1. हिन्दी समाचार
  2. दिल्ली
  3. Johnson & Johnson ने वैक्सीन ट्रायल का आवेदन लिया वापस, भारत में वैक्सीनेशन अभियान को झटका

Johnson & Johnson ने वैक्सीन ट्रायल का आवेदन लिया वापस, भारत में वैक्सीनेशन अभियान को झटका

Johnson & Johnson Corona Vaccine भारत में अमेरिकी कंपनी जॉनसन एंड जॉनसन(Johnson & Johnson) ने अपनी कोरोना वैक्सीन (Corona Vaccine) के ट्रायल (Trial ) की जल्द मंजूरी पाने के लिए किया आवेदन वापस ले लिया है। हालांकि कंपनी ने इसके पीछे की वजह सार्वजनिक नहीं की है। यह जानकारी सोमवार को भारतीय दवा नियामक (DCGI) ने दी। बता दें कि जॉनसन एंड जॉनसन ने इस साल अप्रैल में अपने वैक्सीन के ट्रायल (vaccine trial) भारत में करने के लिए आवेदन किया था। 

By संतोष सिंह 
Updated Date

नई दिल्ली। Johnson & Johnson Corona Vaccine भारत में अमेरिकी कंपनी जॉनसन एंड जॉनसन(Johnson & Johnson) ने अपनी कोरोना वैक्सीन (Corona Vaccine) के ट्रायल (Trial ) की जल्द मंजूरी पाने के लिए किया आवेदन वापस ले लिया है। हालांकि कंपनी ने इसके पीछे की वजह सार्वजनिक नहीं की है। यह जानकारी सोमवार को भारतीय दवा नियामक (DCGI) ने दी है। बता दें कि जॉनसन एंड जॉनसन ने इस साल अप्रैल में अपने वैक्सीन के ट्रायल (vaccine trial) भारत में करने के लिए आवेदन किया था।

पढ़ें :- West Bengal Assembly By-polls : बीजेपी ने स्‍टार प्रचारकों की सूची जारी की , जानें कौन-कौन है शामिल?
Jai Ho India App Panchang

कंपनी ने इस बारे को कोई आधिकारिक टिप्पणी नहीं की है। बता दें कि भारत इस समय  सुरक्षा के मुद्दों पर टीका निर्माताओं के साथ कानूनी चुनौतियों का सामना कर रहा है। स्वास्थ्य राज्य मंत्री भारती प्रवीण पवार(Minister of State for Health Bharti Praveen Pawar)  ने बीते दिनों कहा था कि एक टीका निर्माताओं से बातचीत के लिए एक दल का गठन किया गया है। ये मुद्दे फाइजर, मॉडर्ना और जॉनसन एंड जॉनसन के साथ हैं।

बता दें कि भारत में अभी तक चार कोरोना वायरस (corona virus) रोधी टीकों को इस्तेमाल की अनुमति दी है। इनमें भारत बायोटेक Bharat Biotech की स्वदेशी वैक्सीन कोवाक्सिन (Indigenous vaccine covacin), ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका की कोविशील्ड(Oxford-AstraZeneca’s Coveshield), रूस की स्पूतनिक वी (Russia’s Sputnik V) और मॉडर्ना की वैक्सीन (Moderna’s Vaccine) शामिल हैं। बता दें कि अमेरिकी कंपनी मॉडर्ना के टीके को डीसीजीआई ने जून में ही आपात इस्तेमाल के लिए अनुमति दी थी।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...