जेएनयू पहला ऐसा कैंपस जहां शहीदों की याद में बना ‘वॉल ऑफ हीरोज’

नई दिल्ली। अपने विवादों के कारण अक्सर सुर्खियों में बने रहने वाला देश का नामी-गिनामी जवहार लाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) एक बार फिर चर्चा का कारण बना हुआ है। वैसे तो जेएनयू कैपस हमेशा से ही अपने राष्ट्रविरोधी गतिविधियों की वजह से सुर्खियों में बना रहता है लेकिन इस बार का मजरा कुछ अलग है।




देश के पहले प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू के नाम पर स्थापित इस यूनिवर्सिटी में राष्ट्रविरोधी सुलगते आग को शांत करने के प्रयास में केंद्र सरकार ने एक नया कदम उठाया है। जेएनयू प्रशासन को भी इस बात की भनक लग गयी है कि इस कैंपस के कारगुजारों की वजह से इसकी छवि कुछ धूमिल सी हुई है। इसी बात को मद्देनज़र रखते हुए जेएनयू ने केंद्र सरकार के साथ मिलकर परिसर में एक नया कदम उठाया है। आपको बता दें कि अब जेएनयू भारत का पहला ऐसा एजुकेशनल कैंपस बना गया है जिसके दीवालों को शहीदों की याद में ‘वॉल ऑफ हीरोज’ बनाया गया है। बता दें कि केंद्र सरकार के ‘विद्या वीरता अभियान’ के तहत यह वॉल ऑफ हीरोज बनाया गया है। इसमें परमवीर चक्र पाने वाले सैनिकों की तस्वीर लगी है।




बताया यह भी जा रहा है कि अभी आने वाले दिनों में केंद्र सरकार ‘विद्या वीरता अभियान’ के तहत देश के कई यूनिवर्सिटी में इस तरह का वॉल ऑफ हीरोज बनाया जाएगा।विद्या वीरता अभियान के तहत देशभर की यूनिवर्सिटी और कॉलेजों में 15 x20 फुट की शौर्य दीवार बनाई जाएगी, जिसमें परमवीर चक्र विजेताओं की तस्वीर लगेगी। हालांकि अभी यह पहल जेएनयू से ही शुरू की गयी है।