जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक बोले- शांति बनाए रखें और अफवाहों पर ध्यान न दें

datypal
जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक बोले- शांति बनाए रखें और अफवाहों पर ध्यान न दें

नई दिल्ली। जम्मू कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने शुक्रवार शाम को राज्य के राजनीतिक दलों के प्रतिनिधि मंडल के साथ मुलाकात की और उन्हें शांत रहने व अफवाहों पर ध्यान न देने की नसीहत दी। शुक्रवार देर रात कश्मीरी राजनीतिक दलों के प्रतिनिधिमंडल के साथ मुलाकात के दौरान राज्यपाल उन्हें आश्‍वस्‍त किया। प्रतिनिधमंडल में पीडीपी अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती, शाह फैजल, सज्जाद लोन, इमरान अंसारी शामिल थे। इन नेताओं ने राज्यपाल से देर रात मुलाकात के लिए समय मांगा। राज्यपाल ने तुरंत उन्हें समय दे दिया।

Jammu Satyapal Malik Said Do Not Believe In Rumors And Keep Peace :

प्रतिनिधिमंडल ने अमरनाथ यात्रियों पर जारी एडवाइजरी का हवाला देते हुए कहा कि इससे कश्मीर के लोगों में असमंजस की स्थिति बनी है। राज्यपाल ने प्रतिनिधिमंडल को आश्वासन दिलाया कि सुरक्षाबलों को कुछ अहम और पुष्ट सूचनाएं मिली हैं कि आतंकी अमरनाथ यात्रियों पर हमला कर सकते हैं। उन्होंने विश्वास दिलाया है कि सेना और सुरक्षाबल आतंकियों के किसी भी हमले को विफल बनाने में सक्षम हैं और उनके किसी भी नापाक इरादे को सफल नहीं होने देंगे।

राज्यपाल ने कहा कि यह जिम्मेदारी सरकार की है कि सभी श्रद्धालुओं को सुरक्षा मुहैया करवाई जाए। यह भी सुनिश्चित बनाया गया है कि कोई भी आतंकी किसी भी पर्यटक और श्रद्धालु को निशाना न बनाए। इसीलिए यह एडवाइजरी जारी की गई। बेबजह अशांति फैलाने और मुद्दे को उछालने से कोई लाभ नहीं है। सुरक्षा के तहत उठाए गए तमाम मुद्दों का बखेड़ा खड़ा करने का कोई औचित्य नहीं है।

इस बारे में गृह सचिव और डिवीजनल कमिश्नर ने भी सरकार का रुख स्पष्ट करा दिया। राज्यपाल ने सभी राजनीतिक दलों के नेताओं और उनके समर्थकों से अनुरोध किया कि वे इस मुद्दे को न उछालें और शांति बनाए रखें। अफवाहें समाज हित में नहीं हैं। राज्यपाल ने कहा कि वह अनुच्छेद 35-ए पर बृहस्पतिवार को ही अपना रुख स्पष्ट कर चुके हैं।

नई दिल्ली। जम्मू कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने शुक्रवार शाम को राज्य के राजनीतिक दलों के प्रतिनिधि मंडल के साथ मुलाकात की और उन्हें शांत रहने व अफवाहों पर ध्यान न देने की नसीहत दी। शुक्रवार देर रात कश्मीरी राजनीतिक दलों के प्रतिनिधिमंडल के साथ मुलाकात के दौरान राज्यपाल उन्हें आश्‍वस्‍त किया। प्रतिनिधमंडल में पीडीपी अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती, शाह फैजल, सज्जाद लोन, इमरान अंसारी शामिल थे। इन नेताओं ने राज्यपाल से देर रात मुलाकात के लिए समय मांगा। राज्यपाल ने तुरंत उन्हें समय दे दिया। प्रतिनिधिमंडल ने अमरनाथ यात्रियों पर जारी एडवाइजरी का हवाला देते हुए कहा कि इससे कश्मीर के लोगों में असमंजस की स्थिति बनी है। राज्यपाल ने प्रतिनिधिमंडल को आश्वासन दिलाया कि सुरक्षाबलों को कुछ अहम और पुष्ट सूचनाएं मिली हैं कि आतंकी अमरनाथ यात्रियों पर हमला कर सकते हैं। उन्होंने विश्वास दिलाया है कि सेना और सुरक्षाबल आतंकियों के किसी भी हमले को विफल बनाने में सक्षम हैं और उनके किसी भी नापाक इरादे को सफल नहीं होने देंगे। राज्यपाल ने कहा कि यह जिम्मेदारी सरकार की है कि सभी श्रद्धालुओं को सुरक्षा मुहैया करवाई जाए। यह भी सुनिश्चित बनाया गया है कि कोई भी आतंकी किसी भी पर्यटक और श्रद्धालु को निशाना न बनाए। इसीलिए यह एडवाइजरी जारी की गई। बेबजह अशांति फैलाने और मुद्दे को उछालने से कोई लाभ नहीं है। सुरक्षा के तहत उठाए गए तमाम मुद्दों का बखेड़ा खड़ा करने का कोई औचित्य नहीं है। इस बारे में गृह सचिव और डिवीजनल कमिश्नर ने भी सरकार का रुख स्पष्ट करा दिया। राज्यपाल ने सभी राजनीतिक दलों के नेताओं और उनके समर्थकों से अनुरोध किया कि वे इस मुद्दे को न उछालें और शांति बनाए रखें। अफवाहें समाज हित में नहीं हैं। राज्यपाल ने कहा कि वह अनुच्छेद 35-ए पर बृहस्पतिवार को ही अपना रुख स्पष्ट कर चुके हैं।