असमंजस में भगवान श्रीकृष्ण की जन्माष्टमी, जानें कब है सही मुहूर्त

भगवान श्रीक़ृष्ण के जन्म दिवस को लेकर इस लोग असमंजस में हैं। भाद्रपद के कृष्ण पक्ष की अष्टमी की मध्य रात्रि को जन्मे भगवान कृष्ण का जन्मदिन हर साल इसी तिथि में मनाया जाता है। लेकिन इस साल जन्माष्टमी को लेकर एक पेंच फंस गया है और लोग उलझन में हैं।

Janmashtmi 2017 Vrat Puja Muhurta :

कृष्ण जन्माष्टमी को लेकर 14 अगस्‍त्‍ा की शाम 7:48 बजे अष्टमी तिथि लग जाएगी, जो मंगलवार शाम 5:42 बजे तक रहेगी। ऐसे में लोग जन्माष्टमी को लेकर असमंजस की स्थिति में हैं। शास्त्रों इस तरह की उलझनों के लिए एक आसान सा उपाय बताया गया है कि गृहस्थों को उस दिन व्रत रखना चाहिए जिस रात अष्टमी तिथि लग रही हो।

इसके अनुसार 14 अगस्त को कृष्ण जन्माष्टमी का व्रत रख सकते हैं। जो लोग वैष्णव और साधु संत हैं वह 15 अगस्त को अष्टमी तिथि में व्रत रख सकते हैं। हिन्‍दू पंचाग के अनुसार उदया तिथि को सर्वश्रेष्ठ माना जाता है और अष्टमी की उदया तिथि 15 अगस्त को है।

भगवान श्रीक़ृष्ण के जन्म दिवस को लेकर इस लोग असमंजस में हैं। भाद्रपद के कृष्ण पक्ष की अष्टमी की मध्य रात्रि को जन्मे भगवान कृष्ण का जन्मदिन हर साल इसी तिथि में मनाया जाता है। लेकिन इस साल जन्माष्टमी को लेकर एक पेंच फंस गया है और लोग उलझन में हैं।कृष्ण जन्माष्टमी को लेकर 14 अगस्‍त्‍ा की शाम 7:48 बजे अष्टमी तिथि लग जाएगी, जो मंगलवार शाम 5:42 बजे तक रहेगी। ऐसे में लोग जन्माष्टमी को लेकर असमंजस की स्थिति में हैं। शास्त्रों इस तरह की उलझनों के लिए एक आसान सा उपाय बताया गया है कि गृहस्थों को उस दिन व्रत रखना चाहिए जिस रात अष्टमी तिथि लग रही हो।इसके अनुसार 14 अगस्त को कृष्ण जन्माष्टमी का व्रत रख सकते हैं। जो लोग वैष्णव और साधु संत हैं वह 15 अगस्त को अष्टमी तिथि में व्रत रख सकते हैं। हिन्‍दू पंचाग के अनुसार उदया तिथि को सर्वश्रेष्ठ माना जाता है और अष्टमी की उदया तिथि 15 अगस्त को है।