हिमाचल प्रदेश के राज्यपाल बनाये गये कलराज मिश्र, आचार्य देवव्रत गुजरात भेजे गए

kalraj mishra
हिमाचल प्रदेश के राज्यपाल बनाये गये कलराज मिश्रा, आचार्य देवव्रत गुजरात भेजे गए

नई दिल्ली। भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता कलराज मिश्र को हिमाचल प्रदेश का राज्यपाल नियुक्त किया गया है। वहीं, हिमाचल प्रदेश के मौजूदा गवर्नर आचार्य देवव्रत को गुजरात का राज्यपाल बनाया गया है। कलराज मिश्र को लेकर लंबे समय से अटकलें लगाईं जा रहीं थीं कि उन्हें राज्यपाल बनाया जायेगा। दोनों राज्यपालों की नियुक्ति को लेकर राष्ट्रपति ने आदेश जारी कर दिया है। दोनों के अपने-अपने राज्यों में पद संभालने के बाद नियुक्ति प्रभावी हो जाएगी।

Kalraj Mishra Made Himachal Pradeshs Governor :

बता दें कि, कलराज मिश्र बीजेपी के वरिष्ठ नेता हैं। वह तीन बार राज्यसभा के सांसद रहे हैं। 2014 के लोकसभा चुनाव के दौरान उन्होंने उत्तर प्रदेश की देवरिया लोकसभा सीट से चुनाव जीता था। हालांकि उन्होंने 2019 का चुनाव नहीं लड़ा। इसके पीछे उन्होंने पार्टी द्वारा अन्य जिम्मेदारी दिए जाने को कारण बताया था। मोदी सरकार के पहले कार्यकाल में कलराज मिश्रा कैबिनेट मंत्री थे।

उन्हें सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम की जिम्मेदारी सौंपी गई थी। उन्होंने सितंबर 2017 में पद से इस्तीफा दे दिया था। माना जाता है कि उन्हें राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ का मजबूत समर्थन प्राप्त है। कलराज मिश्र लखनऊ से विधायक भी रहे हैं।

नई दिल्ली। भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता कलराज मिश्र को हिमाचल प्रदेश का राज्यपाल नियुक्त किया गया है। वहीं, हिमाचल प्रदेश के मौजूदा गवर्नर आचार्य देवव्रत को गुजरात का राज्यपाल बनाया गया है। कलराज मिश्र को लेकर लंबे समय से अटकलें लगाईं जा रहीं थीं कि उन्हें राज्यपाल बनाया जायेगा। दोनों राज्यपालों की नियुक्ति को लेकर राष्ट्रपति ने आदेश जारी कर दिया है। दोनों के अपने-अपने राज्यों में पद संभालने के बाद नियुक्ति प्रभावी हो जाएगी। बता दें कि, कलराज मिश्र बीजेपी के वरिष्ठ नेता हैं। वह तीन बार राज्यसभा के सांसद रहे हैं। 2014 के लोकसभा चुनाव के दौरान उन्होंने उत्तर प्रदेश की देवरिया लोकसभा सीट से चुनाव जीता था। हालांकि उन्होंने 2019 का चुनाव नहीं लड़ा। इसके पीछे उन्होंने पार्टी द्वारा अन्य जिम्मेदारी दिए जाने को कारण बताया था। मोदी सरकार के पहले कार्यकाल में कलराज मिश्रा कैबिनेट मंत्री थे। https://www.youtube.com/watch?v=egnj_cGIY5w उन्हें सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम की जिम्मेदारी सौंपी गई थी। उन्होंने सितंबर 2017 में पद से इस्तीफा दे दिया था। माना जाता है कि उन्हें राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ का मजबूत समर्थन प्राप्त है। कलराज मिश्र लखनऊ से विधायक भी रहे हैं।