1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. झांसी रेलवे स्टेशन अब रानी लक्ष्मीबाई के नाम से जाना जाएगा, योगी सरकार ने रेलवे बोर्ड को भेजा प्रस्ताव

झांसी रेलवे स्टेशन अब रानी लक्ष्मीबाई के नाम से जाना जाएगा, योगी सरकार ने रेलवे बोर्ड को भेजा प्रस्ताव

उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने झांसी रेलवे स्टेशन का नाम रानी लक्ष्मीबाई के नाम में बदलाव का प्रस्ताव रेलवे बोर्ड को भेजा है। रेलवे बोर्ड भी इस पर विचार करके जल्द ही झांसी रेलवे स्टेशन का नाम रानी लक्ष्मीबाई के नाम कर देगा। सरकार की इस पहल पर वीरांगना की जन्मस्थली पर काशी में खुशियां मनाई गई।

By संतोष सिंह 
Updated Date

वाराणसी। उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने झांसी रेलवे स्टेशन का नाम रानी लक्ष्मीबाई के नाम में बदलाव का प्रस्ताव रेलवे बोर्ड को भेजा है। रेलवे बोर्ड भी इस पर विचार करके जल्द ही झांसी रेलवे स्टेशन का नाम रानी लक्ष्मीबाई के नाम कर देगा। सरकार की इस पहल पर वीरांगना की जन्मस्थली पर काशी में खुशियां मनाई गई।

पढ़ें :- वाराणसी में सोमवार को रहेगा रुटडायवर्जन, जानिये ट्रेफिक पुलिस क्या जारी की एडवाइजरी

भदैनी स्थित उनके जन्मस्थली पर जागृति फाउंडेशन एवं वीरांगना महारानी लक्ष्मीबाई जन्म स्थान स्मारक समिति के तत्वाधान में वीरांगना के चित्र पर माल्यार्पण कर मिठाई बांटी गई । प्रियम मिश्रा, प्रभु नाथ त्रिपाठी, रामयश मिश्र, समाजसेवी सी पी जैन ने संयुक्त रूप से महारानी के चित्र पर माल्यार्पण किया। इसके पश्चात मिष्ठान का वितरण किया गया।

इस अवसर पर प्रियम मिश्रा ने कहा कि  झांसी रेलवे स्टेशन का नाम रानी लक्ष्मीबाई के नाम पर किए जाने का हम लोग स्वागत करते हैं। यह सरकार की बहुत ही सराहनीय पहल है, जिसकी जितनी प्रशंसा की जाए कम है। वहीं समाजसेवी सीपी जैन  जो खुद झांसी के ही रहने वाले हैं उन्होंने खुशी व्यक्त करते हुए कहा कि हमें बहुत ही गर्व की अनुभूति हो रही है कि झांसी रेलवे स्टेशन का नाम रानी लक्ष्मीबाई के नाम पर जाना जाएगा।

बुंदेलखंड एक्सप्रेस का नाम बदलने की मांग

महारानी लक्ष्मीबाई जन्म स्थान स्मारक समिति के प्रभुनाथ त्रिपाठी ने कहा कि सरकार की यह बहुत ही सराहनीय पहल है। उन्होंने महारानी के नाम पर एक रेलवे स्टेशन का नाम किया। वहीं कार्यक्रम संयोजक एवं जागृति फाउंडेशन के महासचिव रामयश मिश्र ने कहा कि जिस तरह से झांसी रेलवे स्टेशन का नाम रानी लक्ष्मीबाई के नाम रखने का प्रस्ताव भेजा गया है।

पढ़ें :- Varanasi News : ज्ञानवापी केस में मुस्लिम पक्ष के वकील अभयनाथ यादव का हार्ट अटैक से निधन, मुस्लिम पक्ष को बड़ा झटका

उसी तरह वाराणसी से चलने वाली बुंदेलखंड एक्सप्रेस का नाम वीरांगना एक्सप्रेस रखा जाए। यह ट्रेन  वीरांगना के जन्म स्थली से चलती है। त्र उनके शहीद स्थली ग्वालियर तक जाती है इसलिए इस ट्रेन का भी नाम केंद्र और राज्य सरकार वीरांगना के नाम पर रखे या फिर कोई ऐसा ट्रेन उनके नाम पर चलाए जो उनके जन्म स्थली से लेकर शहीद स्थली तक जाती हो। कार्यक्रम का संयोजन एवं संचालन रामयश मिश्र ने किया।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...