त्रिपुरा में अपहरण के बाद पत्रकार की हत्या

त्रिपुरा में अपहरण के बाद पत्रकार की हत्या

नई दिल्ली। त्रिपुरा के पश्चिमी त्रिपुरा जिले में इंडिजीनस पीपुल्स फ्रंट आॅफ त्रिपुरा (आईपीएफटी) द्वारा चलाए जा रहे अंदोलन को कवर करने पहुंचे एक स्थानीय पत्रकार की संदिग्ध परिस्थितियों में चाकू से गोदकर मौत के घाट उतार दिया। मृत पत्रकार नाम शांतनु भौमिक बताया जा रहा है जो त्रिपुरा के स्थानीय हिन्दी न्यूज चैनल ‘दिनरात’ के लिए रिपोर्टिंग कर रहा था।

मिली जानकारी के मुताबिक शांतनु जिले के मंडई में आईपीएफटी के आंदोलन के तहत किए जा रहे प्रदर्शन और सड़क जाम को कवर करने के लिए पहुंचे थे। जहां से पहले शांतनु पर हमला हुआ और उसे अगवा किया गया।

{ यह भी पढ़ें:- इंसाफ की लड़ाई के लिए विचारधारा का तड़का जरूरी है }

पुलिस का कहना है कि शांतनु के अपहरण की सूचना पर पुलिस द्वारा की गई कार्रवाई में शांतनु घायल अवस्था में मिला था। उसके शरीर पर चाकू से कई हमले किए गए थे। उसकी हालत को देखते हुए पुलिस ने शांतनु को इलाज के लिए अगरतला के मेडिकल कालेज में भर्ती करवाया, लेकिन गुरुवार को इलाज के दौरान उसने दम तोड़ दिया।

वहीं त्रिपुरा सरकार ने पत्रकार की हत्या की निंदा करते हुए शोक व्यक्त किया। बताया जा रहा है कि घटना की सूचना मिलने के बाद त्रिपुरा के सूचना एवं जनसम्पर्क मंत्री भानूलाला साहा ने शांतनु की हालत का जायजा लेने के लिए अस्पताल का दौरा भी किया था।

{ यह भी पढ़ें:- गौरी लंकेश की हत्या के पीछे कहीं नक्सलियों का हाथ तो नहीं, जाने क्यों... }

स्थानीय पुलिस का कहना है कि मंडई में बढ़ते तनाव को देखते हुए धरा 144 लागू कर दी गई है। इलाके में शांतिव्यवस्था को जल्द बहाल किया जा सके इसके लिए अगले 24 घंटे के लिए तमाम इंटरनेट सेवाओं को बंद कर दिया गया है।