1. हिन्दी समाचार
  2. सबरीमाला मंदिर में प्रवेश करने वाली महिला को ससुराल वालों ने घर से निकाला

सबरीमाला मंदिर में प्रवेश करने वाली महिला को ससुराल वालों ने घर से निकाला

Kanaka Durga Who Entered Sabarimala Temple Told Not To Return To Her Husband House

By रवि तिवारी 
Updated Date

नई दिल्ली। केरल के सबरीमाला मंदिर में पहली बार प्रवेश पाकर इतिहास रचने वाली महिलाओं में से एक को उसके ससुराल वालों ने घर से निकाल दिया है। इसके पहले कनक दुर्गा की सास पर उनसे मारपीट का आरोप लगा था, जिसके बाद उन्हें कोझिकोडे मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराना पड़ा था। कनक दुर्गा (Kanaka Durga) ने अपने ससुराल वालों के खिलाफ पुलिस में शिकायत दर्ज कराई है। कनक ने इस मुद्दे को लेकर जिले के हिंसा संरक्षण अधिकारी के पास शिकायत दर्ज कराई है। शिकायत दर्ज कराने के बाद उसे अब पुलिस सुरक्षा के साथ एक सरकारी आश्रय गृह में स्थानांतरित कर दिया गया है।

पढ़ें :- नौतनवां:एक साथ उठी पति-पत्नी की अर्थिया,रो उठा पूरा नगर

दोनों महिलाओं के प्रवेश के बाद राज्य में भड़की थी हिंसा

कनकदुर्गा (39) ने महिला साथी बिंदु (40) के साथ 2 जनवरी को भगवान अयप्पा के दर्शन कर 800 साल पुरानी प्रथा को तोड़ा था। दोनों ने मंदिर में पूजा अर्चना भी की थी। इसके बाद पूरे राज्य में प्रदर्शन भड़क गए थे। वे सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद प्रवेश करने वाली पहली महिला थीं। कनकदुर्गा ने अपने ससुरालवालों के खिलाफ मामला दर्ज कराया है। पुलिस उन्हें अपने साथ उनके घर ले गई थी, लेकिन कनकदुर्गा के पति अपनी मां और दो बच्चों के साथ पहले ही कहीं और चले गए।

इससे पहले कनक दुर्गा (Kanaka Durga) ने अपनी सास पर मारपीट का आरोप लगाया था। सबरीमला मंदिर (Sabarimala temple) में भगवान अयप्पा के दर्शन के बाद कनकदुर्गा सुरक्षा कारणों से पिछले दो हफ्ते से छिपी हुईं थीं और 15 जनवरी को पेरिनथलमन्ना स्थित अपने घर पहुंची थीं।

पुलिस के अनुसार, घर में घुसने के साथ ही कनकदुर्गा की अपनी ससुराल वालों से बहस हो गई जो मंदिर में उसके प्रवेश का जोरदार विरोध कर रहे थे। पुलिस ने बताया था कि उनकी सास ने लकड़ी के फट्टे से कथित तौर पर पिटाई की और उन्हें बाद में अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा। उन्होंने बताया कि उन्हें सिर में चोट आई थी और मल्लपुरम जिले के एक सरकारी अस्पताल में भर्ती कराया गया था।

पढ़ें :- किसान आंदोलनः 10वें दौर की बातचीत बेनतीजा, 22 जनवरी को होगी अगली बैठक

गौरतलब है कि कनक दुर्गा (Kanaka Durga) और बिंदु आमिनी (Bindu Ammini) नाम की दो महिलाओं ने सबरीमाला मंदिर में बतौर महिला पहली बार भगवान अयप्पा के दर्शन किए थे। इन दोनों महिलाओं को राइट विंग ग्रुप की तरफ से धमकी मिल रही थी। इसको देखथे हुए इन्हें कोच्चि के एक गुमनाम जगह पर रखा गया था।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...