पहाड़ी की चोटी से कूदी 17 वर्षीय छात्रा, हाथ पर चाकू से बनी मिली Blue Whale

नई दिल्ली। सुसाइड गेम ‘ब्लू व्हेल(Blue Whale)’ ने एक बार फिर 17 वर्षीय छात्रा को अपना शिकार बनाया। मामला राजस्थान के जोधपुर का है। यहां एक छात्रा ने पहाड़ की चोटी से छलांग लगा दी। मौके पर मौजूद पुलिसकर्मियों ने छात्रा को गोताख़ोरों की मदद से बचा लिया है। पुलिस की मुताबिक छात्रा के हाथ पर ब्लू व्हेल का चित्र चाकू से बनाया गया है। पूछताछ में पता चला कि छात्रा ब्लू व्हेल गेम के आखिरी टास्क को पूरा करने जा रही थी।

मिली जानकारी के मुताबिक जोधपुर में बीएसएफ़ जवान की 17 वर्षीय बेटी रात में घर से बाजार जाने की बात कहकर निकली थी। काफी देर तक घर वापस ना आने पर परिजनों ने उसका नंबर मिलाया। फोन किसी अंजान सख्स ने उठाया, जिसके बाद परिजनों ने छात्रा की तलाश शुरू की। उधर, पुलिस को सूचना मिली कि कोई लड़की कल्याण झील के पास काफी देर से स्कूटी से चक्कर लगा रही है।
मौके पर पहुंची पुलिस ने जब छात्रा को आवाज लगाई तो छात्र ने चोटी से छलांग लगा दी। पुलिस ने गोताखोरों की मदद से छात्रा को बचा लिया। पुलिस की पूछताछ में छात्रा ने बताया कि उसे ब्लू व्हेल गेम का टास्क पूरा करना था। पुलिस ने छात्रा को परिजनों के सुपुर्द कर दिया है।
तमिलनाडु में छात्र कर चुका सुसाइड-
तमिलनाडु के मदुरई जिले के थिरुमंगलम में रहने वाले 19 वर्षीय छात्र विग्नेश का शव अपने ही घर में फांसी के फंदे पर लटका मिला था। परिजनों ने विग्नेश की बांह पर बने ब्लू व्हेल लिखा देखा तो उनके होश उड़ गए। जिसके बाद परिजनों ने पुलिस को सूचना दी गई। बताया जा रहा है कि विग्नेश ने सुसाइड से पहले एक सुसाइड नोट भी लिखा है। जिसमें उसने कहा है कि ब्लू व्हेल एक गेम नहीं बल्कि खतरा है। इसमें जो एक बार घुस गया वह कभी वापस नहीं निकल सकता उसका मरना तय है।

{ यह भी पढ़ें:- खबर का असर: 1000 करोड़ की बंद अमृत योजनाओं की पुनर्समीक्षा करेगा जल निगम }

पुलिस ने विग्नेश की सुसाइड नोट को ध्यान में रखते हुए उसके दोस्तों से भी मुलाकात कर पूछ ताछ की है। जिसमें सामने आया है कि पिछले कुछ दिनों से विग्नेश गुमसुम सा रहता था। वह दोस्तों से कटा और मोबाइल में व्यस्त रहता था।

यूपी में भी ब्लू व्हेल की दस्तक-

{ यह भी पढ़ें:- राजस्थान के राजसमंद में मारे गए श्रमिक के परिवार से मिलने पहुंचे बंगाल के मंत्री व नेता }

हमीरपुर जिले के मौदहा गांव में एक 13 वर्षीय बालक ने खुद को फांसी के फंदे पर लटका लिया। पुलिस के मुताबिक बालक की सुसाइड के पीछे की वजह ब्लू व्हेल चैलेंज है। मृतक के माता पिता ने भी पिछले कुछ दिनों से उसके मोबाइल पर गेम खेलने की बात की पुष्टि की है।

आपको बता दें कि इससे पहले भी भारत में कई बच्चे ब्लू व्हेल चैलेंज गेम के चलते सुसाइड कर चुके हैं। इस गेम की परिणामों को देखते हुए केन्द्र सरकार ने इस गेम को वैन करने की प्रक्रिया भी शुरू की थी, लेकिन उत्तर प्रदेश में सामने आए नए मामले ने स्पष्ट कर दिया है कि ब्लू व्हेल कहीं न कहीं आज भी बच्चों की आत्महत्याओं का कारण बन रहा है।

{ यह भी पढ़ें:- छात्राओं को अक्सर छेड़ता था मनचला, परिजनों ने धुनाई के बाद पुलिस को सौंपा }

Loading...