1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. जितेंद्र नारायण त्यागी उर्फ वसीम रिजवी को मिली धमकी,इकबाल कासकर के भाई ने गर्दन काटने का किया ऐलान

जितेंद्र नारायण त्यागी उर्फ वसीम रिजवी को मिली धमकी,इकबाल कासकर के भाई ने गर्दन काटने का किया ऐलान

उत्तर प्रदेश के शिया वक्फ बोर्ड (Shia Waqf Board of Uttar Pradesh) के पूर्व चेयरमैन और मुस्लमान से हिंदू बने जितेंद्र नारायण सिंह त्यागी उर्फ वसीम रिजवी (Jitendra Narayan Tyagi alias Wasim Rizvi ) को वाट्सऐप कॉल पर जान से मारने की धमकी मिली है। धमकी देने वाले ने कहा कि इकबाल कासकर का गुर्गा बोल रहा हूं।

By संतोष सिंह 
Updated Date

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के शिया वक्फ बोर्ड (Shia Waqf Board of Uttar Pradesh) के पूर्व चेयरमैन और मुस्लमान से हिंदू बने जितेंद्र नारायण सिंह त्यागी उर्फ वसीम रिजवी (Jitendra Narayan Tyagi alias Wasim Rizvi ) को वाट्सऐप कॉल पर जान से मारने की धमकी मिली है। धमकी देने वाले ने कहा कि इकबाल कासकर का गुर्गा बोल रहा हूं। धमकी दी कि 24 घंटे में मुंडी अलग कर दूंगा। बता दें कि जितेंद्र नारायण सिंह त्यागी उर्फ वसीम रिजवी (Jitendra Narayan Tyagi alias Wasim Rizvi )  मौजूदा समय हैदराबाद के ग्रैंड होटल में ठहरे हुए हैं। जहां उनको धमकी भरी कॉल आई है। हालांकि धमकी मिलने के बाद वसीम रिजवी ने यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (UP Chief Minister Yogi Adityanath) को पत्र लिखकर जांच की मांग की है।

पढ़ें :- Agnipath Protest : योगी बोले-अग्निपथ योजना युवा के भविष्य को नया आयाम देगी , बहकावे में न आएं

दूसरी तरफ से पहले कहा गया कि तिहाड़ जेल से इकबाल कासकर का भाई बोल रहा हूं। जब जितेंद्र नारायण (Jitendra Narayan) ने कहा कि लोकेशन आपकी बाहर की आ रही है नंबर विदेश का है, तो दूसरी तरफ से कहा गया कि वह दुबई में बैठा है।

 

वहीं वसीम रिजवी ने बताया कि कई दिनों से लगातार पाकिस्तान के नंबरों से मेरे मोबाइल पर मरने की धमकी दी जा रही थी। कल देर रात इकबाल कासकर के भाई ने 3 दिन के अंदर मेरी गर्दन काटने की घोषणा की है और मुझे से व्हाट्सएप कालिंग पर बात की है।

पढ़ें :- UP Board Exam Result : यूपी बोर्ड परीक्षा परिणाम को लेकर सीएम योगी ने दिया बड़ा आदेश, जानिए क्या कहा

बता दें कि जितेंद्र नारायण त्यागी उर्फ वसीम रिजवी को हरिद्वार में आयोजित धर्म संसद में भड़काऊ भाषण देने के मामले में 13 जनवरी को गिरफ्तार किया गया था। इस मामले में सुप्रीम कोर्ट ने उन्हें 17 मई को 3 महीने की सशर्त अंतरिम जमानत मंजूर की थी। सुप्रीम कोर्ट ने अपने आदेश में शर्त रखी कि वे इस जमानत अवधि के दौरान कोई भड़काऊ भाषण नहीं देंगे। इसके बाद कुछ दिन पहले ही वह जिला कारागार से रिहा होकर बाहर आए हैं।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...