सिलसिलेवार बम धमाके का दोषी जलीस अंसारी घर से लापता, पैरोल पर आया था बाहर

Jillis Ansari
सिलसिलेवार बम धमाके का दोषी जलीस अंसारी घर से लापता, पैरोल पर आया था बाहर

मुंबई। देश में सिलसिलेवार कई बम धमाको का दोषी करार दिया गया जलीस अंसारी गुरुवार मुंबई स्थित अपने आवास से संदिग्ध हालात में लापता हो गया। जलीस अंसारी ‘डॉक्टर बम’ के नाम से मसहूर है। जलीस अंसारी को 1993 में राजस्थान बम धमाकों के मामले में उम्रकैद की सजा सुनाई गयी थी। उसे उच्चतम न्यायालय ने 21 दिन की पैरोल दी थी, उसके खत्म होने से एक दिन पहले ही वह लापता हो गया है।

Jillis Ansari Convicted Of Serial Bomb Blasts Went Missing From Home Came Out On Parole :

वहीं जलीस के लापता होने के बाद उसके परिजनों ने गुमशुदगी दर्ज कराई है। बता दें कि जलीस अंसारी पर 50 से ज्यादा सीरियल धमाकों को अंजाम देने का आरोप है। वह अजमेर की जेल में आजीवन कारावास की सजा काट रहा था। अंसारी के लापता हो जाने से सुरक्षा एजेंसियां सकते में आ गई हैं।

जलीस अंसारी की तलाश के लिए महाराष्ट्र एटीएस, मुंबई क्राइम ब्रांच समेत अन्य एजेंसियां उनकी तलाश कर रही हैं। उसके परिवार ने पुलिस को बताया कि वह गुरुवार सुबह मुंबई सेंट्रल स्थित अपने मोमिनपुरा घर से निकला और वापस नहीं आया। पेशे से एमबीबीएस डॉक्टर अंसारी 1994 से जेल में है।

उसे सबसे पहले केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) ने राजधानी एक्सप्रेस में बम लगाने में उसकी कथित भूमिका के लिए गिरफ्तार किया था। जलीस अंसारी को पांच और छह दिसंबर 1993 को राजस्थान में छह स्थानों पर ट्रेनों में विस्फोट करने का दोषी पाया गया था।

मुंबई। देश में सिलसिलेवार कई बम धमाको का दोषी करार दिया गया जलीस अंसारी गुरुवार मुंबई स्थित अपने आवास से संदिग्ध हालात में लापता हो गया। जलीस अंसारी 'डॉक्टर बम' के नाम से मसहूर है। जलीस अंसारी को 1993 में राजस्थान बम धमाकों के मामले में उम्रकैद की सजा सुनाई गयी थी। उसे उच्चतम न्यायालय ने 21 दिन की पैरोल दी थी, उसके खत्म होने से एक दिन पहले ही वह लापता हो गया है। वहीं जलीस के लापता होने के बाद उसके परिजनों ने गुमशुदगी दर्ज कराई है। बता दें कि जलीस अंसारी पर 50 से ज्यादा सीरियल धमाकों को अंजाम देने का आरोप है। वह अजमेर की जेल में आजीवन कारावास की सजा काट रहा था। अंसारी के लापता हो जाने से सुरक्षा एजेंसियां सकते में आ गई हैं। जलीस अंसारी की तलाश के लिए महाराष्ट्र एटीएस, मुंबई क्राइम ब्रांच समेत अन्य एजेंसियां उनकी तलाश कर रही हैं। उसके परिवार ने पुलिस को बताया कि वह गुरुवार सुबह मुंबई सेंट्रल स्थित अपने मोमिनपुरा घर से निकला और वापस नहीं आया। पेशे से एमबीबीएस डॉक्टर अंसारी 1994 से जेल में है। उसे सबसे पहले केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) ने राजधानी एक्सप्रेस में बम लगाने में उसकी कथित भूमिका के लिए गिरफ्तार किया था। जलीस अंसारी को पांच और छह दिसंबर 1993 को राजस्थान में छह स्थानों पर ट्रेनों में विस्फोट करने का दोषी पाया गया था।