JNU के छात्रों ने निकाला संसद मार्च, लखनऊ यूनिवर्सिटी के छात्रों ने भी किया समर्थन

JNU students
JNU के छात्रों ने निकाला संसद मार्च, लखनऊ यूनिवर्सिटी के छात्रों ने भी किया समर्थन

नई दिल्ली। फीस बढ़ोतरी के खिलाफ जवाहर लाल नेहरू यूनिवर्सिटी स्टूडेंट्स का छात्रों ने संसद मार्च निकाला है। इस मार्च का लखनऊ यूनिवर्सिटी के छात्र भी समर्थन कर रहे हैं। जेएनयू के छात्रों ने संसद तक मार्च निकाला। इस दौरान यूनिवर्सिटी गेट पर 1200 पुलिसकर्मी तैनात थे। इस दौरान छात्र उग्र हो गये और बैरिकेड भी तोड़ दिये तो पुलिस ने लाठी चार्ज कर कई छात्रों को हिरासत में भी लिया। वहीं छात्रों के मार्च को देखते हुए दिल्ली के कई मेट्रो स्टेशनों को भी बंद कर दिया गया है।

Jnu Students Take Out Parliament March Lucknow University Students Also Support :

फीस बढ़ोतरी के खिलाफ जेएनयू के छात्र पहले दिन से प्रदर्शन कर रहे हैं, वहीं आज से जब संस​द के शीतकालीन सत्र की शुरूवात हुई तो दो से तीन हजार स्टूडेंट मार्च निकाल रहे हैं। इस दौरान प्रशासन पहले से ही मुस्तैद था और जेएनयू के पास 3 बैरिकेड लगा दिये गये थे। लेकिन छात्रों ने तीनो बैरिकेड तोड़ डाले और खूब हंगामा किया। इसके बाद छात्रों का मार्च भीकाजी कामा प्लेस फ्लाईओवर तक पहुंच गया।

प्रदर्शनकारी छात्रों का कहना है कि हमारी मांगें नहीं मानी जा रही है इसलिए हम संसद तक मार्च निकालेंगें।इस मौके पर छात्रों ने मांग रखी कि बढ़ाई गई फीस पूरी तरह से वापस ली जाए। जिस दौरान छात्रों ने बैरिकेड तोड़े उस दौरान कई छात्रों को पुलिस ने हिरासत में भी ले लिया। इस दौरान पुलिस के साथ साथ सीआरपीएफ के जवान भी मौजूद हैं। दिल्ली पुलिस के अधिकारियों का कहना है कि जेएनयू छात्रों को पार्लियामेंट तक नहीं जाने दिया जाएगा।

पार्लियामेंट के आसपास धारा-144 लगां दी गयी हैं। वहीं मानव संसाधन विकास (एचआरडी) मंत्रालय ने सोमवार को तीन सदस्यीय एक समिति गठित की, जो जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) की सामान्य कार्यप्रणाली बहाल करने के तरीकों पर सुझाव देगी। दूसरी ओर विश्वविद्यालय प्रबंधन ने विरोध और हड़ताल पर उतरे छात्रों को सख्त चेतावनी दी है। विवि का कहना है कि यदि विद्यार्थी हड़ताल से वापस नहीं लौटे तो उनका दाखिला रद्द कर दिया जाएगा।

नई दिल्ली। फीस बढ़ोतरी के खिलाफ जवाहर लाल नेहरू यूनिवर्सिटी स्टूडेंट्स का छात्रों ने संसद मार्च निकाला है। इस मार्च का लखनऊ यूनिवर्सिटी के छात्र भी समर्थन कर रहे हैं। जेएनयू के छात्रों ने संसद तक मार्च निकाला। इस दौरान यूनिवर्सिटी गेट पर 1200 पुलिसकर्मी तैनात थे। इस दौरान छात्र उग्र हो गये और बैरिकेड भी तोड़ दिये तो पुलिस ने लाठी चार्ज कर कई छात्रों को हिरासत में भी लिया। वहीं छात्रों के मार्च को देखते हुए दिल्ली के कई मेट्रो स्टेशनों को भी बंद कर दिया गया है। फीस बढ़ोतरी के खिलाफ जेएनयू के छात्र पहले दिन से प्रदर्शन कर रहे हैं, वहीं आज से जब संस​द के शीतकालीन सत्र की शुरूवात हुई तो दो से तीन हजार स्टूडेंट मार्च निकाल रहे हैं। इस दौरान प्रशासन पहले से ही मुस्तैद था और जेएनयू के पास 3 बैरिकेड लगा दिये गये थे। लेकिन छात्रों ने तीनो बैरिकेड तोड़ डाले और खूब हंगामा किया। इसके बाद छात्रों का मार्च भीकाजी कामा प्लेस फ्लाईओवर तक पहुंच गया। प्रदर्शनकारी छात्रों का कहना है कि हमारी मांगें नहीं मानी जा रही है इसलिए हम संसद तक मार्च निकालेंगें।इस मौके पर छात्रों ने मांग रखी कि बढ़ाई गई फीस पूरी तरह से वापस ली जाए। जिस दौरान छात्रों ने बैरिकेड तोड़े उस दौरान कई छात्रों को पुलिस ने हिरासत में भी ले लिया। इस दौरान पुलिस के साथ साथ सीआरपीएफ के जवान भी मौजूद हैं। दिल्ली पुलिस के अधिकारियों का कहना है कि जेएनयू छात्रों को पार्लियामेंट तक नहीं जाने दिया जाएगा। पार्लियामेंट के आसपास धारा-144 लगां दी गयी हैं। वहीं मानव संसाधन विकास (एचआरडी) मंत्रालय ने सोमवार को तीन सदस्यीय एक समिति गठित की, जो जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) की सामान्य कार्यप्रणाली बहाल करने के तरीकों पर सुझाव देगी। दूसरी ओर विश्वविद्यालय प्रबंधन ने विरोध और हड़ताल पर उतरे छात्रों को सख्त चेतावनी दी है। विवि का कहना है कि यदि विद्यार्थी हड़ताल से वापस नहीं लौटे तो उनका दाखिला रद्द कर दिया जाएगा।