1. हिन्दी समाचार
  2. दिल्ली
  3. Kaali Poster Row : पोस्टर विवाद में कूदीं टीएमसी सांसद महुआ मोइत्रा, मां काली के बारे में दिया ये बयान

Kaali Poster Row : पोस्टर विवाद में कूदीं टीएमसी सांसद महुआ मोइत्रा, मां काली के बारे में दिया ये बयान

Kaali Poster Row : डॉक्युमेंट्री फिल्म 'काली' के आपत्तिजनक पोस्टर पर विवाद बढ़ता ही जा रहा है। अब इस विवाद की जल रही आग में घी डालने का काम अखिल भारतीय तृणमूल कांग्रेस की सांसद महुआ मोइत्रा (TMC MP Mahua Moitra) का बयान करता नजर आ रहा है। सांसद महुआ मोइत्रा ने कहा कि मेरे लिए काली, मांस खाने वाली, शराब स्वीकार करने वाली देवी है। उन्होंने कहा कि आपको अपनी देवी की कल्पना करने की स्वतंत्रता है।

By संतोष सिंह 
Updated Date

Kaali Poster Row : डॉक्युमेंट्री फिल्म ‘काली’ के आपत्तिजनक पोस्टर पर विवाद बढ़ता ही जा रहा है। अब इस विवाद की जल रही आग में घी डालने का काम अखिल भारतीय तृणमूल कांग्रेस की सांसद महुआ मोइत्रा (TMC MP Mahua Moitra) का बयान करता नजर आ रहा है। सांसद महुआ मोइत्रा ने कहा कि मेरे लिए काली, मांस खाने वाली, शराब स्वीकार करने वाली देवी है। उन्होंने कहा कि आपको अपनी देवी की कल्पना करने की स्वतंत्रता है। सांसद महुआ मोइत्रा (MP Mahua Moitra) ने तर्क देते हुए कहा कि कुछ स्थान हैं जहां देवताओं को व्हिस्की की पेशकश की जाती है, तो वहीं कुछ जगहों पर यह ईश-निंदा होगी।

पढ़ें :- Kaali Controversy : महुआ का पलटवार बोलीं- 'दीदी ओ दीदी ने उन्हें दिलवाया बूट, अब मां ओ मां उनके सीने पर रखेगी पैर'

आप देवी को ‘प्रसाद’ के रूप में व्हिस्की चढ़ाएंगे तो वह यूपी में  इसे ईशनिंदा कहेंगे

माेइत्रा ने कहा कि जब आप सिक्किम जाते हैं, तो आप देखेंगे कि वहां के लोग काली मां को व्हिस्की का भोग लगाते हैं, लेकिन अगर आप यूपी में जाएंगे और वहां यदि आप उनसे कहेंगे कि आप देवी को ‘प्रसाद’ के रूप में व्हिस्की चढ़ाएंगे तो वह इसे ईशनिंदा कहेंगे। महुआ मोइत्रा का यह बयान उस वक्त सामने आया है जब पूरे देश में लीना की डॉक्युमेंट्री ‘काली’ के एक पोस्टर पर बवाल मचा हुआ है। सोशल मीडिया पर लोग मेकर्स की गिरफ्तारी की मांग कर रहे हैं।

डॉक्युमेंट्री फिल्म ‘काली’ (Documentary film ‘Kaali’) के आपत्तिजनक पोस्टर पर यूपी व दिल्ली पुलिस ने भी निर्माताओं के खिलाफ धार्मिक भावनाओं को आहत करने के आरोप में प्राथमिकी दर्ज कर ली है। बता दें कि डॉक्युमेंट्री फिल्म ‘काली’ (Documentary film ‘Kaali’) के पोस्टर में मां काली बनी अभिनेत्री के एक हाथ में सिगरेट तो दूसरे हाथ में एलजीबीटीक्यू (LGBTQ) का झंडा दिखाया गया है। देवी का यह रूप देख हर कोई हैरान है। सोशल मीडिया पर यूजर्स मेकर्स पर धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाने का आरोप लगाते हुए उनकी गिरफ्तारी की मांग कर रहे हैं।

यूपी पुलिस ने हिंदू देवी-देवताओं के अपमानजनक चित्रण के लिए फिल्म ‘काली’ की निर्माता लीना मणिमेकलाई (Leena Manimekalai) के खिलाफ आपराधिक साजिश, पूजा स्थल पर अपराध, जानबूझकर धार्मिक भावनाओं को आहत करने के इरादे से शांति भंग करने के आरोप में प्राथमिकी दर्ज की।

पढ़ें :- New Controversy in Assam : भगवान 'शिवजी' व 'पार्वती' का रूप धारण कर ऐसा किया नाटक,पहुंच गए जेल,जानें पूरा मामला

वहीं दिल्ली पुलिस (Delhi Police) की IFSO इकाई ने काली फिल्म से संबंधित एक विवादास्पद पोस्टर के संबंध में IPC की धारा 153A और 295A के तहत प्राथमिकी दर्ज की है।

मणिमेकलाई ने एक ट्विटर पोस्ट में लिखा कि मेरे पास खोने के लिए कुछ नहीं है। जब तक मैं जीवित हूं, मैं एक ऐसी आवाज बनकर रहना चाहती हूं जो निडर होकर बोलती रहे। अगर इसकी कीमत मेरी जिंदगी है, तो इसे दिया जा सकता है। जब इस पर विवाद बढ़ने लगा तक लीना ने तमिल में पोस्ट शेयर कर लिखा कि इस फिल्म में दिखाया गया है कि एक शाम काली प्रकट होती हैं। वह टोरंटो की सड़कों पर घूमने लगती हैं। यदि आप इस फिल्म को देखेंगे तो आप मेरी गिरफ्तारी की मांग करने की बजाए मुझसे प्यार करने लगोगे।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...