बुलंदशहर कांड : आरोपी जितेन्द्र मलिक उर्फ जीतू ​गिरफ्तार, बोला- मैं तो खुद गया था FIR दर्ज कराने

jitendra malik urf jeetu fauji
बुलंदशहर कांड: आरोपी जितेन्द्र मलिक उर्फ जीतू ​गिरफ्तार, बोला- मैं तो खुद गया था FIR दर्ज कराने

बुलंदशहर। बुलंदशहर में हाल ही में हुई हिंसा और इंस्पेक्टर समेत दो लोगों की हत्या के मामले में पुलिस लगातार एक्शन में बनी हुई है। मामले की जांच में लगी एसटीएफ ने इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह की हत्या के आरोपी फौजी को जम्मू-कश्मीर से गिरफ्तार कर लिया गया है। सूत्रों के मुताबिक आरोपी जीतेंद्र मलिक उर्फ जीतू फौजी ने शुक्रवार रात सोपोर में अपनी यूनिट ज्वाइन की थी,जिसके बाद उसे एसटीएफ के हवाले कर दिया गया।

Jitendra Malik Urf Jeetu Fauji Arrested By Upstf In Bulandsahar Violence :

इस मामले में सेना ने इस बाबत एक बयान जारी कर बताया कि आरोपी सैनिक की गिरफ्तारी के लिए यूपी पुलिस ने सेना के उत्तरी कमान से मदद मांगी थी, जिसके बाद उसे पूरे सहयोग का आश्वासन दिया गया था। वहीं जीतेंद्र मलिक ने अपनी यूनिट से बताया, ‘मैं एफआईआर दर्ज करवाने के लिए 30 अन्य लोगों के साथ पुलिस स्टेशन गया था। लेकिन मार पिटाई शुरू हो गई और मैं वहां से भाग गया। मैं उस जगह मौजूद नहीं था, जहां पुलिस इंस्पेक्टर को गोली मारी गई।

वहीं मेरठ जोन के आईजी राम कुमार का कहना है कि गांव वालों के बयान के आधार साफ है कि जीतू फौजी ने ही कथित रूप से इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह को गोली मारी थी। घटना के सम्बंध में पुलिस को मिले वीडियो में इंस्पेक्टर सुबोध सिंह की हत्या के वक्त जीतू उनके बेहद करीब खड़ा था। इस मामले में जीतू की मां रतना कौर ने कहा कि वो वीडियो में अपने बेटे को पहचान नहीं पा रही है, जबकि रिश्तेदारों का कहना है कि वो घटनास्थल पर ही मौजूद था और घटना के तुरन्त बाद जम्मू- कश्मीर के लिए निकल गया।

बुलंदशहर। बुलंदशहर में हाल ही में हुई हिंसा और इंस्पेक्टर समेत दो लोगों की हत्या के मामले में पुलिस लगातार एक्शन में बनी हुई है। मामले की जांच में लगी एसटीएफ ने इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह की हत्या के आरोपी फौजी को जम्मू-कश्मीर से गिरफ्तार कर लिया गया है। सूत्रों के मुताबिक आरोपी जीतेंद्र मलिक उर्फ जीतू फौजी ने शुक्रवार रात सोपोर में अपनी यूनिट ज्वाइन की थी,जिसके बाद उसे एसटीएफ के हवाले कर दिया गया।इस मामले में सेना ने इस बाबत एक बयान जारी कर बताया कि आरोपी सैनिक की गिरफ्तारी के लिए यूपी पुलिस ने सेना के उत्तरी कमान से मदद मांगी थी, जिसके बाद उसे पूरे सहयोग का आश्वासन दिया गया था। वहीं जीतेंद्र मलिक ने अपनी यूनिट से बताया, 'मैं एफआईआर दर्ज करवाने के लिए 30 अन्य लोगों के साथ पुलिस स्टेशन गया था। लेकिन मार पिटाई शुरू हो गई और मैं वहां से भाग गया। मैं उस जगह मौजूद नहीं था, जहां पुलिस इंस्पेक्टर को गोली मारी गई।वहीं मेरठ जोन के आईजी राम कुमार का कहना है कि गांव वालों के बयान के आधार साफ है कि जीतू फौजी ने ही कथित रूप से इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह को गोली मारी थी। घटना के सम्बंध में पुलिस को मिले वीडियो में इंस्पेक्टर सुबोध सिंह की हत्या के वक्त जीतू उनके बेहद करीब खड़ा था। इस मामले में जीतू की मां रतना कौर ने कहा कि वो वीडियो में अपने बेटे को पहचान नहीं पा रही है, जबकि रिश्तेदारों का कहना है कि वो घटनास्थल पर ही मौजूद था और घटना के तुरन्त बाद जम्मू- कश्मीर के लिए निकल गया।