प्रेस कांफ्रेंस कर JNU छात्रों ने कहा, बार-बार घेरेंगे संसद, दिल्ली पुलिस ने दर्ज की FIR

JNU
प्रेस कांफ्रेंस कर JNU छात्रों ने कहा, बार-बार घेरेंगे संसद, दिल्ली पुलिस ने दर्ज की FIR

नई दिल्ली। फीस बढ़ोत्तरी को लेकर आंदोलनरत जेएनयू छात्र संघ ने मंगलवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस की। इस दौरान जेएनयू छात्रसंघ की अध्यक्ष आइशी घोष ने ऐलान किया कि अगर बार-बार संसद घेरने की जरूरत हुई तो वो भी करेंगे। इस दौरान छात्रों ने सरकार को चैलेंज देते हुए कहा हम झुकने वाले नहीं हैं। जबतक सरकार बढ़ाई गई हॉस्टल फीस पूरी तरह से वापस नहीं लेती है, तब तक उनका आंदोलन जारी रहेगा।

Jnu Students Said During The Press Conference That Parliament Will Be Surrounded Repeatedly By Delhi Police :

दिल्ली की जवाहर लाल यूनिवर्सिटी में हॉस्टल फीस की बढ़ाए जाने के बाद छात्रों का विरोध लगातार जारी है। मंगलवार को जेएनयू छात्र संघ ने प्रेस कॉन्फ्रेंस की और सीधे तौर पर सरकार को चैलेंज किया कि वह झुकने वाले नहीं हैं। जब तक सरकार बढ़ी हुई हॉस्टल फीस पूरी तरह से वापस नहीं लेती है, तब तक उनका आंदोलन जारी रहेगा। जेएनयू छात्रसंघ की अध्यक्ष आइशी घोष ने ऐलान किया कि अगर बार-बार संसद घेरने की जरूरत हुई तो वो भी करेंगे।

छात्रों ने कहा कि पिछले 23 दिनों से हमारी बात कोई नहीं सुन रहा था, इसी वजह से हमने संसद सत्र के पहले दिन को चुना ताकि हम अपनी आवाज़ पहुंचा सकें। जेएनयू छात्रसंघ की अध्यक्ष आइशी घोष ने आरोप लगाया कि जिस बस में उन्हें पुलिस पकड़ कर ले गई, वो सीधा पुलिस स्टेशन नहीं ले गए बल्कि यूं ही घुमाते रहे।

उन्होंने आरोप लगाया कि मंत्रालय की ओर से जिस कमेटी का गठन किया गया, उसने छात्रों से मिलने से इनकार कर दिया। आइशी घोष ने कहा कि जब कुलपति हमसे बात करने के लिए तैयार नहीं हैं, तो हम अपना प्रदर्शन क्यों रोकें। छात्रों का कहना है कि कुलपति को तुरंत इस्तीफा देना चाहिए। हम पुलिस से डरने वाले नहीं हैं और अपना प्रदर्शन जारी रखेंगे। बता दें कि सोमवार को एक तरफ जहां संसद के शीतकालीन सत्र का पहला दिन था, दूसरी ओर बाहर सड़कों पर जेएनयू के छात्र प्रदर्शन कर रहे थे। इस दौरान दिल्ली पुलिस के साथ छात्रों की झड़प हुई, कई छात्र घायल भी हुए।

पुलिस ने दर्ज की सरकारी काम में बाधा डालने की FIR
जेएनयू छात्रों द्वारा सोमवार को किए गए प्रदर्शन के मामले में दिल्ली पुलिस ने अज्ञात लोगों के खिलाफ सरकारी काम में बाधा पहुंचाने के लिए एफआईआर दर्ज की है। बताया जा रहा है कि किशनगढ़ थाना पुलिस ने कुछ अज्ञात लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की है और मामले की जांच कर रही है। बता दें कि सोमवार को जेएनयू के छात्रों ने हॉस्टल फीस वृद्धि के खिलाफ संसद की ओर कूच किया था। हालांकि दिल्ली पुलिस ने उन्हें रास्ते में ही रोक लिया था। छात्रों के प्रदर्शन के कारण दिल्ली की कई वीआईपी सड़कों पर जाम के साथ ही मेट्रो की सेवा भी बाधित हुई थी, जिसके चलते आज पुलिस ने एफआईआर दर्ज की है।

नई दिल्ली। फीस बढ़ोत्तरी को लेकर आंदोलनरत जेएनयू छात्र संघ ने मंगलवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस की। इस दौरान जेएनयू छात्रसंघ की अध्यक्ष आइशी घोष ने ऐलान किया कि अगर बार-बार संसद घेरने की जरूरत हुई तो वो भी करेंगे। इस दौरान छात्रों ने सरकार को चैलेंज देते हुए कहा हम झुकने वाले नहीं हैं। जबतक सरकार बढ़ाई गई हॉस्टल फीस पूरी तरह से वापस नहीं लेती है, तब तक उनका आंदोलन जारी रहेगा। दिल्ली की जवाहर लाल यूनिवर्सिटी में हॉस्टल फीस की बढ़ाए जाने के बाद छात्रों का विरोध लगातार जारी है। मंगलवार को जेएनयू छात्र संघ ने प्रेस कॉन्फ्रेंस की और सीधे तौर पर सरकार को चैलेंज किया कि वह झुकने वाले नहीं हैं। जब तक सरकार बढ़ी हुई हॉस्टल फीस पूरी तरह से वापस नहीं लेती है, तब तक उनका आंदोलन जारी रहेगा। जेएनयू छात्रसंघ की अध्यक्ष आइशी घोष ने ऐलान किया कि अगर बार-बार संसद घेरने की जरूरत हुई तो वो भी करेंगे। छात्रों ने कहा कि पिछले 23 दिनों से हमारी बात कोई नहीं सुन रहा था, इसी वजह से हमने संसद सत्र के पहले दिन को चुना ताकि हम अपनी आवाज़ पहुंचा सकें। जेएनयू छात्रसंघ की अध्यक्ष आइशी घोष ने आरोप लगाया कि जिस बस में उन्हें पुलिस पकड़ कर ले गई, वो सीधा पुलिस स्टेशन नहीं ले गए बल्कि यूं ही घुमाते रहे। उन्होंने आरोप लगाया कि मंत्रालय की ओर से जिस कमेटी का गठन किया गया, उसने छात्रों से मिलने से इनकार कर दिया। आइशी घोष ने कहा कि जब कुलपति हमसे बात करने के लिए तैयार नहीं हैं, तो हम अपना प्रदर्शन क्यों रोकें। छात्रों का कहना है कि कुलपति को तुरंत इस्तीफा देना चाहिए। हम पुलिस से डरने वाले नहीं हैं और अपना प्रदर्शन जारी रखेंगे। बता दें कि सोमवार को एक तरफ जहां संसद के शीतकालीन सत्र का पहला दिन था, दूसरी ओर बाहर सड़कों पर जेएनयू के छात्र प्रदर्शन कर रहे थे। इस दौरान दिल्ली पुलिस के साथ छात्रों की झड़प हुई, कई छात्र घायल भी हुए। पुलिस ने दर्ज की सरकारी काम में बाधा डालने की FIR जेएनयू छात्रों द्वारा सोमवार को किए गए प्रदर्शन के मामले में दिल्ली पुलिस ने अज्ञात लोगों के खिलाफ सरकारी काम में बाधा पहुंचाने के लिए एफआईआर दर्ज की है। बताया जा रहा है कि किशनगढ़ थाना पुलिस ने कुछ अज्ञात लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की है और मामले की जांच कर रही है। बता दें कि सोमवार को जेएनयू के छात्रों ने हॉस्टल फीस वृद्धि के खिलाफ संसद की ओर कूच किया था। हालांकि दिल्ली पुलिस ने उन्हें रास्ते में ही रोक लिया था। छात्रों के प्रदर्शन के कारण दिल्ली की कई वीआईपी सड़कों पर जाम के साथ ही मेट्रो की सेवा भी बाधित हुई थी, जिसके चलते आज पुलिस ने एफआईआर दर्ज की है।