बिहार: प्रशांत किशोर का JDU मे बढ़ा रुतबा, नीतीश कुमार ने बनाया उपाध्यक्ष

बिहार: प्रशांत किशोर का JDU मे बढ़ा रुतबा, नीतीश कुमार ने बनाया उपाध्यक्ष
बिहार: प्रशांत किशोर का JDU मे बढ़ा रुतबा, नीतीश कुमार ने बनाया उपाध्यक्ष

पटना। 2014 लोकसभा चुनाव में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को दिल्ली की तख्त तक पहुंचाने में अहम भूमिका निभाने वाले चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर को बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने जेडीयू में बड़ी भूमिका दी है। जदयू के प्रधान महासचिव केसी त्यागी ने इसकी जानकारी दी और साथ ही उन्हें बधाई भी दी है। जदयू में राष्ट्रीय उपाध्यक्ष का पद रिक्त था और अब प्रशांत किशोर के रूप में पार्टी को नया उपाध्यक्ष मिल गया है।

Janata Dal United Appointed Prashant Kishor As National Vice President :

प्रशांत किशोर ने 16 सितंबर को पटना में आयोजित हुई जेडीयू की राष्ट्रीय कार्यकारिणी में हिस्सा लिया और यहीं उन्होंने अपनी राजनीतिक पारी की शुरुआत की थी। माना जा रहा था कि पार्टी में उन्हें जल्द ही कोई बड़ा पद दिया जा सकता है। एक महीने के भीतर ही उन्हें पार्टी का राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बनाया गया है।

बता दें कि 2014 के आम चुनाव में प्रशांत किशोर यानी ‘पीके’ नरेंद्र मोदी के खास सिपहसालार थे और केंद्र में 3 दशकों बाद बीजेपी के रूप में किसी एक पार्टी को बहुमत के पीछे उनकी अहम भूमिका मानी जाती है। 2014 के बाद सियासी गलियारों में वह तेजी से चर्चित हुए।

उपाध्यक्ष बनने के बाद प्रशांत किशोर ने नीतीश कुमार की तारीफ की। उन्होंने ट्वीट कर कहा, ”जदयू और पार्टी के नेतृत्व का इस ज़िम्मेदारी और सम्मान के लिए हृदय से आभार. नीतीश जी की न्याय संग विकास की विचारधारा और बिहार के प्रति मैं प्रतिबद्ध हूं।”

कौन हैं प्रशांत किशोर

प्रशांत किशोर यूनाइटेड नेशन्स में हेल्थ वर्कर रहे हैं, लेकिन 2011 में वे भारत लौटे और राजनीतिक पार्टियों के इलेक्शन कैंपेन और स्ट्रैटजी बनाने का काम करने लगे। बताया जाता है कि वे बिहार बॉर्डर से सटे यूपी के बलिया जिले के रहने वाले हैं। उन्होंने भाजपा और नरेंद्र मोदी के साथ मिलकर गुजरात में कैंपेन शुरू किया। 2012 में उन्होंने गुजरात विधानसभा चुनाव में नरेंद्र मोदी को मुख्यमंत्री बनाने के लिए कैंपेन की कमान अपने हाथों में ली। उस दौर में प्रशांत, मोदी के साथ सीएम आवास में रहते थे।

पटना। 2014 लोकसभा चुनाव में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को दिल्ली की तख्त तक पहुंचाने में अहम भूमिका निभाने वाले चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर को बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने जेडीयू में बड़ी भूमिका दी है। जदयू के प्रधान महासचिव केसी त्यागी ने इसकी जानकारी दी और साथ ही उन्हें बधाई भी दी है। जदयू में राष्ट्रीय उपाध्यक्ष का पद रिक्त था और अब प्रशांत किशोर के रूप में पार्टी को नया उपाध्यक्ष मिल गया है। प्रशांत किशोर ने 16 सितंबर को पटना में आयोजित हुई जेडीयू की राष्ट्रीय कार्यकारिणी में हिस्सा लिया और यहीं उन्होंने अपनी राजनीतिक पारी की शुरुआत की थी। माना जा रहा था कि पार्टी में उन्हें जल्द ही कोई बड़ा पद दिया जा सकता है। एक महीने के भीतर ही उन्हें पार्टी का राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बनाया गया है। बता दें कि 2014 के आम चुनाव में प्रशांत किशोर यानी 'पीके' नरेंद्र मोदी के खास सिपहसालार थे और केंद्र में 3 दशकों बाद बीजेपी के रूप में किसी एक पार्टी को बहुमत के पीछे उनकी अहम भूमिका मानी जाती है। 2014 के बाद सियासी गलियारों में वह तेजी से चर्चित हुए। उपाध्यक्ष बनने के बाद प्रशांत किशोर ने नीतीश कुमार की तारीफ की। उन्होंने ट्वीट कर कहा, ''जदयू और पार्टी के नेतृत्व का इस ज़िम्मेदारी और सम्मान के लिए हृदय से आभार. नीतीश जी की न्याय संग विकास की विचारधारा और बिहार के प्रति मैं प्रतिबद्ध हूं।''

कौन हैं प्रशांत किशोर

प्रशांत किशोर यूनाइटेड नेशन्स में हेल्थ वर्कर रहे हैं, लेकिन 2011 में वे भारत लौटे और राजनीतिक पार्टियों के इलेक्शन कैंपेन और स्ट्रैटजी बनाने का काम करने लगे। बताया जाता है कि वे बिहार बॉर्डर से सटे यूपी के बलिया जिले के रहने वाले हैं। उन्होंने भाजपा और नरेंद्र मोदी के साथ मिलकर गुजरात में कैंपेन शुरू किया। 2012 में उन्होंने गुजरात विधानसभा चुनाव में नरेंद्र मोदी को मुख्यमंत्री बनाने के लिए कैंपेन की कमान अपने हाथों में ली। उस दौर में प्रशांत, मोदी के साथ सीएम आवास में रहते थे।