1. हिन्दी समाचार
  2. एस्ट्रोलोजी
  3. Janmashtami vrat 2022 : जन्माष्टमी व्रत से मिलता है 20 करोड़ एकादशी का फल, नोट कर लें डेट, पूजा- विधि और शुभ मुहूर्त

Janmashtami vrat 2022 : जन्माष्टमी व्रत से मिलता है 20 करोड़ एकादशी का फल, नोट कर लें डेट, पूजा- विधि और शुभ मुहूर्त

Janmashtami vrat 2022 :  कृष्ण जन्माष्टमी 19 अगस्त को मनाया जायेगा। 18 अगस्त को रात 12:14 मिनट में अष्टमी तिथि का प्रवेश होगा। जो 19 अगस्त को रात 1:06 मिनट तक रहेगा। इसी दिन रोहिणी नक्षत्र रात 4:58 मिनट में प्रवेश करेगा। इसीलिए देशभर में 19 अगस्त को ही कृष्ण जन्माष्टमी मनाया जायेगा।

By संतोष सिंह 
Updated Date

Janmashtami vrat 2022 :  कृष्ण जन्माष्टमी 19 अगस्त को मनाया जायेगा। 18 अगस्त को रात 12:14 मिनट में अष्टमी तिथि का प्रवेश होगा। जो 19 अगस्त को रात 1:06 मिनट तक रहेगा। इसी दिन रोहिणी नक्षत्र रात 4:58 मिनट में प्रवेश करेगा। इसीलिए देशभर में 19 अगस्त को ही कृष्ण जन्माष्टमी मनाया जायेगा। इसीदिन व्रत रखा जायेगा। उन्होंने बताया कि वैष्णव व गृहस्थ दोनों एक ही दिन जन्माष्टमी मनायेंगे। जन्माष्टमी का व्रत करने से 20 करोड़ एकादशी का फल मिलता है।

पढ़ें :- Janmashtami 2022 : कृष्ण जन्माष्टमी की पूजा के दौरान पढ़ें ये कथा और आरती

आइए जानते हैं नियम और पूजा- विधि…

  • सुबह जल्दी उठकर स्नान आदि से निवृत्त हो जाएं।
  • घर के मंदिर में साफ- सफाई करें।
  • घर के मंदिर में दीप प्रज्वलित करें।
  • सभी देवी- देवताओं का जलाभिषेक करें।
  • इस दिन भगवान श्री कृष्ण के बाल रूप यानी लड्डू गोपाल की पूजा की जाती है।
  • लड्डू गोपाल का जलाभिषेक करें।
  • इस दिन लड्डू गोपाल को झूले में बैठाएं।
  • लड्डू गोपाल को झूला झूलाएं।
  • अपनी इच्छानुसार लड्डू गोपाल को भोग लगाएं। इस बात का ध्यान रखें कि भगवान को सिर्फ सात्विक चीजों का भोग लगाया जाता है।
  • लड्डू गोपाल की सेवा पुत्र की तरह करें।
  • इस दिन रात्रि पूजा का महत्व होता है, क्योंकि भगवान श्री कृष्ण का जन्म रात में हुआ था।
  • रात्रि में भगवान श्री कृष्ण की विशेष पूजा- अर्चना करें।
  • लड्डू गोपाल को मिश्री, मेवा का भोग भी लगाएं।
  • लड्डू गोपाल की आरती करें।
  • इस दिन अधिक से अधिक लड्डू गोपाल का ध्यान रखें।
  • इस दिन लड्डू गोपाल की अधिक से अधिक सेवा करें।

इन नियमों का करें पालन-

  • इस पावन दिन भगवान श्री कृष्ण की पूजा के साथ ही गाय की भी पूजा करें। पूजा स्थल पर भगवान श्री कृष्ण की मूर्ति के साथ गाय की मूर्ति भी रखें।
  • पूजा सुंदर और साफ आसन में बैठकर की जानी चाहिए।
  • भगवान श्री कृष्ण का गंगा जल से अभिषेक जरूर करें।
  • गाय के दूध से बने घी का इस्तेमाल करें।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...