1. हिन्दी समाचार
  2. जावेद जाफरी पिता के पार्थिव देह को लेकर कब्रिस्तान, 1 बजे से 3:00 बजे के बीच किया जाएगा सुपुर्द-ए-खाक

जावेद जाफरी पिता के पार्थिव देह को लेकर कब्रिस्तान, 1 बजे से 3:00 बजे के बीच किया जाएगा सुपुर्द-ए-खाक

Javed Jaffrey Cemetery With The Body Of Fathers Body

By आराधना शर्मा 
Updated Date

लोगों के दिलों पर राज करने वाले कॉमेडियन जगदीप उर्फ सैयद इश्तियाक अहमद जाफरी का बीती रात निधन हो गया।  रिपोर्ट्स की मानें तो जगदीप को सुपुर्द-ए-खाक किए जाने का वक्त 1:30- 3:00 के बीच का है।

पढ़ें :- डीआईओएस कार्यालय का डीएम ने किया औचक निरीक्षण

बताया जा रहा है कि परिवार जगदीप के पोते और जावेद के बेटे मीजान जाफरी के आने का इंतजार कर रहा है, जो मुंबई से बाहर अपने फार्महाउस पर थे। उनके बेटे जावेद पार्थिव देह को लेकर कब्रिस्तान पहुंच चुके हैं।

जगदीप जावेद और नावेद जाफरी के पिता थे। उनकी मुस्कान नाम की एक बेटी भी है। बताया जा रहा कि 81 साल के जगदीप लंबे समय से बीमारियों से परेशान चल रहे थे।

पॉपुलर किरदार ‘सूरमा भोपाली’ 

जगदीप रमेश सिप्पी की फिल्म ‘शोले’ (1975) के किरदार सूरमा भोपाली के नाम से पॉपुलर थे। यह बात कम ही लोग जानते होंगे कि इस किरदार की खोज का क्रेडिट भी उन्हें ही जाता है।

पढ़ें :- यूपीः आजम खान के बेटे अब्दुल्ला आजम से होगी 65 लाख की वसूली

पढ़ें :- सीएम अशोक गहलोत का बड़ा आरोप, कहा-राजस्थान में सरकार गिराने की साजिश कर रही है बीजेपी

दरअसल, जब ‘शोले’ के राइटर सलीम-जावेद कहानी लिख रहे थे, तब जगदीप ने खुद उन्हें भोपाल के एक फॉरेस्ट ऑफिसर के बारे में बताया था, जिसे सूरमा कहा जाता था।

जगदीप ने सूरमा की खासियत के बारे में भी सलीम-जावेद के साथ डिस्कशन किया था, जिन्हें फिल्म में शामिल किया गया। यह खुलासा खुद जगदीप ने एक इंटरव्यू में किया था।

जगदीप ने बतौर निर्देशक किरदार ‘सूरमा भोपाली’ पर 1988 में इसी टाइटल के साथ फिल्म बनाई और उन्होंने ही इसमें मुख्य भूमिका निभाई थी। फिल्म को उनके बेटे नवेद ने प्रोड्यूस किया था। अमिताभ बच्चन, रेखा और धर्मेंद्र ने इसमें कैमियो किया था।

 

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...