आरएसएस नेता की हत्या के बाद किश्तवाड़ में लगाया गया कफ्र्यू इंटरनेट भी बंद

a

किश्तवाड। जम्मू कश्मीर में किश्तवाड़ के स्वास्थ्य केन्द्र में हुए हमले में घायल आरएसएस नेता चंद्राकांत और उनके निजी गार्ड की मौत हो गयी। इस घटना के बाद पूरे इलाके में तनाव फैल गया। प्रशासन ने क्षेत्र की संवेदनशीलता को देखते हुये कफ्र्यू लगा दिया और कानून व्यवस्था में मदद के लिए सेना को बुला लिया। क्षेत्र में इंटरनेट सेवाएं भी बंद कर दी गई हैं।

Jammu And Kashmir Rss Leader And His Security Officer Shot Dead In Kishtwar Curfew Imposed :


बता दें कि मंगलवार दोपहर साढ़े बारह बजे एक आतंकी स्वास्थ्य केन्द्र में घुस आया और आरएसएस नेता चंद्रकांत शर्मा पर गोलीबारी शुरू कर दी। शर्मा और उनके पीएसओ राजिंदर किश्तवाड़ के स्वास्थ्य केन्द्र में आये हुये थे। आतंकी उनकी आवाजाही पर नजर बनाए हुए थे। इस गोलीबारी में पीएसओ की मौत हो गई और नेता घायल हो गये थे।

चंद्रकांतशर्मा को इलाज के लिए हवाई विमान से जम्मू ले आया गया लेकिन उनकी अस्पताल में मौत हो गई। जम्मू क्षेत्र के किश्तवाड़ और भद्रवाह में कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए सेना को बुला लिया गया। साथ ही इन इलाकों में कफ्र्यू लगाकर इंटरनेट सेवा को बंद कर दिया गया है। जम्मू क्षेत्र के पुलिस महानिरीक्षक मनीष सिंह ने बताया कि ऐहतियाती कदम के तौर पर कफ्र्यू लगाया गया है।

हमले के बाद आतंकी राजिंदर का हथियार लेकर वहां से भाग गया। हमले के बाद किश्तवाड़ में सरकार और पुलिस के खिलाफ प्रदर्शनों का सिलसिला शुरू हो गया। इससे पहले एक नवम्बर में बीजेपी की राज्य इकाई के सचिव अनिल परिहार और उनके भाई अजित की किश्तवाड़ में आतंकवादियों ने दुकान से लौटते समय हत्या कर दी थी।

किश्तवाड। जम्मू कश्मीर में किश्तवाड़ के स्वास्थ्य केन्द्र में हुए हमले में घायल आरएसएस नेता चंद्राकांत और उनके निजी गार्ड की मौत हो गयी। इस घटना के बाद पूरे इलाके में तनाव फैल गया। प्रशासन ने क्षेत्र की संवेदनशीलता को देखते हुये कफ्र्यू लगा दिया और कानून व्यवस्था में मदद के लिए सेना को बुला लिया। क्षेत्र में इंटरनेट सेवाएं भी बंद कर दी गई हैं।


बता दें कि मंगलवार दोपहर साढ़े बारह बजे एक आतंकी स्वास्थ्य केन्द्र में घुस आया और आरएसएस नेता चंद्रकांत शर्मा पर गोलीबारी शुरू कर दी। शर्मा और उनके पीएसओ राजिंदर किश्तवाड़ के स्वास्थ्य केन्द्र में आये हुये थे। आतंकी उनकी आवाजाही पर नजर बनाए हुए थे। इस गोलीबारी में पीएसओ की मौत हो गई और नेता घायल हो गये थे।

चंद्रकांतशर्मा को इलाज के लिए हवाई विमान से जम्मू ले आया गया लेकिन उनकी अस्पताल में मौत हो गई। जम्मू क्षेत्र के किश्तवाड़ और भद्रवाह में कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए सेना को बुला लिया गया। साथ ही इन इलाकों में कफ्र्यू लगाकर इंटरनेट सेवा को बंद कर दिया गया है। जम्मू क्षेत्र के पुलिस महानिरीक्षक मनीष सिंह ने बताया कि ऐहतियाती कदम के तौर पर कफ्र्यू लगाया गया है।

हमले के बाद आतंकी राजिंदर का हथियार लेकर वहां से भाग गया। हमले के बाद किश्तवाड़ में सरकार और पुलिस के खिलाफ प्रदर्शनों का सिलसिला शुरू हो गया। इससे पहले एक नवम्बर में बीजेपी की राज्य इकाई के सचिव अनिल परिहार और उनके भाई अजित की किश्तवाड़ में आतंकवादियों ने दुकान से लौटते समय हत्या कर दी थी।