डिंपल और सुब्रत रॉय सहारा के साथ राज्यसभा नामांकन करने पहुंचीं जया बच्चन

डिंपल और सुब्रत रॉय सहारा के साथ राज्यसभा नामांकन करने पहुंचीं जया बच्चन
डिंपल और सुब्रत रॉय सहारा के साथ राज्यसभा नामांकन करने पहुंचीं जया बच्चन

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में राज्यसभा की 10 सीटों के लिए नामांकन प्रक्रिया प्रारंभ हो गई है। बसपा उम्मीदवार भीमराव अंबेडकर के बाद शुक्रवार को फिल्म अभिनेत्री व समाजवादी पार्टी की नेता जया बच्चन ने सपा के उम्मीदवार के तौर पर शुक्रवार को राज्यसभा से नामांकन भरा। राज्यसभा के लिए मतदान 22 मार्च को होगा। इस मौके पर उनके साथ कन्नौज की सांसद डिंपल यादव, पार्टी के वरिष्ठ नेता राजेन्द्र चौधरी, किरनमय नंदा, अभिषेक मिश्रा के अलावा सुब्रत राय सहारा भी मौजूद थे।

Jaya Bachchan File Nomination For Rajya Sabha Candidate From Samajwadi Party :

नामांकन के बाद जया ने पत्रकारों से बातचीत में कहा, ‘मैं अपनी उम्मीदवारी के लिए मुलायम सिंह यादव जी, पार्टी के सभी विधायकों और विधान परिषद सदस्यों को धन्यवाद देती हूं।’ बता दें कि उत्तर प्रदेश में राज्यसभा की 10 सीटों के लिए आगामी 23 मार्च को मतदान होगा । हालांकि जया के नामांकान के दौरान यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की गैर मौजदूगी खटकती रही. जया राज्यसभा में 2004 से सपा का प्रतिनिधित्व कर रहीं हैं । जया का कार्यकाल 2 अप्रैल को समाप्त हो रहा है । इस सवाल पर कि सपा ने किरण मय नंदा और नरेश अग्रवाल जैसे वरिष्ठ नेताओं की जगह उन्हें राज्यसभा का टिकट दिया, जया ने कहा, ‘मैं भी सीनियर हूं।’

चुनाव का गणित

प्रदेश की 403 सदस्यीय विधानसभा में भाजपा और उसके सहयोगी दलों के वर्तमान सदस्यों की संख्या 324 है. सपा के पास 47, बसपा के पास 19, कांग्रेस के पास सात और राष्ट्रीय लोकदल के पास एक विधायक है। करीब दो साल पहले हुए राज्यसभा चुनाव के वक्त उत्तर प्रदेश में सपा स्पष्ट बहुमत के साथ सत्तारूढ़ थी और अपने संख्याबल के बूते उसने छह सीटें जीत ली थीं, लेकिन इस बार वह अपने एक उम्मीदवार को ही जिता सकेगी । एक राज्यसभा सदस्य को जीतने के लिए कम से कम 37 विधायकों के वोट की जरूरत होगी।

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में राज्यसभा की 10 सीटों के लिए नामांकन प्रक्रिया प्रारंभ हो गई है। बसपा उम्मीदवार भीमराव अंबेडकर के बाद शुक्रवार को फिल्म अभिनेत्री व समाजवादी पार्टी की नेता जया बच्चन ने सपा के उम्मीदवार के तौर पर शुक्रवार को राज्यसभा से नामांकन भरा। राज्यसभा के लिए मतदान 22 मार्च को होगा। इस मौके पर उनके साथ कन्नौज की सांसद डिंपल यादव, पार्टी के वरिष्ठ नेता राजेन्द्र चौधरी, किरनमय नंदा, अभिषेक मिश्रा के अलावा सुब्रत राय सहारा भी मौजूद थे।नामांकन के बाद जया ने पत्रकारों से बातचीत में कहा, 'मैं अपनी उम्मीदवारी के लिए मुलायम सिंह यादव जी, पार्टी के सभी विधायकों और विधान परिषद सदस्यों को धन्यवाद देती हूं।' बता दें कि उत्तर प्रदेश में राज्यसभा की 10 सीटों के लिए आगामी 23 मार्च को मतदान होगा । हालांकि जया के नामांकान के दौरान यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की गैर मौजदूगी खटकती रही. जया राज्यसभा में 2004 से सपा का प्रतिनिधित्व कर रहीं हैं । जया का कार्यकाल 2 अप्रैल को समाप्त हो रहा है । इस सवाल पर कि सपा ने किरण मय नंदा और नरेश अग्रवाल जैसे वरिष्ठ नेताओं की जगह उन्हें राज्यसभा का टिकट दिया, जया ने कहा, 'मैं भी सीनियर हूं।'चुनाव का गणितप्रदेश की 403 सदस्यीय विधानसभा में भाजपा और उसके सहयोगी दलों के वर्तमान सदस्यों की संख्या 324 है. सपा के पास 47, बसपा के पास 19, कांग्रेस के पास सात और राष्ट्रीय लोकदल के पास एक विधायक है। करीब दो साल पहले हुए राज्यसभा चुनाव के वक्त उत्तर प्रदेश में सपा स्पष्ट बहुमत के साथ सत्तारूढ़ थी और अपने संख्याबल के बूते उसने छह सीटें जीत ली थीं, लेकिन इस बार वह अपने एक उम्मीदवार को ही जिता सकेगी । एक राज्यसभा सदस्य को जीतने के लिए कम से कम 37 विधायकों के वोट की जरूरत होगी।