चाय की चुस्की बनी मौत का कारण

पटना: मौत कब, किस घड़ी आ जाए, किस रूप में आ जाए, किसे पता ? अब क्या दसौती देवी ने कभी सपने में भी सोचा होगा कि यह चाय की चुस्की ही मेरे और कई अन्य लोगों के मौत का कारण बनेगी, पर भगवान को शायद यही मंजूर था। बिहार के कैमूर जिले में सोमवार देर शाम चाय पीने के बाद तबीयत खराब होने के दो लोगों की मौत हो गई जबकि छह लोग अभी भी अस्पताल मे मौत से जंग लड़ रहे है। जिनकी हालत अभी भी गंभीर बनी हुई है।




मामला कैमूर जिले की कुढ़नी थाना के सोतवां गांव की है। प्राप्त जानकारी के अनुसार गांव की बुजुर्ग दसौती देवी के यहां शादी की बात को लेकर कुछ रिश्तेदार आये हुए थे। मेहमानों की मेहमान-नवाज़ी के लिए दसौती देवी चाय बनाने लगी तभी उन्होने गलती से चायपत्ती की जगह कीटनाशक दवा ‘थाइमेट’ (कृषि में इस्तेमाल होने वाला) गलती से चाय में डाल दी। दसौती देवी की चाय को वहां मौजूद सभी लोगों ने पीया उस चाय को पीने के कुछ ही देर बाद पूरे परिवार मे कोहराम सा मच गया। क्योकि कुछ ही देर बाद जहरीली दवा शरीर में असर करने लगी और मौजूद लोगों की तबीयत बिगड़ने लगी। आनन फानन में सभी को रामगढ़ के एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया।




जानकारी के मुताबिक, दसौती देवी (65 साल) और उसकी बेटी सीता कुंवर (44 साल) की मौत हो गई है जबकि प्रमोद कुमार, विशाल कुमार, मंटू कुमार, मुकेश कुमार समेत 6 लोगों का अस्पताल में इलाज चल रहा है जिनकी हालत अभी भी नाजुक बतायी जा रही है। बताया जा रहा है कि यह एक महादलित परिवार है जो की बेहद गरीब है। इसी वजह से घर में खाना बनाने की जगह ही कृषि में प्रयोग करने वाला थाईमेट (कीटनाशक दवा) भी रखा हुआ था लिहाजा यह बड़ी घटना घटित हुई ।