14 दिन के लिए बढ़ी पी चिदंबरम की न्यायिक हिरासत, 11 दिसंबर तक रहेंगे जेल में

Judicial custody of P. Chidambaram
14 दिन के लिए बढ़ी पी चिदंबरम की न्यायिक हिरासत, 11 दिसंबर तक रहेंगे जेल में

नई दिल्ली। INX मीडिया मनी लॉन्ड्रिंग मामले में कांग्रेस नेता पी. चिदंबरम की न्यायिक हिरासत अब 14 दिन और बढ़ा दी गयी है। अब पी चिदंबरम को 11 दिसंबर तक जेल में ही रहना होगा। दिल्ली के एक कोर्ट ने बुधवार को प्रवर्तन निदेशालय द्वारा दर्ज INX मीडिया मनी लॉन्ड्रिंग मामले में सुनवाई करते हुए ये फैसला सुनाया।

Judicial Custody Of P Chidambaram Extended For 14 Days To Remain In Jail Till December 11 :

ईडी ने चिदंबरम की न्यायिक हिरासत की अवधि 14 दिन बढ़ाने की मांग की थी जिसके बाद विशेष न्यायाधीश अजय कुमार कुहाड़ ने यह आदेश दिया। ईडी का कहना है कि आज सुनवाई के दौरान ईडी की याचिका का दूसरी तरफ के वकील ने विरोध भी नही किया है। ईडी का कहना है कि अभी इस मामले की जांच चल रही है।

आपको बता दें कि 15 मई, 2017 को ईडी ने ये मामला दर्ज किया था। मामले में कहा गया था कि आईएनएक्स मीडिया पीवीटी लिमिटेड ने 4.62 करोड़ रुपये की स्वीकृत FDI राशि के मुकाबले लगभग 403.07 करोड़ रुपये का विदेशी निवेश प्राप्त किए थे। जांच के दौरान बताया गया था कि INX Media Pvt Ltd के निदेशक इंद्राणी मुखर्जी और पीटर मुखर्जी, पी चिदंबरम, तत्कालीन वित्त मंत्री और उनके बेटे कार्ति चिदंबरम सहित कई अधिकारी इसमें शामिल थे।

नई दिल्ली। INX मीडिया मनी लॉन्ड्रिंग मामले में कांग्रेस नेता पी. चिदंबरम की न्यायिक हिरासत अब 14 दिन और बढ़ा दी गयी है। अब पी चिदंबरम को 11 दिसंबर तक जेल में ही रहना होगा। दिल्ली के एक कोर्ट ने बुधवार को प्रवर्तन निदेशालय द्वारा दर्ज INX मीडिया मनी लॉन्ड्रिंग मामले में सुनवाई करते हुए ये फैसला सुनाया। ईडी ने चिदंबरम की न्यायिक हिरासत की अवधि 14 दिन बढ़ाने की मांग की थी जिसके बाद विशेष न्यायाधीश अजय कुमार कुहाड़ ने यह आदेश दिया। ईडी का कहना है कि आज सुनवाई के दौरान ईडी की याचिका का दूसरी तरफ के वकील ने विरोध भी नही किया है। ईडी का कहना है कि अभी इस मामले की जांच चल रही है। आपको बता दें कि 15 मई, 2017 को ईडी ने ये मामला दर्ज किया था। मामले में कहा गया था कि आईएनएक्स मीडिया पीवीटी लिमिटेड ने 4.62 करोड़ रुपये की स्वीकृत FDI राशि के मुकाबले लगभग 403.07 करोड़ रुपये का विदेशी निवेश प्राप्त किए थे। जांच के दौरान बताया गया था कि INX Media Pvt Ltd के निदेशक इंद्राणी मुखर्जी और पीटर मुखर्जी, पी चिदंबरम, तत्कालीन वित्त मंत्री और उनके बेटे कार्ति चिदंबरम सहित कई अधिकारी इसमें शामिल थे।