्रपति शासन को भी हटा दिया गया है। आपको बता दें कि 5 अगस्त को जम्मू कश्मीर से आर्टिकल 370 व 35 ए हटाने का संसद में बिल पास हुआ था जिसके बाद 31 अक्टूबर से आधिकारिक तौर पर जम्मू कश्मीर को दो केन्द्र शासित प्रदेश बनाने का निर्णय लिया गया था। आधिकारिक अधिसूचना में कहा गया कि,''संविधान के अनुच्छेद 356 की धारा 2, के तहत प्राप्त अधिकारों का इस्तेमाल करते हुए मैं, रामनाथ कोविंद, भारत का राष्ट्रपति, मेरे द्वारा 19 दिसंबर, 2018 को जम्मू-कश्मीर राज्य के संबंध में जारी की गई अपनी उद्घोषणा को रद्द करता हूं।'' आपको बता दें​ कि जून 2017 में जम्मू कश्मीर की तत्कालीन मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने इस्तीफा दे दिया था तभी से वहां राष्ट्रपति शासन लगा था। आज से वहां राष्ट्रपति शासन भी हटा दिया गया। जीसी मुर्मू जम्मू कश्मीर के तो आरके माथुर लद्दाख के नये उपराज्यपाल बने। जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल 370 और 35 ए हटाने के साथ साथ सरकार पुनर्गठन बिल भी लाई थी जिसमें जम्मू कश्मीर को दो केंद्र शासित प्रदेशों में बांटने की बात कही गयी थी। बिल पास होते ही जम्मू कश्मीर को दो केन्द्र शासित प्रदेशों में बांट दिया गया था। 30 अक्टूबर रात जैसे ही 12 बजे और 31 अक्टूबर लग गया, उसी वक्त दो केन्द्र शासित प्रदेश बन गये। आपको बता दें कि जम्मू-कश्मीर में विधानसभा होगी, जबकि लद्दाख बिना विधानसभा या विधान परिषद के केंद्र शासित प्रदेश बना। जम्मू-कश्मीर में 20 और लद्दाख में 2 जिले होंगे। दोनो राज्यों का हाईकोर्ट एक ही होगा।