जम्मू और कश्मीर के मैदानी इलाकों में बारिश व बर्फबारी से बाढ़ जैसी स्थिति

श्रीनगर: जम्मू और कश्मीर के मैदानी इलाकों में लगातार बारिश और बर्फबारी के कारण बाढ़ जैसी स्थिति बन गई है। मौसम विभाग के एक अधिकारी ने कहा कि शुक्रवार से मौसम में सुधार होगा। पिछले तीन दिनों से राज्य के मैदानी इलाकों में बिना मौसम के बर्फबारी और लगातार बारिश होने के कारण प्रादेशिक प्रशासन ने गुरुवार को कश्मीर घाटी के सभी स्कूलों को सोमवार तक बंद करने के आदेश दिए हैं।




भारी बारिश के कारण घाटी की ज्यादातर झीलों, नदी और नालों में जलस्तर बढ़ गया है। बाढ़ नियंत्रक विभाग ने झीलों और नदियों के जलस्तर की निगरानी के लिए गुरुवार को अपने सभी सहकर्मियों को चौबीसों घंटे अपने स्थानों पर तैनात रहने का निर्देश दिया। अधिकारियों ने बताया कि गुरुवार तड़के एक बजे दक्षिण कश्मीर के संगम, श्रीनगर के राम मुंशीबाग और उत्तर कश्मीर के अशाम में झेलम नदी खतरे के निशान से एक मीटर नीचे बह रही थी।

हालांकि रिपोर्ट्स के अनुसार उत्तरी कश्मीर के बारामूला जिले के फिरोजपुर नाले का जलस्तर सामान्य से ऊपर होने के कारण इसका पानी कई गांवों में घुस गया। पुलिस से कहा, “राहत टीमें इन क्षेत्रों में सहायता और राहत कार्य के लिए पहुंच चुकी हैं।” जम्मू और कश्मीर मौसम विभाग के निदेशक सनम लोटस ने फोन पर आईएएनएस को बताया, “गुरुवार को दोपहर के बाद बर्फबारी और बारिश में कमी आएगी और शुक्रवार से मौसम में सुधार होगा।”




उन्होंने कहा, “इसलिए परेशानी की कोई बात नहीं है। लेकिन निचले इलाकों में रहने वाले लोगों को पानी जमा होने के कारण परेशानी का सामना करना पड़ सकता है।” मौसम विभाग ने इस दौरान जम्मू-कश्मीर राजमार्ग पर भूस्खलन की संभावना के अतिरिक्त ओलावृष्टि और तेज आंधी चलने की आशंका व्यक्त की है।

Loading...