जेएनयू कांड: कन्हैया की राह हुई आसान, उमर और अनिर्बान की मुश्किले बढ़ी

नई दिल्ली। जेएनयू में पिछले साल हुए बवाल और उसमे लगे देश विरोधी नारों के मामले में कन्हैया कुमार निर्दोष साबित होते नजर आ रहे हैं। गौरतलब है कि जेएनयू के पूर्व अध्‍यक्ष कन्‍हैया कुमार के खिलाफ पिछले साल कैंपस में ही 9 फरवरी को देशद्रोह से जुडी धाराएं लगाते हुए पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया था।




मिली जानकारी के मुताबिक पुलिस की ओर से तैयार चार्जशीट में इस बात का खुलासा हुआ है। पुलिस की तरफ से तैयार की गई चार्जशीट में सेक्‍शन 121ए(देशद्रोह) और आपराधिक साजिश की धाराओं को शामिल किया गया है। इस रिपोर्ट को दिल्‍ली पुलिस आयुक्‍त के पास जमा किया गया और अब उनकी मंजूरी का इंतजार है।







इस मामले में कन्हैया जहां निर्दोष होते दिख रहे है वहीं उनके साथी इस चार्जशीट में उमर खालिद और अनिर्बान भट्टाचार्य को आरोपी बनाया गया है। दिल्‍ली पुलिस का कहना है कि संसद पर हमले के मास्‍टरमाइंड अफजल गुरु के प्रति हमदर्दी दिखाने के मकसद वाल पोस्‍टर उमर खालिद के पास थे। चार्जशीट में 40 वीडियो क्लिप्‍स की फोरेंसिक रिपोर्ट कीा जिक्र भी किया गया है और इसके जरिए जेएनयू के अंदर के एक इवेंट में देश विरोधी नारे लगाने की बात को साबित करने की कोशिश की गई है।

Loading...