Shardiya Navratri 2019: इस शुभ मुहूर्त में करें कलश स्थापना पूरी होगी मनोकामना

नवरात्र 2020: नवरात्रि के दिनों में भूल से भी न करें ये काम
नवरात्र 2020: नवरात्रि के दिनों में भूल से भी न करें ये काम

लखनऊ। मां दुर्गा का त्योहार नवरात्र इस बार 29 सितंबर से शुरू हो रहा है और 7 सितंबर यानी नवमी के दिन शारदीय नवरात्रि का समापन होगा। नवरात्र के इन नौ दिनों में मां दुर्गा के नौ रुपों की पूजा की जाती है। नवरात्र की शुरुआत प्रतिपदा को कलश स्थापना के साथ की जाती है। भक्त मां दुर्गा को प्रसन्न करने के लिए इन नौ दिनों में व्रत रखते हैं और सच्चे मन से पूजा अर्चना करते हैं। चलिए जानते हैं कलश स्थापना की शुभ मुहूर्त के बारे में….

Kalash Sthapana And Importance Of Shubh Muhurat :

कलश स्थापना का शुभ मुहूर्त

वैसे तो इस बार शाम तक प्रतिपदा होने से कलश स्थापना के लिए भक्तों के पास पर्याप्त समय रहेगा लेकिन सूर्योदय यानी सुबह 6.15 से लेकर 7.45 और दोपहर 11.25 से लेकर 12.45 तक का समय शुभ रहेगा।

ऐसे स्थापित करें कलश

  • नवरात्रि से एक दिन पहले घर को साफ कर लें।
  • इसके बाद नवरात्रि के दिन सभी पूजन सामग्री एक जगह रखकर लकड़ी की चौकी पर लाल कपड़ा बिछा दें।
  • इसके बाद मिट्टी के एक सकोरे में मिट्टी भर लें और फिर जौ, जल डाले और फिर इसके ऊपर जल से भरा हुआ कलश रख दें।
  • कलश के किनारे चारों तरह आम के पत्ते लगाकर इसे एक मिट्टी के दिए से ढंक दें।
  • इसके ऊपर लाल कपड़े से बंधा नारियल रखें।
  • साथ ही चौकी पर ही मां दुर्गा की प्रतिमा या फिर चित्र रखें।
  • चौकी पर या फिर किसी दूसरी जगह अखंड दीपक रख लें।
लखनऊ। मां दुर्गा का त्योहार नवरात्र इस बार 29 सितंबर से शुरू हो रहा है और 7 सितंबर यानी नवमी के दिन शारदीय नवरात्रि का समापन होगा। नवरात्र के इन नौ दिनों में मां दुर्गा के नौ रुपों की पूजा की जाती है। नवरात्र की शुरुआत प्रतिपदा को कलश स्थापना के साथ की जाती है। भक्त मां दुर्गा को प्रसन्न करने के लिए इन नौ दिनों में व्रत रखते हैं और सच्चे मन से पूजा अर्चना करते हैं। चलिए जानते हैं कलश स्थापना की शुभ मुहूर्त के बारे में.... कलश स्थापना का शुभ मुहूर्त वैसे तो इस बार शाम तक प्रतिपदा होने से कलश स्थापना के लिए भक्तों के पास पर्याप्त समय रहेगा लेकिन सूर्योदय यानी सुबह 6.15 से लेकर 7.45 और दोपहर 11.25 से लेकर 12.45 तक का समय शुभ रहेगा। ऐसे स्थापित करें कलश
  • नवरात्रि से एक दिन पहले घर को साफ कर लें।
  • इसके बाद नवरात्रि के दिन सभी पूजन सामग्री एक जगह रखकर लकड़ी की चौकी पर लाल कपड़ा बिछा दें।
  • इसके बाद मिट्टी के एक सकोरे में मिट्टी भर लें और फिर जौ, जल डाले और फिर इसके ऊपर जल से भरा हुआ कलश रख दें।
  • कलश के किनारे चारों तरह आम के पत्ते लगाकर इसे एक मिट्टी के दिए से ढंक दें।
  • इसके ऊपर लाल कपड़े से बंधा नारियल रखें।
  • साथ ही चौकी पर ही मां दुर्गा की प्रतिमा या फिर चित्र रखें।
  • चौकी पर या फिर किसी दूसरी जगह अखंड दीपक रख लें।