JNU Hostel Rules: जल्द बदलेंगे जेएनयू होस्टल के ये नियम, लग जाएगी पाबंदी

JNU Hostel Rules: जल्द बदलेंगे जेएनयू होस्टल के ये नियम, लग जाएगी पाबंदी
JNU Hostel Rules: जल्द बदलेंगे जेएनयू होस्टल के ये नियम, लग जाएगी पाबंदी

नई दिल्ली। जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) प्रशासन ने छात्रावास में रहने वालों के लिए नई नियमावली तैयार की है। जिसके अनुसार अब रात 11 बजे के बाद कोई भी छात्र छात्रावास से बाहर नहीं रह सकेगा। वहीं, पुस्तकालय बंद होने के आंधे घंटे के बाद छात्रों को वापस छात्रावास में आना होगा। आइये जानते हैं जेएनयू के छात्रावास में रहने वाले छात्रों पर क्या-क्या लगेगी पाबंदी….

Jnu Hostel Rules Will Be Change :

बता दें कि नए प्रस्तावित नियमों के तहत अगर कोई छात्र देर तक छात्रावास से बाहर रहना चाहता है, या रात भर बाहर रहना चाहता है तो इसके लिए उसे संबंधित वॉडर्न को लिखित में सूचित करना होगा। साथ ही कोई भी अतिथि (गेस्ट) किसी भी छात्र के छात्रावास में रात 10:30 बजे के बाद नहीं ठहर सकता है। ऐसा न होने पर छात्र पर तीन से 20 हजार रुपये तक का जुर्माना लगाने के साथ ही छात्रावास खाली करने का आदेश भी दिया जा सकता है।

धरना देने पर भी लगेगा दंड

छात्रावास के नए प्रस्तावित नियमों के तहत विश्वविद्यालय परिसर में रह रहे प्रतिनिधि के घर का घेराव या धरना देना दंडनीय होगा। वहीं जेएनयू प्रशासन ने इस प्रस्ताव पर 18 अक्तूबर तक विचार मांगे हैं। इसके बाद ही नियमों को अंतिम रूप दिया जाएगा।

मिली जानकारी के मुताबिक जेएनयू में छात्रवास के नए नियमों को लेकर छात्रसंघ अध्यक्ष आईशी घोष का कहना है कि प्रस्ताव के संबंध में सभी छात्रवास प्रतिनिधियों से भी उनकी राय मांगी गई है। वह छात्रावास में रहने वाले प्रत्येक छात्र संग बैठक कर उनके विचार सुनेंगे, जिसकी रिपोर्ट छात्रसंघ को देंगे। इसके बाद इन नियमावाली को लेकर आगे की रणनीति तय की जाएगी।

नई दिल्ली। जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) प्रशासन ने छात्रावास में रहने वालों के लिए नई नियमावली तैयार की है। जिसके अनुसार अब रात 11 बजे के बाद कोई भी छात्र छात्रावास से बाहर नहीं रह सकेगा। वहीं, पुस्तकालय बंद होने के आंधे घंटे के बाद छात्रों को वापस छात्रावास में आना होगा। आइये जानते हैं जेएनयू के छात्रावास में रहने वाले छात्रों पर क्या-क्या लगेगी पाबंदी.... बता दें कि नए प्रस्तावित नियमों के तहत अगर कोई छात्र देर तक छात्रावास से बाहर रहना चाहता है, या रात भर बाहर रहना चाहता है तो इसके लिए उसे संबंधित वॉडर्न को लिखित में सूचित करना होगा। साथ ही कोई भी अतिथि (गेस्ट) किसी भी छात्र के छात्रावास में रात 10:30 बजे के बाद नहीं ठहर सकता है। ऐसा न होने पर छात्र पर तीन से 20 हजार रुपये तक का जुर्माना लगाने के साथ ही छात्रावास खाली करने का आदेश भी दिया जा सकता है। धरना देने पर भी लगेगा दंड छात्रावास के नए प्रस्तावित नियमों के तहत विश्वविद्यालय परिसर में रह रहे प्रतिनिधि के घर का घेराव या धरना देना दंडनीय होगा। वहीं जेएनयू प्रशासन ने इस प्रस्ताव पर 18 अक्तूबर तक विचार मांगे हैं। इसके बाद ही नियमों को अंतिम रूप दिया जाएगा। मिली जानकारी के मुताबिक जेएनयू में छात्रवास के नए नियमों को लेकर छात्रसंघ अध्यक्ष आईशी घोष का कहना है कि प्रस्ताव के संबंध में सभी छात्रवास प्रतिनिधियों से भी उनकी राय मांगी गई है। वह छात्रावास में रहने वाले प्रत्येक छात्र संग बैठक कर उनके विचार सुनेंगे, जिसकी रिपोर्ट छात्रसंघ को देंगे। इसके बाद इन नियमावाली को लेकर आगे की रणनीति तय की जाएगी।