जियो फोन(Jio Phone) सस्ते 4G स्मार्टफोन से कितना अलग ?

Jio-Firstlook

मोबाइल मार्केट में सबसे ज़्यादा हलचल जियो फोन की कीमत को लेकर है। क्योंकि इसे 1,500 रुपये में खरीदा सकता है और कंपनी के मुताबिक इसकी प्रभावी कीमत शून्य है। बताया तो यह भी गया है कि 1,500 रुपये की राशि वास्तविक तौर पर सिक्योरिटी डिपॉज़िट है और 36 महीने बाद फोन वापस करने पर ये पैसे वापस मिल जाएंगे। हालांकि, जियो फोन से संबंधित नियम व शर्तों से पता चलता है कि सबकुछ इतना फायदेमंद नहीं है।

Jio Phone Vs 4g Smartphone These Are The Key Differences 4 Features :

रिलायंस जियो ने भारत में साठ लाख ग्राहकों को जियो फोन हैंडसेट की डिलिवरी कर दी है। आप जब फोन पाएंगे तो एहसास होगा कि जियो फोन एक फ़ीचर फोन ही है। और इसका डिज़ाइन व लुक भी ट्रेडिशनल फ़ीचर फोन वाला ही है। लेकिन इसमें जो ख़ूबियां हैं वो कई स्मार्टफोन में भी नहीं मिलतीं। बाज़ार में 3,000 रुपये की कीमत के कई स्मार्टफोन हैं जिन्हें रिलायंस जियो का यह फोन चुनौती देगी। इस लेख में हम आपको बताएंगे कि किस तरह से जियो फोन, इंटेक्स जैसी कई कंपनियों के एंट्री-लेवल स्मार्टफोन के सामने अपनी दावेदारी पेश करता है। और जियो फोन इन 4जी स्मार्टफोन की तुलना में किस तरह अलग है।

सस्ते एंड्रॉयड स्मार्टफोन के साथ अक्सर ही यह शिकायत सामने आती है कि फोन बहुत ज़्यादा हैंग होता है। टच रिस्पॉन्स धीमा है या बीच-बीच में अटकता है या ऐप ठीक से काम नहीं कर रहे। लेकिन जियो फोन के साथ इस तरह की कोई समस्या फिलहाल नज़र नहीं आई। यह फोन कीपैड के साथ आता है जो हर बार ही ठीक से काम करता है। कम कीमत वाले जियो फोन में हैंग होने समस्या नहीं रहने की उम्मीद है।

जियो फोन में वाई-फाई और ब्लूटूथ के साथ जियोलोकेशन और एनएफसी भी हैं। टैप एंड गो पेमेंट के लिए एनएफसी का इस्तेमाल कर सकते हैं। फिलहाल, इस फीचर को रोलआउट नहीं किया गया है। और भविष्य में मिलने वाली अपडेट के बाद इसकी मदद से आप जनधन खाते, यूपीआई खाते, बैंक खाते और डेबिट-क्रेडिट कार्ड को जोड़ने के साथ भुगतान भी कर पाएंगे। बात करें सस्ते एंड्रॉयड स्मार्टफोन की तो अभी तक यह फ़ीचर इन फोन में नहीं दिया जा रहा है। हालांकि, आपके पास इन स्मार्टफोन में पेटीएम, मोबिक्विक जैसे कई दूसरे ऐप इंस्टॉल करने का विकल्प मिलेगा। इसके अलावा अगर आप ऑनलाइन शॉपिंग करने के शौकीन हैं तो भी आपका सहारा स्मार्टफोन ही होंगे और जियो फोन में आपको ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म के ऐप को डाउनलोड करने का विकल्प तो फिलहाल नहीं ही मिलेगा।

मोबाइल मार्केट में सबसे ज़्यादा हलचल जियो फोन की कीमत को लेकर है। क्योंकि इसे 1,500 रुपये में खरीदा सकता है और कंपनी के मुताबिक इसकी प्रभावी कीमत शून्य है। बताया तो यह भी गया है कि 1,500 रुपये की राशि वास्तविक तौर पर सिक्योरिटी डिपॉज़िट है और 36 महीने बाद फोन वापस करने पर ये पैसे वापस मिल जाएंगे। हालांकि, जियो फोन से संबंधित नियम व शर्तों से पता चलता है कि सबकुछ इतना फायदेमंद नहीं है।रिलायंस जियो ने भारत में साठ लाख ग्राहकों को जियो फोन हैंडसेट की डिलिवरी कर दी है। आप जब फोन पाएंगे तो एहसास होगा कि जियो फोन एक फ़ीचर फोन ही है। और इसका डिज़ाइन व लुक भी ट्रेडिशनल फ़ीचर फोन वाला ही है। लेकिन इसमें जो ख़ूबियां हैं वो कई स्मार्टफोन में भी नहीं मिलतीं। बाज़ार में 3,000 रुपये की कीमत के कई स्मार्टफोन हैं जिन्हें रिलायंस जियो का यह फोन चुनौती देगी। इस लेख में हम आपको बताएंगे कि किस तरह से जियो फोन, इंटेक्स जैसी कई कंपनियों के एंट्री-लेवल स्मार्टफोन के सामने अपनी दावेदारी पेश करता है। और जियो फोन इन 4जी स्मार्टफोन की तुलना में किस तरह अलग है।सस्ते एंड्रॉयड स्मार्टफोन के साथ अक्सर ही यह शिकायत सामने आती है कि फोन बहुत ज़्यादा हैंग होता है। टच रिस्पॉन्स धीमा है या बीच-बीच में अटकता है या ऐप ठीक से काम नहीं कर रहे। लेकिन जियो फोन के साथ इस तरह की कोई समस्या फिलहाल नज़र नहीं आई। यह फोन कीपैड के साथ आता है जो हर बार ही ठीक से काम करता है। कम कीमत वाले जियो फोन में हैंग होने समस्या नहीं रहने की उम्मीद है।जियो फोन में वाई-फाई और ब्लूटूथ के साथ जियोलोकेशन और एनएफसी भी हैं। टैप एंड गो पेमेंट के लिए एनएफसी का इस्तेमाल कर सकते हैं। फिलहाल, इस फीचर को रोलआउट नहीं किया गया है। और भविष्य में मिलने वाली अपडेट के बाद इसकी मदद से आप जनधन खाते, यूपीआई खाते, बैंक खाते और डेबिट-क्रेडिट कार्ड को जोड़ने के साथ भुगतान भी कर पाएंगे। बात करें सस्ते एंड्रॉयड स्मार्टफोन की तो अभी तक यह फ़ीचर इन फोन में नहीं दिया जा रहा है। हालांकि, आपके पास इन स्मार्टफोन में पेटीएम, मोबिक्विक जैसे कई दूसरे ऐप इंस्टॉल करने का विकल्प मिलेगा। इसके अलावा अगर आप ऑनलाइन शॉपिंग करने के शौकीन हैं तो भी आपका सहारा स्मार्टफोन ही होंगे और जियो फोन में आपको ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म के ऐप को डाउनलोड करने का विकल्प तो फिलहाल नहीं ही मिलेगा।