JNU हिंसा: ‘Free Kashmir’ वाले पोस्टर पर बोली शिवसेना- भारत से कश्मीर की आजादी नहीं बर्दाश्त

sanjay raut
JNU हिंसा: 'Free Kashmir' वाले पोस्टर पर बोली शिवसेना- भारत से कश्मीर की आजादी नहीं बर्दाश्त

नई दिल्ली। जवाहर लाल नेहरू यूनिवर्सिटी कैंपस के भीतर रविवार शाम दो गुटों में हुई हिंसा के बाद लगातार पूरे देश में प्रदर्शनों का दौर जारी है। जहां एक तरफ जेएनयू के छात्र विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं वहीं इस पर सियासत भी शुरू हो गयी है। इसी हिंसा को लेकर मुंबई के गेटवे ऑफ इंडिया पर प्रदर्शन के दौरान जब ‘Free Kashmir’ के पोस्टर लगाये गये तो शिवसेना ने कहा कि अगर ये पोस्टर भारत से कश्मीर की आजादी के लिए हैं तो ये बर्दाश्त नही करेंगे।

Jnu Violence Shiv Sena Bids On Free Kashmir Poster Kashmirs Independence From India Not Tolerated :

रविवार को हुई हिंसा के बाद सोमवार को देश के कोने कोने में विरोध प्रदर्शन चल रहे थे, वहीं कुछ लोगों ने मुबई के गेट वे आफ इंडिया पर भी आजाद कश्मीर का पोस्टर लगाकर प्रदर्शन शुरू कर दिया। जैसे ही इसको लेकर बवाल मचा तो पुलिस हरकत में आयी और जैसे तैसे मंगलवार सुबह प्रदर्शन समाप्त करवाया गया। वहीं बीजेपी नेता किरीट सोमैया ने ‘फ्री कश्मीर’ वाले पोस्टर के खिलाफ पुलिस में शिकायत दर्ज कराई है।

जब महाराष्ट्र के पूर्व सीएम व भाजपा नेता देवेन्द्र फडणवीस ने इस पोस्टर को लेकर सीएम उद्धव ठाकरे पर निशाना साधते हुए पूछा कि ‘क्या आप इसे बर्दाश्त करेंगे?’ तो शिवसेना नेता संजय राउत ने जबाब दिया कि ‘मैंने समाचार पत्र में पढ़ा है कि ‘मुक्त कश्मीर’ पोस्टर पकड़ने वालों ने स्पष्ट किया है कि वे इंटरनेट सेवाओं, मोबाइल सेवाओं और अन्य मुद्दों पर लगी प्रतिबंध से आजादी की बात कर रहे हैं.’ साथ ही उन्होंने कहा कि हालांकि, अगर कोई भारत से कश्मीर की आजादी की बात करता है तो इसे बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

आपको बता दें कि जेएनयू में रविवार को लेफ्ट समर्थक छात्रों व एबीवीपी के छात्रों के बीच झगड़ा हुआ था, वहीं इस दौरान कुछ नकाबपोश जेएनयू कैंपस के अन्दर घुसे थे और जमकर मारपीट की थी। इस दौरान दोनो गुटों के छात्रों को चोट आयी थी और दोनो ने एक दूसरे पर ही आरोप लगाया था। सोमवार को इस मामले में सियासत गरमा गयी और बीेजेपी व आरएसएस पर विपक्ष ने आरोप लगाना शुरू कर दिया। वहीं जब महाराष्ट्र सीएम उद्धव ठाकरे से इस बारे में पूछा गया तो उन्होने इस हमले को 26 11 हमले से जोड़ दिया।

नई दिल्ली। जवाहर लाल नेहरू यूनिवर्सिटी कैंपस के भीतर रविवार शाम दो गुटों में हुई हिंसा के बाद लगातार पूरे देश में प्रदर्शनों का दौर जारी है। जहां एक तरफ जेएनयू के छात्र विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं वहीं इस पर सियासत भी शुरू हो गयी है। इसी हिंसा को लेकर मुंबई के गेटवे ऑफ इंडिया पर प्रदर्शन के दौरान जब 'Free Kashmir' के पोस्टर लगाये गये तो शिवसेना ने कहा कि अगर ये पोस्टर भारत से कश्मीर की आजादी के लिए हैं तो ये बर्दाश्त नही करेंगे। रविवार को हुई हिंसा के बाद सोमवार को देश के कोने कोने में विरोध प्रदर्शन चल रहे थे, वहीं कुछ लोगों ने मुबई के गेट वे आफ इंडिया पर भी आजाद कश्मीर का पोस्टर लगाकर प्रदर्शन शुरू कर दिया। जैसे ही इसको लेकर बवाल मचा तो पुलिस हरकत में आयी और जैसे तैसे मंगलवार सुबह प्रदर्शन समाप्त करवाया गया। वहीं बीजेपी नेता किरीट सोमैया ने 'फ्री कश्मीर' वाले पोस्टर के खिलाफ पुलिस में शिकायत दर्ज कराई है। जब महाराष्ट्र के पूर्व सीएम व भाजपा नेता देवेन्द्र फडणवीस ने इस पोस्टर को लेकर सीएम उद्धव ठाकरे पर निशाना साधते हुए पूछा कि 'क्या आप इसे बर्दाश्त करेंगे?' तो शिवसेना नेता संजय राउत ने जबाब दिया कि 'मैंने समाचार पत्र में पढ़ा है कि 'मुक्त कश्मीर' पोस्टर पकड़ने वालों ने स्पष्ट किया है कि वे इंटरनेट सेवाओं, मोबाइल सेवाओं और अन्य मुद्दों पर लगी प्रतिबंध से आजादी की बात कर रहे हैं.' साथ ही उन्होंने कहा कि हालांकि, अगर कोई भारत से कश्मीर की आजादी की बात करता है तो इसे बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। आपको बता दें कि जेएनयू में रविवार को लेफ्ट समर्थक छात्रों व एबीवीपी के छात्रों के बीच झगड़ा हुआ था, वहीं इस दौरान कुछ नकाबपोश जेएनयू कैंपस के अन्दर घुसे थे और जमकर मारपीट की थी। इस दौरान दोनो गुटों के छात्रों को चोट आयी थी और दोनो ने एक दूसरे पर ही आरोप लगाया था। सोमवार को इस मामले में सियासत गरमा गयी और बीेजेपी व आरएसएस पर विपक्ष ने आरोप लगाना शुरू कर दिया। वहीं जब महाराष्ट्र सीएम उद्धव ठाकरे से इस बारे में पूछा गया तो उन्होने इस हमले को 26 11 हमले से जोड़ दिया।