जापान ने बनाई ऐसी टेक्नोलॉजी, जिससे हमेशा के लिए मिल जायेगा प्रदूषण से छुटकारा

Japan's technology
जापान ने बताई ऐसी टेक्नोलॉजी, जिससे हमेशा के लिए मिल जायेगा प्रदूषण से छुटकारा

नई दिल्ली। दुनिया में आजकल लगातार प्रदूषण की म़ात्रा बढ़ती चली जा रही है। इसे रोकने के लिए हर देश अलग अलग तरीके अपना रहा है। वहीं जापान ने एक ऐसी टेक्नोलॉजी बनाई है जिससे प्रदूषण से हमेशा के लिए छुटकारा मिल जायेगा। सबसे बड़ी बात ये है कि दिल्ली-एनसीआर में फैले प्रदूषण पर ही जापान की यूनिवर्सिटी ने रिसर्च किया है।

Japans Technology Will Get Rid Of Pollution Forever :

भारत इस समय दुनिया के देशों में प्रदूषण के मामले में काफी आगे पंहुच गया है। जापान की इस टेक्नोलॉजी का प्रयोग करके दिल्ली-एनसीआर समेत पूरे उत्तर पूर्व भारत में फैले प्रदूषण को कम किया जा सकता है। आपको बता दें कि दिल्ली में प्रदूषण से निपटने के लिए केजरीवाल सरकार ने ऑड ईवन जैसा फॉर्मूला लागू किया है। लेकिन इससे भी प्रदूषण का स्तर ज्यादा कम नही हुआ है। आसमान पर एक बार फिर स्मॉग की गहरी चादर बिछी है।

आजकल दिल्ली की प्रदेश सरकार हो या केन्द्र सरकार, दोनो सरकारे लगातार प्रयास कर रही हैं कि जैसे तेैसे प्रदूषण को कम किया जाये। यहां तक कि सुप्रीम कोर्ट तक में भी ये सवाल उठ रहा है। सुप्रीम कोर्ट ने पराली जलाये जाने के लिए पंजाब व हरियाणा सरकार को चेतावनी भी दी है लेकिन अभी भी प्रदूषण में कोई गिरावट नही हो पा रही है। इसीलिए सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार को निर्देश दिया कि वो पता लगाए कि दिल्ली-एनसीआर के प्रदूषण को कम करने में जापान की हाइड्रोजन आधारित टेक्नोलॉजी कितना प्रभावी साबित होगी। बताया जा रहा है कि हाइड्रोजन आधारित टेक्नोलॉजी के जरिए यहां के प्रदूषण को खत्म किया जा सकता है।

नई दिल्ली। दुनिया में आजकल लगातार प्रदूषण की म़ात्रा बढ़ती चली जा रही है। इसे रोकने के लिए हर देश अलग अलग तरीके अपना रहा है। वहीं जापान ने एक ऐसी टेक्नोलॉजी बनाई है जिससे प्रदूषण से हमेशा के लिए छुटकारा मिल जायेगा। सबसे बड़ी बात ये है कि दिल्ली-एनसीआर में फैले प्रदूषण पर ही जापान की यूनिवर्सिटी ने रिसर्च किया है। भारत इस समय दुनिया के देशों में प्रदूषण के मामले में काफी आगे पंहुच गया है। जापान की इस टेक्नोलॉजी का प्रयोग करके दिल्ली-एनसीआर समेत पूरे उत्तर पूर्व भारत में फैले प्रदूषण को कम किया जा सकता है। आपको बता दें कि दिल्ली में प्रदूषण से निपटने के लिए केजरीवाल सरकार ने ऑड ईवन जैसा फॉर्मूला लागू किया है। लेकिन इससे भी प्रदूषण का स्तर ज्यादा कम नही हुआ है। आसमान पर एक बार फिर स्मॉग की गहरी चादर बिछी है। आजकल दिल्ली की प्रदेश सरकार हो या केन्द्र सरकार, दोनो सरकारे लगातार प्रयास कर रही हैं कि जैसे तेैसे प्रदूषण को कम किया जाये। यहां तक कि सुप्रीम कोर्ट तक में भी ये सवाल उठ रहा है। सुप्रीम कोर्ट ने पराली जलाये जाने के लिए पंजाब व हरियाणा सरकार को चेतावनी भी दी है लेकिन अभी भी प्रदूषण में कोई गिरावट नही हो पा रही है। इसीलिए सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार को निर्देश दिया कि वो पता लगाए कि दिल्ली-एनसीआर के प्रदूषण को कम करने में जापान की हाइड्रोजन आधारित टेक्नोलॉजी कितना प्रभावी साबित होगी। बताया जा रहा है कि हाइड्रोजन आधारित टेक्नोलॉजी के जरिए यहां के प्रदूषण को खत्म किया जा सकता है।