एक महीने में Jio की पांचवी बड़ी डील, अमेरिकी कंपनी KKR लगाएगी 11367 करोड़

mukesh
जियो प्लेटफॉर्म्स में अब माइक्रोसॉफ्ट खरीदेगी 2.5% से ज्यादा हिस्सेदारी

रिलायंस जियो में लगातार विदेशी निवेश का आना जारी है और अब एक महीने में रिलायंस जियो ने पांचवी बड़ी डील को पक्का कर लिया है. अमेरिका की कंपनी केकेआर ने रिलायंस इंडस्ट्रीज के जियो प्लेटफॉर्म्स में बड़े निवेश का एलान किया है. केकेआर जिओ प्लेटफॉर्म्स में 11,367 करोड़ रुपये का निवेश करेगी. इस निवेश के तहत केकेआर रिलायंस जियो प्लेटफॉर्म्स में 2.32 फीसदी इक्विटी हिस्सेदारी खरीदेगी. केकेआर का ये एशिया की किसी कंपनी में अब तक का सबसे बड़ा निवेश है.

Jios Fifth Big Deal In A Month American Company Kkr To Levy 11367 Crores :

बता दें कि इससे पहले फेसबुक, सिल्वरलेक, विस्टा इक्विटी पार्टनर्स और जनरल अटलांटिक ने जियो में पैसा लगाया है. एक महीने में जियो प्लेटफॉर्म्स की ये पांचवी बड़ी डील है. इस पांचों डील से जियो प्लेटफार्म ने एक महीने में 78,562 करोड़ रुपये जुटाए हैं.

जियो प्लेटफॉर्म्स में अब तक 17.12 फीसदी हिस्से के लिए निवेश हुआ

जियो प्लेटफॉर्म्स में अब तक 17.12 फीसदी हिस्से के लिए निवेश की घोषणा हो चुकी हैं. इसके तहत फेसबुक ने 9.99 फीसदी, सिल्वरलेक ने 1.15 फीसदी, विस्टा इक्विटी पार्टनर्स ने 2.32 फीसदी, जनरल अटलांटिक ने 1.34 फीसदी और अब केकेआर ने 2.32 फीसदी हिस्सा खरीदने का एलान कर दिया है.

17 मई को हुई थी जनरल अटलांटिक के साथ डील

17 मई को रिलायंस जियो में न्यूयॉर्क की प्राइवेट इक्विटी कंपनी जनरल अटलांटिक ने 6598.38 करोड़ रुपये का निवेश करने का एलान किया था. इस डील के तहत जनरल अटलांटिक, जियो प्लेटफॉर्म्स में 1.34 फीसदी हिस्सेदारी खरीद रही है. किसी भी एशियाई कंपनी में जनरल अटलांटिक का ये सबसे बड़ा निवेश था.

रिलायंस जियो के अन्य बड़े सौदे

इस तरह केकेआर डील से पहले रिलायंस जियो ने चार बड़ी मेगा डील की  और इनके जरिए 67,194.75 करोड़ रुपये का फंड हासिल किया. बता दें कि इस क्रम में सबसे पहले फेसबुक ने रिलायंस जियो प्लेटफॉर्म्स में 9.99 फीसदी हिस्सेदारी 43,574 करोड़ रुपये में लेने का एलान किया था.

फेसबुक डील के कुछ ही दिन बाद दुनिया के सबसे बड़े टेक इन्वेस्टर सिल्वरलेक ने 5,665.75 करोड़ रुपये में जियो की 1.15 फीसदी हिस्सेदारी खरीदी थी. इसके अलावा अमेरिका की विस्टा इक्विटी पार्टनर्स ने जियो प्लेटफॉर्म्स की 2.32 फीसदी हिस्सेदारी खरीदने का एलान किया था और इसके लिए 11,367 करोड़ रुपये के निवेश का एलान किया था.

रिलायंस जियो में लगातार विदेशी निवेश का आना जारी है और अब एक महीने में रिलायंस जियो ने पांचवी बड़ी डील को पक्का कर लिया है. अमेरिका की कंपनी केकेआर ने रिलायंस इंडस्ट्रीज के जियो प्लेटफॉर्म्स में बड़े निवेश का एलान किया है. केकेआर जिओ प्लेटफॉर्म्स में 11,367 करोड़ रुपये का निवेश करेगी. इस निवेश के तहत केकेआर रिलायंस जियो प्लेटफॉर्म्स में 2.32 फीसदी इक्विटी हिस्सेदारी खरीदेगी. केकेआर का ये एशिया की किसी कंपनी में अब तक का सबसे बड़ा निवेश है. बता दें कि इससे पहले फेसबुक, सिल्वरलेक, विस्टा इक्विटी पार्टनर्स और जनरल अटलांटिक ने जियो में पैसा लगाया है. एक महीने में जियो प्लेटफॉर्म्स की ये पांचवी बड़ी डील है. इस पांचों डील से जियो प्लेटफार्म ने एक महीने में 78,562 करोड़ रुपये जुटाए हैं. जियो प्लेटफॉर्म्स में अब तक 17.12 फीसदी हिस्से के लिए निवेश हुआ जियो प्लेटफॉर्म्स में अब तक 17.12 फीसदी हिस्से के लिए निवेश की घोषणा हो चुकी हैं. इसके तहत फेसबुक ने 9.99 फीसदी, सिल्वरलेक ने 1.15 फीसदी, विस्टा इक्विटी पार्टनर्स ने 2.32 फीसदी, जनरल अटलांटिक ने 1.34 फीसदी और अब केकेआर ने 2.32 फीसदी हिस्सा खरीदने का एलान कर दिया है. 17 मई को हुई थी जनरल अटलांटिक के साथ डील 17 मई को रिलायंस जियो में न्यूयॉर्क की प्राइवेट इक्विटी कंपनी जनरल अटलांटिक ने 6598.38 करोड़ रुपये का निवेश करने का एलान किया था. इस डील के तहत जनरल अटलांटिक, जियो प्लेटफॉर्म्स में 1.34 फीसदी हिस्सेदारी खरीद रही है. किसी भी एशियाई कंपनी में जनरल अटलांटिक का ये सबसे बड़ा निवेश था. रिलायंस जियो के अन्य बड़े सौदे इस तरह केकेआर डील से पहले रिलायंस जियो ने चार बड़ी मेगा डील की  और इनके जरिए 67,194.75 करोड़ रुपये का फंड हासिल किया. बता दें कि इस क्रम में सबसे पहले फेसबुक ने रिलायंस जियो प्लेटफॉर्म्स में 9.99 फीसदी हिस्सेदारी 43,574 करोड़ रुपये में लेने का एलान किया था. फेसबुक डील के कुछ ही दिन बाद दुनिया के सबसे बड़े टेक इन्वेस्टर सिल्वरलेक ने 5,665.75 करोड़ रुपये में जियो की 1.15 फीसदी हिस्सेदारी खरीदी थी. इसके अलावा अमेरिका की विस्टा इक्विटी पार्टनर्स ने जियो प्लेटफॉर्म्स की 2.32 फीसदी हिस्सेदारी खरीदने का एलान किया था और इसके लिए 11,367 करोड़ रुपये के निवेश का एलान किया था.