काबुल में बंदूकधारी ने गुरुद्वारे में घुसकर किया हमला, 11 लोगों की मौत

kabul
काबुल में बंदूकधारी ने गुरुद्वारे में घुसकर किया हमला, 11 की मौत

नई दिल्ली। अफगानिस्तान (Afghanistan) की राजधानी काबुल (Kabul) में सिख (Sikh) धार्मिक स्थल पर हमले की खबर है। सूत्रों के मुताबिक सिख धार्मिक स्थल पर हुए हमले में सुसाइड बॉम्बर्स शामिल हैं। हमले में 11 लोगों की मौत हो गई है। जानकारी के मुताबिक यह हमला शोर बाजार स्थित गुरुद्वारे (gurdwara) में हुआ है।

Kabul Gunman Attacked In Gurudwara 11 Person Killed :

सूचना मिलते ही मौके पर स्पेशल फोर्स के जवान पहुंच गए और आतंकवादियों से मुठभेड़ जारी है। अफगान सुरक्षा बलों ने काबुल में सिख धार्मिक क्षेत्र की पहली मंजिल जहां सुरक्षा बल आतंकवादियों से लड़ रहे थे उस पर कब्जा कर लिया है। अफगानिस्तान मीडिया ने बताया कि इमारत के अंदर मौजूद कई लोगों को बचा लिया गया है। गौरतलब है कि अफगानिस्तान में बसा सिख समुदाय मुख्य रूप से जलालाबाद और काबुल में रहता है।

अफगानिस्तान में पहले भी हुए हैं सिखों पर हमले

बता दें अफगानिस्तान में पहले भी सिखों पर हमले हो चुके हैं। 1 जुलाई 2018 को जलालाबाद में सिखों को टारगेट कर किए गए आत्मघाती हमले में करीब 10 सिख मारे गए थे। आईएसआईएस की स्थानीय इकाई ने इस हमले की जानकारी ली थी।

इससे पहले 15 मार्च को अफगानिस्तान के कांधार प्रांत में तालिबान के हमले में सात पुलिसकर्मियों की मौत हो गई थी। प्रांतीय पुलिस के प्रवक्ता जमाल बारिकजई के मुताबिक झारी जिले के चरसखी इलाके में तड़के करीब 2 बजे यह आतंकी हमला हुआ था। बारिकजई ने कहा कि हमले के लिए जिम्मेदार तालिबान के आतंकी घटनास्थल से भाग निकले। हालांकि तालिबान ने हमले को लेकर कोई प्रतिक्रिया नहीं दी थी।

नई दिल्ली। अफगानिस्तान (Afghanistan) की राजधानी काबुल (Kabul) में सिख (Sikh) धार्मिक स्थल पर हमले की खबर है। सूत्रों के मुताबिक सिख धार्मिक स्थल पर हुए हमले में सुसाइड बॉम्बर्स शामिल हैं। हमले में 11 लोगों की मौत हो गई है। जानकारी के मुताबिक यह हमला शोर बाजार स्थित गुरुद्वारे (gurdwara) में हुआ है। सूचना मिलते ही मौके पर स्पेशल फोर्स के जवान पहुंच गए और आतंकवादियों से मुठभेड़ जारी है। अफगान सुरक्षा बलों ने काबुल में सिख धार्मिक क्षेत्र की पहली मंजिल जहां सुरक्षा बल आतंकवादियों से लड़ रहे थे उस पर कब्जा कर लिया है। अफगानिस्तान मीडिया ने बताया कि इमारत के अंदर मौजूद कई लोगों को बचा लिया गया है। गौरतलब है कि अफगानिस्तान में बसा सिख समुदाय मुख्य रूप से जलालाबाद और काबुल में रहता है। अफगानिस्तान में पहले भी हुए हैं सिखों पर हमले बता दें अफगानिस्तान में पहले भी सिखों पर हमले हो चुके हैं। 1 जुलाई 2018 को जलालाबाद में सिखों को टारगेट कर किए गए आत्मघाती हमले में करीब 10 सिख मारे गए थे। आईएसआईएस की स्थानीय इकाई ने इस हमले की जानकारी ली थी। इससे पहले 15 मार्च को अफगानिस्तान के कांधार प्रांत में तालिबान के हमले में सात पुलिसकर्मियों की मौत हो गई थी। प्रांतीय पुलिस के प्रवक्ता जमाल बारिकजई के मुताबिक झारी जिले के चरसखी इलाके में तड़के करीब 2 बजे यह आतंकी हमला हुआ था। बारिकजई ने कहा कि हमले के लिए जिम्मेदार तालिबान के आतंकी घटनास्थल से भाग निकले। हालांकि तालिबान ने हमले को लेकर कोई प्रतिक्रिया नहीं दी थी।