बिहार: JDU उम्मीदवार ने नामांकन से पहले लौटाया टिकट, बताई ये वजह

jdu
बिहार: JDU उम्मीदवार ने नामांकन से पहले लौटाया टिकट, बताई ये वजह

नई दिल्ली। बिहार में लोकसभा चुनाव (Lok Sabha Election) से पहले एनडीए (NDA) को बड़ा झटका लगा है। सीतामढ़ी से जनता दल यूनाइटेड (JDU) के उम्मीदवार डॉक्टर वरुण कुमार ने अपना टिकट लौटा दिया। सीतामढ़ी में 6 मई को मतदान हैं।

Jdu Candidate From Sitamarhi Return Party Symbol :

बिहार में नीतीश कुमार की जदयू, भाजपा और रामविलास पासवान की लोक जनशक्ति पार्टी के साथ मिलकर लोकसभा चुनाव लड़ रही है। भाजपा और जदयू 17-17 और लोजपा छह सीटों पर चुनाव लड़ रही है।

जेडीयू उम्मीदवार के द्वारा सिंबल वापस करने को लेकर कई तरह की चर्चा हो रही है। डॉ. वरुण कुमार के नजदीकियों का कहना है कि उन्हें स्थानीय स्तर पर पार्टी के नेताओं और कार्यकर्ताओं का समर्थन नहीं मिल रहा है।

घोषणा से पहले भी हुआ था विरोध

ज्ञात हो कि जिस समय डॉ. वरुण कुमार के उम्मीदवारी की चर्चा चल रही थी, उस समय स्थानीय नेताओं और कार्यकर्ताओं ने इसका खुलेआम विरोध किया था। यहां तक कि कई लोगों ने पैसे लेकर टिकट बांटने का आरोप लगाया था। विरोध के बावजूद जेडीयू ने डॉ. वरुण कुमार को उम्मीदवार बनाया था।

भाजपा नेता जदयू में शामिल, सीतामढ़ी का मिल सकता है टिकट

भाजपा नेता और पूर्व मंत्री सुनील कुमार पिंटू ने जदयू कार्यालय में जदयू की सदस्यता ली। उन्होंने सीएम नीतीश कुमार से मुलाकात कर पार्टी की सदस्यता ग्रहण की। सदस्यता ग्रहण करने के बाद सुनील कुमार पिंटू ने कहा कि एनडीए मजबूत है और इस बार एनडीए की भारी बहुमत से जीत होगी। सीतामढ़ी से टिकट मिलने पर कहा कि अभी तक टिकट नहीं मिला है। ये निर्णय पार्टी को लेना है।

बता दें कि आज सीतामढ़ी से जदयू उम्मीदवार डॉक्टर वरुण ने नामांकन से पहले अपना टिकट वापस कर दिया था। अब उनकी जगह जदयू सुनील कुमार पिंटू को अपना उम्मीदवार बना सकती है।

नई दिल्ली। बिहार में लोकसभा चुनाव (Lok Sabha Election) से पहले एनडीए (NDA) को बड़ा झटका लगा है। सीतामढ़ी से जनता दल यूनाइटेड (JDU) के उम्मीदवार डॉक्टर वरुण कुमार ने अपना टिकट लौटा दिया। सीतामढ़ी में 6 मई को मतदान हैं।

बिहार में नीतीश कुमार की जदयू, भाजपा और रामविलास पासवान की लोक जनशक्ति पार्टी के साथ मिलकर लोकसभा चुनाव लड़ रही है। भाजपा और जदयू 17-17 और लोजपा छह सीटों पर चुनाव लड़ रही है।

जेडीयू उम्मीदवार के द्वारा सिंबल वापस करने को लेकर कई तरह की चर्चा हो रही है। डॉ. वरुण कुमार के नजदीकियों का कहना है कि उन्हें स्थानीय स्तर पर पार्टी के नेताओं और कार्यकर्ताओं का समर्थन नहीं मिल रहा है।

घोषणा से पहले भी हुआ था विरोध

ज्ञात हो कि जिस समय डॉ. वरुण कुमार के उम्मीदवारी की चर्चा चल रही थी, उस समय स्थानीय नेताओं और कार्यकर्ताओं ने इसका खुलेआम विरोध किया था। यहां तक कि कई लोगों ने पैसे लेकर टिकट बांटने का आरोप लगाया था। विरोध के बावजूद जेडीयू ने डॉ. वरुण कुमार को उम्मीदवार बनाया था।

भाजपा नेता जदयू में शामिल, सीतामढ़ी का मिल सकता है टिकट

भाजपा नेता और पूर्व मंत्री सुनील कुमार पिंटू ने जदयू कार्यालय में जदयू की सदस्यता ली। उन्होंने सीएम नीतीश कुमार से मुलाकात कर पार्टी की सदस्यता ग्रहण की। सदस्यता ग्रहण करने के बाद सुनील कुमार पिंटू ने कहा कि एनडीए मजबूत है और इस बार एनडीए की भारी बहुमत से जीत होगी। सीतामढ़ी से टिकट मिलने पर कहा कि अभी तक टिकट नहीं मिला है। ये निर्णय पार्टी को लेना है।

बता दें कि आज सीतामढ़ी से जदयू उम्मीदवार डॉक्टर वरुण ने नामांकन से पहले अपना टिकट वापस कर दिया था। अब उनकी जगह जदयू सुनील कुमार पिंटू को अपना उम्मीदवार बना सकती है।